डॉक्टरों की बुरी लिखाई सिर्फ मज़ाक नहीं

लखनऊ

 05-10-2018 02:07 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

हम में से अधिकांश लोगों को डॉक्टरों द्वारा लिखे गए पर्चे को पढ़ने में बहुत कठिनाई होती है। कभी-कभी हम ये भी सोच लेते हैं कि हो सकता है ये डॉक्टर की स्पेशल लिखावट होती है ताकि कोई मरीज इसे पढ़ न पाए या फिर यह इनकी मेडिकल प्रैक्टिस का एक हिस्सा होता है। उनके हस्तलेखों पर काफी मज़ाक भी उड़ाया जाता है, लेकिन अब यह सिर्फ एक मज़ाक नहीं रहा है। डॉक्टरों के हस्तलेखों की वजह से मरीजों को काफी हानि का सामना करना पड़ रहा है, यहाँ तक कि उन्हें जान से भी हाथ धोना पड़ सकता है।

इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन (Institute of Medicine) के अनुसार दुनिया भर में प्रति वर्ष 7 हज़ार लोगों की डॉक्टर द्वारा लिखे गये प्रिस्क्रिप्शन (Prescription) को ना समझ पाने के कारण मृत्यु हो जाती है। वहीं जुलाई 2006 में इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दवा त्रुटियां हर साल 1.5 मिलियन अमेरिकियों को अस्पतालों में प्रभावित करती हैं। वहीं 2013 में तेलंगाना राज्य के नलगोंडा जिले के एक फार्मासिस्ट (Pharmacist) सी. परमात्मा ने स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय को इस विषय में याचिका भेजी। वहां से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलने पर, उन्होंने आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय में एक पी.आई.एल. (Public Interest Litigation) दायर की, जिसमें उन्होंने अनुरोध किया कि डॉक्टर केवल बड़े अक्षरों में प्रिस्क्रिप्शन लिखें। क्योंकि कुछ दवाओं की स्पेलिंग (Spelling) में मात्र कुछ शब्दों का अंतर होता है, जिस वजह से कभी-कभी फार्मासिस्ट गलत दवा दे देते हैं। इसके लिए उन्होंने तेलंगाना में हुई घटना (जहां फार्मासिस्ट ने गलती से MISOPROST 200 के बदले MICROGEST 200 दे दिया। MISOPROST गर्भावस्था में महिलाओं की मदद करने के लिए होती है, और MICROGEST गर्भपात के लिए होती है) को आधार बनाया।

चिकित्सा त्रुटियां

कुछ दवाएं जिनमें सूक्ष्म स्पेलिंग अंतर होते हैं।
• Arkamine (रक्तचाप के लिए) और Artamine (रूमेटोइड गठिया के लिए)
• Isoprine (रक्तचाप बढ़ाने के लिए दिया जाता है) और Isoptine (रक्तचाप को कम करने के लिए दिया जाता है)
• Digene (अम्लत्वनाशक(Antacid)) और Digoxin (संक्रामक दिल की विफलता के लिए)
• Magna (श्वसन पथ संक्रमण के लिए) और Magfa (अवसाद और चिंता के लिए)
• Fludac (अवसाद के लिए) और Flunac (एंटी-फंगल के लिए)
• Anxit (चिंता के लिए) और Axhit (मलेरिया के लिए)

यदि डॉक्टर अधुनिक प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करें तो वे स्वास्थ्य देखभाल वितरण में सुधार ला सकते हैं। इस से कंप्यूटर खुद ही स्पेलिंग सही कर लेता है, और समझने के लिए भी आसान रहता है। और साथ ही 2014 के अंत तक, सरकार ने लोकसभा को सूचित किया कि प्रासंगिक नियमों में संशोधन की मंजूरी दे दी गई। लगभग 2 वर्षों के बाद, 2016 में, सरकार ने ‘भारतीय चिकित्सा परिषद (व्यावसायिक आचरण, शिष्टाचार और नैतिकता) विनियम 2002’ में, डॉक्टरों के लिए प्रिस्क्रिप्शन बड़े अक्षरों में लिखना अनिवार्य कर दिया।

कुछ बातों का ध्यान रखें कि दवाई लेने के बाद डॉक्टर को ज़रूर दिखाएं। किसी भी गैर फार्मासिस्ट से दवाई ना लें और बिना प्रिस्क्रिप्शन के भी दवा ना लें।

संदर्भ:
1.https://www.thehindu.com/news/national/andhra-pradesh/Court%E2%80%99s-prescription-for-doctors/article11181100.ece
2.https://timesofindia.indiatimes.com/city/delhi/Why-your-doctors-handwriting-needs-cure/articleshow/2952346.cms
3.https://factly.in/doctor-prescription-now-legible-preferably-capital-letters/
4.https://www.emirates247.com/news/emirates/death-by-prescription-doctors-handwriting-causes-7-000-deaths-a-year-2012-11-04-1.481418
5.http://content.time.com/time/health/article/0,8599,1578074,00.html
6.https://timesofindia.indiatimes.com/city/lucknow/high-court-miffed-with-doctors-bad-handwriting/articleshow/62082121.cms



RECENT POST

  • भारत की सबसे बड़ी दिग्गज आईटी कंपनियां एवं आईटी नौकरियों का भविष्य
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     24-06-2019 12:05 PM


  • भारत के कब्ज़े में है बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी
    हथियार व खिलौने

     23-06-2019 09:00 AM


  • भारत का केसरिया स्तूप हो सकता है इंडोनेशिया के बोरोबुदूर मंदिर की प्रेरणा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-06-2019 11:33 AM


  • रामचरितमानस में योग का तात्पर्य
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     21-06-2019 11:20 AM


  • रामपुर और लखनऊ को संदर्भित करता रडयार्ड किपलिंग का प्रसिद्ध उपन्यास ‘किम’
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-06-2019 11:26 AM


  • कब, कैसे और कहाँ हुई टाई की उत्पत्ति?
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     19-06-2019 11:06 AM


  • तेप्ची कढ़ाई- जो मशीनों के इस दौर में भी हाथ से की जाती है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     18-06-2019 11:04 AM


  • क्या बंदर केवल शाकाहारी होते हैं?
    स्तनधारी

     17-06-2019 11:08 AM


  • समय के साथ स्वाभाविक होते पिता
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-06-2019 10:30 AM


  • क्या महानगरों में एसी के बिना प्राकृतिक रूप से जीवन यापन करना संभव है?
    व्यवहारिक

     15-06-2019 10:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.