Machine Translator

लखनऊ का खूबसूरत जामा मस्जिद

लखनऊ

 04-03-2018 09:36 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

जामी का अर्थ है एक बड़ी मण्डली और जामी या जामा मस्जिद का अर्थ है कि मस्जिद जहाँ शुक्रवार को दोपहर की प्रार्थना के लिए बड़ी मण्डली या समुदाय इकठ्ठा हो। इसी के साथ यह ईद (इद-उल-फित्र) के त्यौहार पर सामूहिक प्रार्थना के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। हुसैनाबाद इमामबारा के दक्षिण-पश्चिम की ओर स्थित लम्बी मीनारों की बड़ी मस्जिद अभी भी जामा मस्जिद के नाम के रूप में जानी जाती है जो कि वास्तव में एक मिथ्या नाम है। वास्तव में, इस भव्य मस्जिद को अवध के तीसरे राजा मोहम्मद अली शाह (1837-1842) के आदेश पर बनाया गया था और उनका इरादा था कि इसका प्रयोग देश के शिया संप्रदाय की शुक्रवार की मस्जिद के रूप में किया जाए (1842-1857)। 1857 में आजादी की लड़ाई शुरू होने के बाद यह वास्तविक मस्जिद में कभी नहीं था, तब नमाज-ए-जुमा (शुक्रवार की नमाज) के स्थान को पुराने शहर में अकबरी दरवाजा के पास तहसीन की मस्जिद में स्थानांतरित कर दिया गया था। हुसैनाबाद और नदी के किनारे के पास के अन्य इलाकों को ब्रिटिश द्वारा खाली कराने के लिए मजबूर किया गया था और उन्हें शहर के अन्य हिस्सों में सुरक्षित स्थान पर भागना पड़ा।

दिलचस्प बात यह है कि 1842 में राजा जब नमाज शुरू करना चाहता था तब भी विवाद पैदा हो गया था, जब मस्जिद का आंशिक रूप से निर्माण हुआ था। मोहम्मद अली शाह ने प्रार्थना की अगुवाई करने के लिए नसीराबाद (जैस के निकट) के सईद दील्दर अली नकवी, सुल्तान-उल-उलेमा नामित शिया प्रमुख पुजारी, सईद मोहम्मद (1784-1867), घुफ्रान माब के पुत्र को आमंत्रित किया। उन्होंने इस बात से इनकार कर दिया कि प्रार्थना ऐसी जगह पर नहीं की जा सकती है जो विवादित थी। उन्होंने समझाया कि जिस जमीन पर मस्जिद का निर्माण किया जा रहा था, उसका एक हिस्सा एक नईम खान का था और उस भूमि के मालिक को भुगतान करने की राशि के बारे में कोई विवाद था जिसे उसने प्राप्त नहीं किया था। फकी-ए-जाफरी (शिया न्यायशास्त्र) के मुताबिक विवादित स्थल पर एक मस्जिद का निर्माण नहीं किया जा सकता है और भुगतान के मामले में संतोषजनक ढंग से हल होने तक वहां प्रार्थना करने के लिए अनुचित था। राजा ने इस मामले पर खेद व्यक्त किया और सुल्तान-उल-उलेमा को सौहार्दपूर्ण तरीके से मामला हल करने के लिए अनुरोध किया, जिसने बाद में दोनो विषय, जमीन के मालिक और शासक की संतुष्टि के लिए प्रयास किया। उसके बाद यह था कि शुक्रवार की नमाज की पेशकश के लिए पहली मण्डली 1842 में इस मस्जिद में आयोजित की गई थी। इससे पहले यह मण्डली नवाब आसफ-उद-दौला द्वारा बनाए गए असफी मस्जिद (बड़ा इमामबाड़ा परिसर में) में आयोजित की जाती थी।

साठ साल की उम्र में, पांच साल के एक संक्षिप्त कार्यकाल के बाद, मोहम्मद अली शाह की अवधि समाप्त हो गई, लेकिन जामा मस्जिद के निर्माण को पूरा करने के लिए वे अपनी पत्नी मल्काजहां के साथ दस लाख रूपये का प्रावधान नहीं कर पाये थे। और इस कारण यह मस्जिद कभी अपनी पूर्ण स्वरूप में नही आ सकी। पश्चिमी पक्ष के दो आंशिक रूप से निर्मित (और अपूर्ण) मीनारों से यह स्पष्ट है।

मस्जिद के दो प्रार्थना बरामदों की ओर जाने वाले केंद्रीय प्रवेश द्वार, रूमी दरवाजा के पश्चिमी तरफ की एक प्रति है, जिसमें मेहराब के संयोजन और एक मधुकोश स्वरुप बनाते हुए वर्चस्व बिन्दुओं की एक बुनाई शामिल है। प्रार्थना कक्ष के अंदर ऊंची छत और खंभे चमकदार ढंग से सजाए गए हैं और इन्हे फूलों से सजाया गया है। पश्चिम की ओर स्थित मेहराब में (प्रार्थना स्थान) कुरान के वचनों के सुलेखिक शिलालेखों को सजावटी प्लास्टर काम के साथ किया गया है।

पहले बरामदे के दक्षिण-पूर्व के कोने पर एक सीढ़ी छत के ऊपर की ओर जाती है, जहां से बड़े गुम्बद (गुंबद) और मस्जिद के जंगले पर पलस्तर का काम देखा जा सकता है। मीनारों के भीतर एक सीढ़ी पत्थर छतरी (छाता) के शीर्ष पर रखी जाती है। छतरी के समीप ऊंचाई पर होने के बाद, हुसैनाबाद और पुराने शहर के अन्य क्षेत्रों का एक ऐसा दृश्य मिलता है मानो किसी पक्षी की नज़र से शहर को देख रहे हों।

दूसरे प्रार्थना कक्ष में, पेशे इमाम (प्रार्थना का नेता) को मंजिल की एक खोखली जगह दी जाती है, ताकि भीड़ के दौरान वह किसी से ऊपर नहीं खड़ा हो। दूसरी ओर उनके अनुयायी, जो मस्जिद की क्षमता के मुकाबले बड़े पैमाने पर एकत्र होते हैं, इसलिए वे जमीनी स्तर पर खड़े हो सकते हैं। शिया अनुशासन के अनुसार, इमाम प्रार्थनाओं पर अपने अनुयायियों के ऊपर नहीं खड़ा होना चाहिए।

जामा मस्जिद एक दीवार की सीमा से घिरा हुआ था, लेकिन उन सभी को 1857-58 के संघर्ष में अंग्रेजों द्वारा ध्वस्त कर दिया गया था, साथ ही आसपास के आवासीय इमारतों के समीप बमबारी की गई थी। दिया गया प्रथम चित्र मुरलीधर प्रिन्टर (Murlidhar Printer) के द्वारा बनाया गया पोस्ट कार्ड है तथा दूसरा फोटोटॉइप प्रिन्टर बॉम्बे (Phototype Printer, Bombay) द्वारा।

1. इनक्रेडिबल लखनऊः ए विज़िटर्स गाइड, सैयद अनवर अब्बास
2. हिन्दुस्तान टाइम्स, सिटी स्कैन, ए टाइम हिस्ट्री, वेडनेस डे, 14.1.1998- ब्रीफ ट्राईस्ट विद फेम



RECENT POST

  • 1827 का लखनऊ एक विदेशी की यात्रा डायरी के मुताबिक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-11-2018 01:01 PM


  • सन 1770 और 1900 के बीच लखनऊ का इंग्लैंड पर प्रभाव
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     15-11-2018 03:23 PM


  • भारत और चीन के ऐतिहासिक संबंध का सफ़र
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     14-11-2018 03:52 PM


  • सरस्वती का असली अर्थ और इंडोनेशिया में होने वाली प्राचीन सरस्वती पूजा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-11-2018 12:28 PM


  • प्रथम विश्‍व युद्ध में भारतीय जवानों का बलिदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-11-2018 01:30 PM


  • अलीगंज का हनुमान मंदिर, हिन्दू मुस्लिम एकता का प्रतीक
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     11-11-2018 10:15 AM


  • कैसे एक वैज्ञानिक और एक संन्यासी ने मिलकर दी विज्ञान को एक नयी दिशा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     10-11-2018 10:00 AM


  • चलिए समझा जाए लखनऊ समझौते को गहराई से
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     09-11-2018 10:00 AM


  • सिर्फ शाररिक तौर पर ही नहीं दिमागी तौर पर भी भिन्न होते हैं लड़का और लड़की
    स्तनधारी

     08-11-2018 10:00 AM


  • हम क्यों भूल जाते हैं भगवान कुबेर का असली अर्थ धनतेरस के इस अवसर पर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     07-11-2018 12:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.