जब भविष्य में बिकने लगेगी प्राणवायु

लखनऊ

 29-07-2018 12:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

वर्तमान में मनुष्य जिस गति से आगे बढ़ रहा है और तकनीकी विकसित कर रहा है, उसे देखते हुए यदि भविष्य की कल्पना की जाए तो भविष्य काफी उज्जवल दिखाई पड़ता है। परन्तु इस गति के चलते काफी हानियाँ भी मनुष्य को झेलनी पड़ रही हैं जिनमें से मुख्य है प्रदूषण। तो आइये आज देखते हैं ऐसी ही एक शोर्ट फिल्म (Short Film) जो मानव के संभावित भविष्य की कल्पना को प्रस्तुत करती है।

ऊपर दी गयी फिल्म का शीर्षक है ‘कार्बन’ (Carbon)। फिल्म में मुख्य किरदार निभाते हुए नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और जैकी भगनानी दिखाई देते हैं। यह फिल्म करीब 25 मिनट लम्बी है। जैसा कि नाम से ही अनुमान लगाया जा सकता है, इस फिल्म का मुख्य विषय है धरती पर बढ़ते प्रदूषण के चलते सन 2067 में धरती की अवस्था को दर्शाना। क्या आप सोच सकते हैं एक ऐसे समय के बारे में जब प्राणदायी ऑक्सीजन (Oxygen) भी एक उत्पाद के रूप में उपलब्ध होने लग जाए, जब ऑक्सीजन इतनी कीमती हो जाए कि उसकी तस्करी तक होने लगे। ऐसे ही एक समय की कल्पना इस फिल्म में की गयी है।

हाल ही में येल यूनिवर्सिटी (Yale University) और कोलंबिया यूनिवर्सिटी (Columbia University) ने नवीनतम एनवायरनमेंटल परफॉरमेंस इंडेक्स (Environmental Performance Index) प्रस्तुत किया। यह एक तरीका होता है किसी भी देश की पर्यावरणीय परिस्थिति को मापने और संख्यात्मक रूप से प्रस्तुत करने का। आप जानकार हैरान रह जाएंगे कि 180 देशों की इस सूची में भारत 177वें स्थान पर खड़ा होता है। इसी सूची में भारत ने वर्ष 2016 में 141वां स्थान पाया था। यदि सिर्फ वायु प्रदूषण की बात की जाये तो भारत 178वें स्थान पर आता है। इतना ही नहीं, डब्लू।एच।ओ। (World Health Organization) की एक रिपोर्ट के अनुसार विश्व के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में भारत का योगदान 14 शहरों का है जिनमें से दिल्ली के बाद लखनऊ ने ही स्थान ग्रहण कर रखा है।

तो क्लिक करें ऊपर दी गयी वीडियो पर और अपने रविवार में से 25 मिनट निकालकर इस महत्वपूर्ण विषय पर चिंतन करें।

संदर्भ:
1.https://www.youtube.com/watch?v=zMVpwc1nO2k
2.https://www.hindustantimes.com/india-news/india-4th-worst-country-in-curbing-environmental-pollution/story-VWjWupzHcy8H5VdNGbp32J.html
3.https://www.bbc.com/news/world-asia-india-43972155



RECENT POST

  • सार्वभौमिक अनुप्रयोग या प्रयोज्यता के विचार का समर्थन करती है सार्वभौमिकता की अवधारणा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 12:30 AM


  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, भारतीय पाक कला का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हैं, शरीर पर बाल रखने के सन्दर्भ में अनेकों दृष्टिकोण
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 10:00 AM


  • वांटाब्लैक (Vantablack) - इस ब्रह्माण्ड में मौजूद, काले से भी काला रंग
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-05-2020 10:50 AM


  • क्या है, ईद अल फ़ित्र से मिलने वाली सीख ?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:15 AM


  • भारत में कितनों के पास खेती के लिए खुद की जमीन है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-05-2020 09:55 AM


  • लॉक डाउन के तहत काफी प्रचलित हो गया है रसोई बागवानी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-05-2020 10:10 AM


  • क्या विकर्षक होते हैं, अत्यधिक प्रभावी रक्षक ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     20-05-2020 09:30 AM


  • कोरोनावायरस से लड़ने में यंत्र अधिगम और कृत्रिम बुद्धिमत्ता की भूमिका
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2020 09:30 AM


  • संग्रहालय के लिए क्यों महत्वपूर्ण होते हैं, संग्रहाध्यक्ष (curator)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-05-2020 12:55 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.