जामुन से जुड़े कुछ औषधीय फायदे

लखनऊ

 20-07-2018 01:18 PM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

जामुन का नाम सुनते ही सभी के मुख पर एक प्रसन्नता आ जाती है, काले-काले रसीले जामुन भला किसे नहीं भाते? जैसे ही गर्मी शुरू होती है, बाजार में आम के साथ जामुन की भी बाहार आ जाती है। थोड़े समय के लिए ही आने वाले जामुन की प्रकृति अम्लीय और कसैली होती है, लेकिन इसका स्वाद खाने में खट्टा मीठा होता है और यह स्वास्थ्य के लिए भी बहुत लाभदयक होते हैं। गर्मियों के आते ही लखनऊ में पके हुए गहरे नीले और काले रंग के जामुनों से लदे हुए वृक्षों का मनमोहक दृश्य देखने को मिलता है।

लखनऊ का कुल 4.66 प्रतिशत हिस्सा वनों से घिरा हुआ है, जिसमें शिशम, बबुल, नीम, पीपल, अशोक, खजूर, आम और जामुन प्रमुख हैं। जामुन के पेड़ लखनऊ में बागीचों से लेकर वनों तक आसानी से देखे जा सकते हैं, लखनऊ में यह बड़े पैमाने पर पाया जाता है, ये यहां की वनस्पति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जामुन एक सदाबहार पेड़ है, जामुन का वैज्ञानिक नाम ‘सिजीयम क्यूमिनी’ (Syzygium cumini) है तथा इसका संस्कृत नाम जंबू या महाफला है, अंग्रेजी में इसे ब्लैकबेरी तथा हिंदी में जामुन के नाम से जानते हैं। इसका वृक्ष लगभग 100 फीट लंबा और 12 फीट चौड़ा होता है तथा इसकी पत्तियां 3-6 इंच चौड़ी और 7-15 इंच लम्बी होती हैं।

कहा जाता है कि जामुन के वृक्ष का जिक्र सबसे पवित्र और प्राचीन ग्रंथ गणेश पुराण में मिलता है। भगवान श्री गणेश को अक्सर हाथों में मिठाई तथा जामुन और कपीथा के फल के साथ चित्रित किया जाता है। औषधीय रूप से भी इसका उपयोग विभिन्न देशों में भिन्‍न भिन्‍न रोगों से निजात पाने के लिये किया जाता है। जामुन एक अत्यंत आयुर्वेदिक गुणों वाला वृक्ष है, इसकी छाल, फल, बीज तथा पत्तियों में प्रचूर मात्रा में आयुर्वेदिक गुण से भरे होते हैं, जिनका उपयोग विभिन्न बीमारियों जैसे लू लगना, मधुमेह, ‌‌‌पेट की समस्याएं, ‌‌‌एनिमिया, मसूड़ों की समस्याएं, ‌‌‌‌लीवर की समस्याएं, ‌‌‌‌‌‌पत्थरी, ‌‌गठीया, त्वचा संबंधित रोग, उल्टी, रक्तस्राव, दस्त, एलर्जी, अस्थमा, खांसी, मुंह और गले से संबंधित समस्याएं आदि से निजात पाने में किया जाता है।

आम के आम और गुठलियों के दाम, यह कहावत तो आपने सुनी ही होगी, इसका एक उदाहरण जामुन को भी कह सकते हैं, जामुन जितना खाने में स्वादिष्ट होता है उतना ही लाभकारी होता है। जामुन में ग्लूकोज, फ्रुक्टोज एल्कलॉइड (alkaloid), गैलिक एसिड, फाइबर, जल, प्रोटीन, वसा, विटामिन B1, B2, B3, B6, कैल्शियम, लौह, जस्ता, पोटेशियम, सोडियम, फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

अतः एक औषधीय वृक्ष के रूप में हम इसे संरक्षण प्रदान कर लोगों को इसके फायदे के लिए जागरूक कर सकते हैं तथा लंबे समय तक इसके माध्‍यम से हमारे पर्यावरण को सुरक्षित रख सकते हैं।

संदर्भ:
1.
Dhiman, Anil Kumar. Ayurvedic Drug Plants. 2006
2.https://www.theayurveda.org/ayurveda/herbal-medicine/medicinal-benefits-of-black-plum-or-jambul-fruit
3.Berthe Hoola Van Nooten Strophanthus Dichotomus (Kombe), 1863



RECENT POST

  • स्पर्श भावना में होने वाले परिवर्तन और उनकी संवेदनशीलता
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     22-02-2019 11:36 AM


  • जलवायु परिवर्तन पर राष्ट्रीय कार्य योजना क्या है
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2019 11:44 AM


  • महात्मा गांधी जी के राष्ट्रभाषा पर विचार
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 11:59 AM


  • अवश्य करें इन योग पथों का अनुसरण
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-02-2019 12:17 PM


  • अवध की विशेष चित्रकला शैली
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-02-2019 12:29 PM


  • क्यों फेकता है स्कंक बदबूदार स्प्रे
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     17-02-2019 10:00 AM


  • जीवन की प्रणाली “दंड और पुरस्कार”
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:31 AM


  • लखनऊ का स्वादिष्ट व्यंजन “शीरमाल”
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 10:04 AM


  • कॉमिक “लव इस” की प्रेरणादायक कहानी
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-02-2019 12:55 PM


  • लखनऊ का रौज़ा काज़मैन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-02-2019 03:07 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.