पैट्रोल-डीजल पर सब नाराज़, जानें कैसे होते हैं दाम निर्धारित

लखनऊ

 09-09-2018 12:48 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

वर्तमान समय में जीवन की मूलभूत आवश्‍यकता बन चूका पैट्रोल डीजल के मूल्‍य आये दिन आसमान छू रहे हैं। जिस कारण अक्‍सर लोगों के मध्‍य आक्रोश देखा जा रहा है। चलिए अब जानते है कि भारत में पेट्रोल और डीजल की उत्पत्ति कैसे हुई।

पेट्रोलियम धरातल के नीचे स्थित अवसादी परतों के बीच में पाया जाने वाला एक काले भूरे रंग का तैलीय द्रव है, जिसका मुख्य रूप से प्रयोग ईंधन के रूप में किया जाता है। "पेट्रोलियम" शब्द का निर्माण "पेट्रो" अर्थात चट्टान और "ओलियम" अर्थात तेल से मिलकर हुआ है। पेट्रोलियम की प्राप्ति धरातल के नीचे स्थित अवसादी चट्टानों के ऊपर कुएं खोदकर की जाती है। विश्व में सबसे पहले पेट्रोलियम कुएं की खुदाई अमेरिका के पेंसिलवानिया राज्य में स्थित "टाइटसविले" स्थान पर की गई। आज भारत में 3 प्रमुख तेल विपणन कंपनियां (ओएमसी) हैं। ये 3 कंपनियां इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) हैं। आइये जानते हैं कैसे इनको पेट्रोल की कीमत निर्धारित की जाती है।

पेट्रोल के खुदरा बिक्री मूल्य (आरएसपी) को कई कारकों के आधार पर निर्धारित किया जाता है। भारतीय कच्चे तेल की औसत कीमत की गणना हर पक्ष में की जाती है। यह कीमत प्रति बैरल डॉलर में की जाती है। कच्चे तेल से पेट्रोल निकालने के लिए उसे परिवहन और परिष्कृत किया जाता है। और इसे रिफाइनरी ट्रांसफर प्राइस (आरटीपी) कहा जाता है। पेट्रोल और डीजल अभी तक जीएसटी(वस्तु एंव सेवा कर) के अंतर्गत नहीं लाया गया है। यह अभी व्यापक रूप से केंद्रीय उत्पाद शुल्क (केंद्र सरकार द्वारा लगाया गया) और राज्य वैट (मूल्य वर्धित कर) के अंतर्गत आता है। इन दोनो करों को पेट्रोल की किमत में जोड़ा जाता है। वर्तमान उत्पाद शुल्क 15.33 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल है और वैट राज्य से राज्य में भिन्न होता है, सबसे ज्यादा वैट मुंबई में 39.12 है।

ये सभी कीमत पेट्रोल के अंतिम खुदरा बिक्री मूल्य (आरएसपी) में शामिल हो जाती है जो आखिर में उपभोक्ता तक पहुंचती है। विभिन्न राज्यों में पेट्रोल की कीमतों का कारण विभिन्न वैट दर है। यह कीमत विभिन्न ओएमसी (तेल विपणन कंपनियों) के स्वामित्व वाले पंप में भी भिन्न होती है। मार्जिन और डीलर कमीशन में बदलावों के कारण ये मामूली मतभेद होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं अगर पेट्रोल और डीजल जीएसटी के तहत लाए जाएं तो कीमतें एकदम से काफी गिर जाएगी। जीएसटी के तहत 28 फीसदी टैक्स स्लैब के तहत भी पेट्रोल की कीमत केवल 48.59 रुपये प्रति लीटर होगी और डीजल की कीमत प्रति लीटर 50.41 रुपये होगी।

संदर्भ :-

1.https://www.quora.com/How-are-fuel-petrol-diesel-prices-decided-in-India-Why-does-each-city-even-in-same-state-have-a-different-price-point
2.https://www.indiatoday.in/education-today/gk-current-affairs/story/are-central-government-s-taxes-causing-the-sky-high-petrol-prices-know-how-fuel-prices-are-calculated-1237814-2018-05-21
3.https://factly.in/understanding-petrol-pricing-in-india/



RECENT POST

  • पवित्र कुरान के स्वर्ग के नमूने को पेश करता है केसरबाग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:35 AM


  • भारतीय व्यंजन तथा मसाले - स्वाद और सेहत का अनूठा मिश्रण
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 09:14 AM


  • 9 दिन के नौ रूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 07:43 AM


  • सबसे अधिक बिकने वाले एकल गीतों में से एक ‘द केचप सॉन्ग-एसेरीज’
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-10-2020 10:06 AM


  • स्वस्थ मिट्टी पर निर्भर है पौष्टिक भोजन की उपलब्धता
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-10-2020 10:47 PM


  • मधुमक्खी पालन: बढ़ती मांग
    तितलियाँ व कीड़े

     16-10-2020 05:57 AM


  • पारिस्थितिकी और राजनीतिक दोनों रूपों से महत्वपूर्ण है पांडा
    स्तनधारी

     14-10-2020 10:54 PM


  • वाल्मीकि रामायण और कम्बा रामायणम् के मध्य अंतर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-10-2020 03:03 PM


  • सड़कों पर भरे पानी की समस्या से निजात दिलायेगा स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     12-10-2020 03:19 PM


  • एर्गोनॉमिक्स के हैं अनेकों फायदे
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     12-10-2020 02:01 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.