लखनऊ में अंग्रेजी वास्तुकला

लखनऊ

 16-03-2018 11:35 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

गॉथिक कला रोमनेस्क (Romanesque) कला से 12वीं शताब्दी में विकसित हुई और 16वीं शताब्दी के अंत तक चली। गॉथिक (Gothic) शब्द पुनर्जागरण काल के इतालवी लेखकों द्वारा गढ़ा गया था जिन्होंने रोमन साम्राज्य और इसकी शास्त्रीय संस्कृति को नष्ट करने वाले जंगली गोथिक जनजातियों को मध्ययुगीन वास्तुकला के आविष्कार का श्रेय दिया था और यह कहा था कि यह कला गैर शास्त्रीय और कुरूप है। इस शब्द ने 19वीं शताब्दी तक अपने अपमानजनक पलटाव को बरकरार रखा और पुनः इस गॉथिक वास्तुकला का एक सकारात्मक आलोचनात्मक पुनर्मूल्यांकन हुआ जिसमें इस धारणा को गलत ठहराया गया।

भारत में गोथिक कला को यूरोपीयों द्वारा लाया गया था। उन्होंने यहाँ पर इस कला का प्रचार व प्रसार किया। भारत में यह कला यहाँ की मूल कला से मिश्रित हुयी और इंडो सारसैनिक (Indo Saracenic) कला के रूप में विकसित हुयी। एक अन्य कला का भी प्रादुर्भाव यहाँ पर हुआ जिसे इंडो-ब्रिटिश कला के नाम से जाना जाता है, इस कला का प्रयोग कई गुम्बदों व छतरियों में किया गया है।

लखनऊ में अंग्रेजों का राज लम्बे समय तक रहा तथा यहाँ पर कई इमारतें विक्टोरियन गोथिक, सारसैनिक व पैलेडियन (Palladian) कला में बनायी गयी हैं। विक्टोरियन गोथिक में लखनऊ का क्राइस्ट गिरजाघर प्रमुखता से आता है। यहाँ का ला मार्टिनिएर कॉलेज (La Martiniere College) पैलेडियन कला का अद्भुत नमूना है। पैलेडियन कला का नाम इटली के एंड्रिया पैलाडियो के कार्यों के आधार पर रखा गया है।

इसकी कुछ विशेषताओं में सजावटी और अलंकृत छत, दीवारों पर चित्रकला, आग जलाने का स्थान आदि होता है। मध्य में एक ऊँची मीनार इस शैली की एक महत्वपूर्ण विशेषता है। इस शैली में खिड़कियाँ अर्ध गोलाई वाली होती हैं। इस प्रकार से भारत की बहुत कम इमारतें इस शैली की हैं या यूँ कहें न के बराबर इमारतें पैलेडियन शैली की हैं। यह तथ्य लखनऊ के वास्तु को भारत की वास्तुकला से भिन्न बनाता है।

1. मार्ग
2. http://history-world.org/gothic_art_and_architecture.htm
3. गोथिक आर्किटेक्चर पॉल फ्रैंकल, पॉल क्रोस्स्ली



RECENT POST

  • एक जंगली लड़के की दुविधा की कहानी है, फेरल (Feral)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 11:45 AM


  • एक नरभक्षी कलाकार जिसने बनाया था, नवाब असफ उद दौला का चित्र
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:25 AM


  • प्राचीन समय में शारीरिक रूप से संचालित किए जाते थे पंखे
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:00 AM


  • अप्रवासी भारतीयों का कोरोना महामारी से लड़ने में योगदान
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 10:00 AM


  • सार्वभौमिक अनुप्रयोग या प्रयोज्यता के विचार का समर्थन करती है सार्वभौमिकता की अवधारणा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 12:30 AM


  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, भारतीय पाक कला का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हैं, शरीर पर बाल रखने के सन्दर्भ में अनेकों दृष्टिकोण
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 10:00 AM


  • वांटाब्लैक (Vantablack) - इस ब्रह्माण्ड में मौजूद, काले से भी काला रंग
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-05-2020 10:50 AM


  • क्या है, ईद अल फ़ित्र से मिलने वाली सीख ?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:15 AM


  • भारत में कितनों के पास खेती के लिए खुद की जमीन है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-05-2020 09:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.