लखनऊ एवं पूर्ण उत्तर प्रेदेश के जंगल

लखनऊ

 18-06-2018 12:45 PM
जंगल

आज दुनिया की आबादी कल से 2,00,000 लोग ज़्यादा है। विश्व जनसंख्या घड़ी आपको वास्तविक समय में सीधा प्रसारण दिखाती है कि वास्तव में यह कितनी तेजी से दौड़ रही है। बढ़ती जनसंख्या का यह विकास पृथ्वी के संसाधनों पर भारी दबाव डालेगा और हमें जीवित रहने के अधिक स्थिर रास्ते खोजने होंगे, वो भी तेजी के साथ। इस समय दुनिया की आबादी 7.6 अरब है और गिनती लगातार जारी है।

भारत की वर्तमान आबादी 1,35,33,21,780 है। भारत की आबादी कुल विश्व जनसंख्या का 17.74 प्रतिशत के बराबर है। भारत जनसंख्या की दृष्टि से देशों और निर्भरताओं की सूची में दूसरे स्थान पर है। उत्तर प्रदेश का बहुसांस्कृतिक राज्य वर्तमान में भारत की कुल आबादी का 16 प्रतिशत है।

आर्थिक विकास और पारिस्थितिकीय स्थिरता में वन एक महत्तवपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वन मानव और अन्य जीव-जन्तुओं के लिए आवश्यक पर्यावरण और पारिस्थितिकीय स्थिरता जैसी कई सेवाएं प्रदान करते हैं। मानव जाति के कल्याण के लिए धरती पर वन आवश्यक हैं। वे सिर्फ हरे रंग की चादर या आवरण नहीं हैं, जिनसे हमें पृथ्वी को सुंदर बनाने की आवश्यकता है, बल्कि उनके अस्तित्व और निर्वाह के लिए उनके पास कई और अनिवार्य कार्य हैं। वे मानव जीवन के कई पहलुओं के लिए एक संसाधन के रूप में कार्य करते हैं। सभ्यता के विकास के लिए- खेतों, खानों, कस्बों और सड़क निर्माण के लिए बड़े क्षेत्रों को मंजूरी दे दी गई है। उत्तर प्रदेश, भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है।

उत्तर प्रदेश में 21,720 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में वन और पेड़ों का आवरण है, जो भौगोलिक क्षेत्र का 9.01 प्रतिशत है। उत्तर प्रदेश में मौजूदा वनस्पति को तीन श्रेणियों में बांटा गया है।

1. नम उष्णकटिबंधीय पर्णपाती वन
2. शुष्क उष्णकटिबंधीय पर्णपाती वन
3. कंटिले उष्णकटिबंधीय वन

उत्तर प्रदेश का भौगोलिक क्षेत्रफल 2,40,928 वर्ग किलोमीटर है, जो देश के कुल क्षेत्रफल का 7.3 प्रतिशत है। 1951 में अविभाजित उत्तर प्रदेश में दर्ज वन क्षेत्र 30,245 वर्ग किलोमीटर था। अतिरिक्त क्षेत्रों को धीरे-धीरे अधिसूचित किया गया था और 1998-99 तक 51,428 वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र और विस्तृत किया गया था। 1999 में उत्तराखण्ड को उत्तर प्रदेश से अलग किया गया था, जिस कारण उत्तर प्रदेश के हिस्से में केवल 16,888 वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र आया था। 2011 में वन विभाग के आंकड़ों के अनुसार, दर्ज वन क्षेत्र 16,583 वर्ग किलोमीटर था, जो 1999 में दर्ज कुल वन क्षेत्र में से 305 वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र की गिरावट थी। उत्तर प्रदेश के मामले में बढ़ती मांगों और विकास को ध्यान में रखते हुए जैसे- सड़कों, सिंचाई, बिजली, पेयजल, खनन उत्पादों आदि के कारण वन आवरण क्षेत्र में भारी गिरावट आयी। इस विशाल भाग के अलावा वन भूमि के अवैध रूप से गैर वन उपयोगों पर अतिक्रमण कर दिया गया।

अक्टूबर 2008 से जनवरी 2009 तक सेटेलाईट द्वारा एकत्रित आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में अनुमानित वन आवरण क्षेत्र 14,338 वर्ग किलोमीटर है। जिसमें 1,626 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में बहुत घने वन, 4,559 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में मध्यम घने वन और 8,153 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में खुला वन है।

अगर हम बात करें उत्तर प्रदेश के लखनऊ जिले की तो लखनऊ, उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा शहर होने के साथ-साथ उत्तर प्रदेश की राजधानी भी है। 2018 के अंत तक लखनऊ की अनुमानित जनसंख्या आंकड़ा 3.4704 मिलियन हो सकता है।

वन आवरण की कमी के कारण वन संसाधनों, मिट्टी, जल संसाधनों और जैव-रासायनिक चक्रों के कामकाज पर स्पष्ट प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। राष्ट्रीय वन नीति निर्धारित करती है कि राष्ट्रीय लक्ष्य को वन आवरण के तहत देश की कुल भूमि क्षेत्र का न्यूनतम एक तिहाई होना चाहिए। पहाड़ी क्षेत्रों में कुल क्षेत्र का लक्ष्य वन आवरण के तहत 2/3 क्षेत्र को वन आवरण क्षेत्र होना चाहिए। उत्तर प्रदेश में 2011 के अनुसार 23.81 प्रतिशत राष्ट्रीय आवरण के लिए 9.01 प्रतिशत पर वन है।

सन् 2025 तक, विश्व की जनसंख्या 8 अरब लोगों से अधिक की होगी। लगभग 2040 में विश्व की जनसंख्या 9 अरब हो सकती है और 2100 तक यह आंकड़ा 11 अरब लोगों तक पहुंच सकता है। इस शताब्दी में विश्व अर्थव्यवस्था 26 गुना बढ़ सकती है और यह पृथ्वी के प्रकृति संसाधनों पर भारी दबाव डालेगा। जबकि हम पहले ही 160 प्रतिशत पर अधिक उपयोग कर रहे हैं।

यदि हम पृथ्वी पर उपलब्ध प्रकृति द्वारा दिये गये सीमित संसाधनों का उपभोग करने के तरीके को मूल रूप से बदलना शुरू नहीं करते हैं, तो हम निश्चित रूप से अपने उपभोक्ता समाज के पूर्ण पतन के लिए आगे बढ़ेंगे। वर्तमान प्रवृत्तियों पर पृथ्वी बहुत से लोग और 26 गुना बड़ी अर्थव्यवस्था को दोबारा संभाल नहीं सकती है।

हमें एक नई औद्योगिक क्रांति की आवश्यकता है, जहां आर्थिक संपत्ति, पर्यावरणीय और सामाजिक स्थिरता साथ-साथ और तेजी से चल सके। हम महत्तवपूर्ण पहलुओं वाले बिन्दुओं तक पहुंच रहे हैं, इससे पहले कि नकारात्मक प्रवृत्तियों को दूर करने में बहुत देरी हो जाएगी।

संदर्भ

1.http://www.theworldcounts.com/counters/shocking_environmental_facts_and_statistics/world_population_clock_live
2.https://www.worldometers.info/world-population/india-population/
3.http://countrymeters.info/en/India
4.http://www.indiaonlinepages.com/population/uttar-pradesh-population.html
5.http://indiapopulation2018.in/population-of-lucknow-2018.html
6.http://www.wealthywaste.com/forest-cover-in-uttar-pradesh-an-overview
7.http://upenvis.nic.in/database/forest_838.aspx



RECENT POST

  • महात्मा गांधी जी के राष्ट्रभाषा पर विचार
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 11:59 AM


  • अवश्य करें इन योग पथों का अनुसरण
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-02-2019 12:17 PM


  • अवध की विशेष चित्रकला शैली
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-02-2019 12:29 PM


  • क्यों फेकता है स्कंक बदबूदार स्प्रे
    व्यवहारिक

     17-02-2019 10:00 AM


  • जीवन की प्रणाली “दंड और पुरस्कार”
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:31 AM


  • लखनऊ का स्वादिष्ट व्यंजन “शीरमाल”
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 10:04 AM


  • कॉमिक “लव इस” की प्रेरणादायक कहानी
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-02-2019 12:55 PM


  • लखनऊ का रौज़ा काज़मैन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-02-2019 03:07 PM


  • नवाबों के शहर लखनऊ में नया गोल्फ कोर्स
    हथियार व खिलौने

     12-02-2019 04:40 PM


  • भारतीय शास्‍त्रीय संगीत गायन की प्रसिद्ध शैली ठुमरी
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     11-02-2019 04:43 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.