लखनऊ और टोपियों का है पुराना नाता

लखनऊ

 02-08-2018 05:29 PM
स्पर्शः रचना व कपड़े

लखनऊ की बात हो और चिकनकारी का ज़िक्र न हो ऐसा तो हो ही नहीं सकता। चिकनकारी के सदाबहार आकर्षण का 200 वर्षों पुराना मूल आखिर लखनऊ और यहाँ के नवाबों से ही जुड़ा है। तब से अब तक इसमें काफी बेहतरीन बदलाव भी आये हैं जिससे इसकी महत्ता और लोकप्रियता और भी बढती जा रही है। असल चिकनकारी में एक मलमल के कपड़े पर सफ़ेद धागे से कलाकारी की जाती है। जहाँ चिकनकारी साड़ी, सलवार, कुर्ते, शेरवानी आदि की शोभा वर्षों से बढ़ाती आ रही है, वहीं एक और वस्त्र है जिसपर इसने अपने रंग बिखेरे हैं। ये हैं टोपियाँ।

किसी भी स्थान की टोपी उस स्थान के निवासियों व उनकी विचारधारा का प्रतीक बन जाती हैं। और यह बात लखनऊ के मामले में भी सिद्ध होती दिखाई देती है। जहाँ एक टोपी एक व्यक्ति के पहनावे के तरीके को दर्शाती है, वहीँ दुसरे व्यक्ति के लिए वह उसकी धार्मिक श्रद्धा से जुड़ी होती है। इस्लाम में माना जाता है कि ईश्वर की आराधना के समय सर ढका होना चाहिए और इस कारण इनसे लोगों का एक रिश्ता सा बन गया है। 19वीं सदी में नवाबी संस्कृति में भी टोपियों को ख़ास महत्त्व दिया जाता था। साथ ही त्यौहारों, उत्सवों आदि पर भी ये टोपियाँ, पहनने वाले को एक धार्मिक और परंपरागत आभा प्रदान करती हैं।

अवध के दूसरे शासक नासिर-उद-दीन हैदर के समय उनके द्वारा एक अनोखी पांच कोणों वाली टोपी धारण की जाती थी। कहते हैं कि टोपी के पांच कोने नबी के परिवार के पांच सदस्यों के प्रतीक थे। यह टोपी सिर्फ बादशाह द्वारा ही पहनी जा सकती थी। बाद में यह टोपी लखनऊ में काफी लोकप्रिय हुई और इसके काफी विकसित रूप दिखने लगे जिनमें से एक पर चिकनकारी का कार्य भी किया गया था। इस पांच कोण वाली टोपी से पहले चार कोण वाली टोपी इस्तेमाल में थी जिसे चौ गोशिया टोपी के नाम से जाना जाता था।

इन सभी टोपियों के अलावा एक और टोपी लखनऊ में काफी लोकप्रिय हुई जो असल में दिल्ली के एक राजकुमार द्वारा यहाँ लायी गयी थी। यह टोपी थी, दुपल्ली टोपी। यह टोपी कपड़े के दो टुकड़ों से बनी होती है और वज़न में काफी हलकी होती है। समय के साथ इस टोपी के भी कुछ नए प्रारूप सामने आये जिससे निकली नुक्का टोपी, जो आगे और पीछे से नुकीली होती है। इस पर सोने और चांदी के तार से सुन्दर चिकनकारी भी की जाती है।

इन सभी बातों से यह कहा जा सकता है कि लखनऊ में काफी पहले से वेशभूषा पर आधारित श्रृंगार होता आ रहा है। साथ ही यह भी काफी सराहनीय है कि समय के साथ लखनऊ के निवासियों ने अपनी पारंपरिक वेशभूषा को ना भुलाते हुए उसे आज भी ज़िन्दा रखा है और इसी कारण आज लखनऊ पारंपरिक चिकनकारी कला का इतना बड़ा गढ़ है।

संदर्भ:
1. http://lucknowobserver.com/dopalli-topi/
2. http://www.lucknow.org.uk/chikan.html



RECENT POST

  • एशिया का सबसे बड़ा पार्क है लखनऊ स्थित जनेश्वर मिश्र पार्क
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-08-2019 02:15 PM


  • क्या है आखिर लखनऊ में मौजूद संगठित और असंगठित खुदरा व्‍यापार?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-08-2019 12:00 PM


  • किवदंतियों से परे, पारिजात वृक्ष की उत्पत्ति का वैज्ञानिक मत
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-08-2019 01:29 PM


  • कैसे ले अपने इलाज़ के वक्त आयुर्वेद, होम्योपैथी और एलोपैथी चिकित्सा के बीच निर्णय?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • असीमित नोटों की छपाई करके, क्यों भारत सरकार नहीं बना देती सबको अमीर
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • महासागरों का रंग क्यों होता है भिन्न?
    समुद्र

     17-08-2019 01:46 PM


  • स्‍वतंत्रता के बाद भारतीय रियासतों का भारतीय संघ में विलय
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:39 PM


  • अगस्त 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन से कुछ दुर्लभ चित्र
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:34 AM


  • व्‍यवसाय के रूप में राखी बन रही है एक बेहतर विकल्‍प
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-08-2019 02:52 PM


  • क्या कोरिया से आया है उत्तर प्रदेश का राजकीय प्रतीक?
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-08-2019 12:33 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.