लखनऊ में पिछले 200 वर्षों में भूमि फैलाव

लखनऊ

 24-05-2018 02:29 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
लखनऊ उत्तर प्रदेश के प्रमुख शहर में से एक है तथा साथ ही साथ यह शहर उत्तर प्रदेश की राजधानी भी है। लखनऊ की स्थापना 18वीं शताब्दी में हुयी थी। अपने स्थापना के काल से ही यह शहर बहुतों को रोजगार मुहैया करने वाला बन गया था। यहाँ पर होने वाले विभिन्न इमारतों के निर्माण के बारे में पढ़ कर यह पुष्टि हो जाती है। उदाहरण के लिए भूल भुलैया को लिया जा सकता है। दूसरे शहर बनने के कारण लखनऊ शहर का विस्तार भी तेज़ी से हुआ। शुरूआती समय में लखनऊ शहर एक छोटे इलाके में फैला हुआ था पर समय के साथ साथ और उद्योगों के विकास के साथ-साथ इसका दायरा बढ़ना चालू हो गया। वर्तमान काल में लखनऊ शहर कुल 310 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। लखनऊ राज्य की राजधानी होने के कारण चारों तरफ से महामार्गों व रेल मार्गों से जुड़ा हुआ है। हाल में ही लखनऊ को मेट्रो का भी उपहार मिला है। लखनऊ दिन ब दिन बढ़ रहा है। लखनऊ शहर के बढ़ने का प्रमुख कारण यहाँ पर बढ़ती जनसंख्या है। जनसंख्या के 3 आंकड़ो से आसानी से यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि लखनऊ शहर किस गति से बढ़ रहा है। सन 1991 की गणना के अनुसार यहाँ की कुल आबादी 17 लाख के करीब थी जो 2001 में बढ़ कर करीब 22 लाख हो गयी और वर्तमान काल में इस शहर की आबादी 28 लाख है। इस प्रकार से उपस्थित आंकड़ो से हम यह अंदाजा लगा सकते हैं कि किस प्रकार से शहर में जनसंख्या विस्फोट हुआ। जनसँख्या बढ़ने से सीधा यह मतलब निकलता है कि शहर बढ़ेगा और ऐसे में उपनगरों का भी निर्माण होता है। सन 1901 से 2001 तक के प्राप्त आंकड़ों के अनुसार हम जब जनसँख्या का बढ़ाव देखते हैं तो निम्नलिखित आंकड़े हमारे सामने प्रस्तुत होते हैं-

1. 1901- 2,56,239
2. 1911- 2,52,114
3. 1921- 2,40,566
4. 1931- 2,74,659
5. 1941- 3,87,177
6. 1951- 4,96,177
7. 1961- 6,55,673
8. 1971- 8,13,982
9. 1981- 10,07,604
10. 1991- 16,69,204
11. 2001- 22,66,933
12. 2011- 28,17,105

इस प्रकार से हम देख सकते हैं कि लखनऊ में किस प्रकार से जनसंख्या का विस्फोट हुआ। लखनऊ में बड़ी जनसँख्या होने का प्रमुख कारण यह है कि यहाँ पर रोजगार की उपलब्धता है और इसी कारण यहाँ पर दूर-दूर से लोग आते रहते हैं। लखनऊ शहर की स्थापना बहुत ही उत्तम तरीके से की गयी थी और विश्व के जाने-माने वास्तुविद पेट्रिक गेडिस ने यहाँ की शहर संरचना का निर्माण किया था।

अब अगर लखनऊ में जमीन के प्रयोग की और इसकी बढ़त की बात करें तो निम्नलिखित जानकारी हमें प्राप्त होती है -

क्रमांकजमीन का उपयोग198719872004-052004-05बढ़ोतरी


क्षेत्र हेक्टेयरप्रतिशतक्षेत्र हेक्टेयरप्रतिशत
1रिहायशी5585.9848.91894554.9899.40
2व्यापारिक223.772.433602.2160.88
3औद्योगिक596.226.509906.0866.05
4कार्यालय474.695.205603.4417.97
5जन सुविधा902.029.8314108.6756.32
6उद्यान और खेलने के स्थान346.483.784352.6725.55
7ट्रैफिक952.0010.3812407.6230.25
8नदी और अन्य जलीय श्रोत193.662.113101.9160.07
9खुली भूमि996.1410.86202012.42102.78

कुल योग9170.96100.0020988.50100.0077.43


यदि लखनऊ शहर के फैलाव को देखा जाये तो 1901-2021 तक उपलब्ध आंकड़ो से यह देखा जा सकता है -

वर्षक्षेत्र वर्ग किलोमीटर मेंसालाना बढ़त प्रतिशत में
190144.03-
196179.161.32
197480.000.08
1986132.755.49
1988143.323.98
1992159.262.78
1997196.504.67
2001212.242.00
2005243.803.72
2011304.004.12
*2021 (अनुमान)414.343.62

इस प्रकार से हम देख सकते हैं कि किस प्रकार से समय के साथ साथ लखनऊ शहर का विस्तार हुआ। न्यू सर्वे ऑफ़ इंडिया द्वारा छापा गया टोपोशीट में लखनऊ शहर के विस्तार के बारे में विभिन्न जानकारी प्रस्तुत की गयी है। इस प्रकार से हम देख सकते हैं कि लखनऊ शहर ने किस प्रकार से वृहद स्तर पर विस्तार किया।

1. http://www.ijhssi.org/papers/v4(5)/Version-2/B0452011020.pdf



RECENT POST

  • पुस्तक 'कोर्टेसन्स ऑफ़ लखनऊ' का संक्षिप्त वर्णन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-02-2019 11:45 AM


  • स्पर्श भावना में होने वाले परिवर्तन और उनकी संवेदनशीलता
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     22-02-2019 11:36 AM


  • जलवायु परिवर्तन पर राष्ट्रीय कार्य योजना क्या है
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2019 11:44 AM


  • महात्मा गांधी जी के राष्ट्रभाषा पर विचार
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 11:59 AM


  • अवश्य करें इन योग पथों का अनुसरण
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-02-2019 12:17 PM


  • अवध की विशेष चित्रकला शैली
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-02-2019 12:29 PM


  • क्यों फेकता है स्कंक बदबूदार स्प्रे
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     17-02-2019 10:00 AM


  • जीवन की प्रणाली “दंड और पुरस्कार”
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:31 AM


  • लखनऊ का स्वादिष्ट व्यंजन “शीरमाल”
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 10:04 AM


  • कॉमिक “लव इस” की प्रेरणादायक कहानी
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-02-2019 12:55 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.