व्यवसाय में बड़ी भूमिका निभाता पुदीना

लखनऊ

 29-08-2018 11:38 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

बहुमुखी प्राकृतिक गुणों का धनि पुदीना आज विश्‍वस्‍तर पर उत्‍पादित किया जाता है, इसकी विश्‍व में अनेकों प्रजातियां पायी जाती हैं। पुदीने का उपयोग चिकित्‍सा और व्‍यवसाय के क्षेत्र में बढ़ता जा रहा है। पुदीने की बढ़ती मांग उत्‍तर प्रदेश (पुदीना उत्‍पादक राज्‍य) के लिए काफी सहायक सिद्ध हो रही है यह विदेशों तक निर्यात किया जा रहा है, जो यहीं नहीं वरन् भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के लिए भी शुभ संकेत है। उद्योग के क्षेत्र में पुदीना की बढ़ती मांग पर एक नजर डालते हैं:

भारत पुदीने का प्रमुख उत्पादक है, यहाँ पर हर प्रकार के पुदीने की खेती होती है, जैसे कि मेन्था अर्वेन्सिस, मकई पुदीना (या जापानी पुदीना)। भारत में, उत्तर प्रदेश में 90% भारतीय पुदीने का उत्पादन होता है, शेष 10% पंजाब, राजस्थान आदि के छोटे क्षेत्रों में होता है। क्या आप जानते हैं व्यवसाय के रुप में पुदीने से कॉस्मेटिक्स-टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, शैंपू, च्यूइंगम्स, घरेलू सफाई उत्पादों आदि में मिंट का उपयोग किया जाता है। लेकिन पुदीने की घटती फसल को देखते हुए मार्स व्रिगली कन्फेक्शनरी (एमडब्ल्यूसी) द्वारा उत्तर प्रदेश में शुभ मिंट कार्यक्रम कि स्थापना की गई, आइए हम आपको इसके बारे में बताएं।

पुदीना दुनिया भर में 700 मिलियन डॉलर उद्योग का प्रतिनिधित्व करता है, लेकिन बहुमूल्य फसल का उत्पादन करने वाले कई किसान वर्तमान समय में भी एक एकड़ जमीन से भी कम जमीन पर पुरानी तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं। किसानों की तरक्की के लिए एमडब्ल्यूसी (जो अपने उत्पादों में पुदिना का उपयोग करता है) ने भारत में पुदीना खेती की दीर्घकालिक व्यवहार्यता में सुधार के प्रयास में शुभ मिंट कार्यक्रम को गैर-लाभकारी एग्रीबिजनेस सिस्टम्स इंटरनेशनल (एएसआई) के साथ साझेदारी कर स्थापित किया। इसको आधिकांश लोग एडवांसमिंट के नाम से भी जानते हैं, इसका उद्देश्य पुदिना संयंत्र विज्ञान को आगे बढ़ाने और किसानों और उनके समुदायों का समर्थन करना है, कार्यक्रम 20,000 से अधिक छोटे कृषकों को मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार और जल-तनाव वाले क्षेत्रों में पानी की खपत को कम करने के लिए प्रशिक्षित करने का प्रयास करता है। पिछले साल, 68 गांवों में 2,645 किसानों को प्रशिक्षण मिला और नतीजतन, उनकी औसत पैदावार में 68 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जबकि औसत निविष्ट लागत में 23 प्रतिशत की कमी आई है। 2018 में, एमडब्ल्यूसी और एएसआई द्वारा 7,500 से आधिक किसानों तक पहुंचने का प्रयास करेगी और इनका समर्थन भी जारी रखेगी।

शुभ मिंट "स्वस्थ गृह और संपन्न लोगों" का समर्थन करने के लिए मार्स व्रिगली कन्फेक्शनरी की प्रतिबद्धता का एक उदाहरण है और इसके सतत के माध्यम से विकास करने का एक तरीका है।

संदर्भ :-

1.https://www.confectionerynews.com/Article/2017/11/17/Mint-sustainability-Wrigley-boosts-supply-of-critical-ingredient
2.https://www.kancor.com/mentha-arvensis-oilcornmint-oil/
3.http://indiaeducationdiary.in/shubh-mint-launched-uttar-pradesh-program-aims-train-20000-farmers-increase-yields-empower-agricultural-communities/
4.https://navbharattimes.indiatimes.com/metro/lucknow/other-news/amp39shubh-minhtamp39-boosts-farmersamp39-profits/articleshow/61687091.cms
5.https://tanagerintl.org/2017/11/15/tanager-and-mars-wrigley-confectionery-launch-shubh-mint-in-india/



RECENT POST

  • कैसे हुई विश्व शांति दिवस मनाने की शुरुआत?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-09-2019 09:35 AM


  • ग्वालियर घराने के निम्न दिग्गज असल में थे लखनवी
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     21-09-2019 12:19 PM


  • पुरानी यादों को तरोताज़ा करती है विभिन्न वस्तुओं की महक
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     20-09-2019 12:12 PM


  • चाईनीज़ चेकर से मिलता जुलता भारतीय सुरबग्घी का खेल
    हथियार व खिलौने

     19-09-2019 11:56 AM


  • चंद्रमा की सतह पर अभी भी जीवित हैं टार्डिग्रेड्स
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     18-09-2019 11:05 AM


  • लखनऊ में हुई थी दम बिरयानी की उत्पत्ति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     17-09-2019 11:06 AM


  • जीन में फेरबदल कर बन सकते हैं डिज़ाइनर बच्चे
    डीएनए

     16-09-2019 01:31 PM


  • जे. सी. बोस का भारतीय अभियांत्रिकी और विज्ञान में अमूल्य योगदान
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:14 PM


  • अवध और लॉर्ड वैलेस्ली की सहायक संधि
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:05 AM


  • बीते समय के अवध के शाही फव्वारे
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-09-2019 01:37 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.