आनत तल (Inclined Plane) की संकल्पना और हमारे जीवन में इसका महत्व

लखनऊ

 26-10-2018 10:14 AM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

एक नजरिये से देखाजाए तो मशीनों का आविष्कार पाषाण युग से ही होता आ रहा है हां हालांकि उस समय में मशीनों का आविष्कार इतना संपन्न और समृद्ध नहीं था।परंतु मशीनों का कार्य ही होता है मानव जीवन को आसान बनाना, ये वास्तविकता पाषाण काल (Stone Age) से आज तक नहीं बदली है और ना ही आगे कभी भविष्य में बदलेगी। मशीनें हर काल में मनुष्य के जीवन को आसान बनाने में सहायक रही है। कुछ आविष्कार तो ऐसे हैं जो हमारी प्रकृति से प्रेरित है, जैसे की आनत तल या नत तल। आनत तल एक सरल यंत्र है, सामान्य भाषा में कहा जाए तो ये एक झुका हुआ तल है जो निम्न भू-भाग को उच्च भू-भागसे जोड़ता है।यह एक सरल मशीन की तरह कार्य करता है, जैसे - किसी भारी वस्तु को ट्रक पर चढाने में।

यदि हम अपने आस पास देखेंगे तो प्राकृति में हमे इसके कई उदाहरण मिल जाएंगे जैसे की हमारे पर्वत। जरा सोचिये यदि ये एकदम खड़े होते तो क्या हम इन पर चढ़ पाते,और जो एक आबादी का हिस्सा हम यहां देखते है वो आज यहां होता? बिल्कुल नहीं।आनत तल का प्रकृति में एक अन्य उदाहरण हमें समुद्र तल से ऊँचाई मापने में भी मिलता है। औसतन समुद्र तल (Mean sea level) को आधार मानकर किसी स्थान की मांपी गई ऊँचाई को समुद्र तल से ऊँचा (MAMSL-Meters above sea level) कहते हैं, जिसे ग्लोबल पोज़ीशनिंग सिस्टम (GPS), एरियल फोटोग्राफी (Aerial Photography ) आदि के द्वारा आसानी से मापा जा सकता है।पृथ्वी के धरातल भी आनत तल के रूप में ही समुद्र तल से ऊपर उठे हुए होते है।बता दें कि लखनऊ समुद्र तल से लगभग 123 मीटर (404 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।आपने अक्सर देखा होगा की पहाड़ो पर सड़को में हमेशा एक झुकाव होता है। ये झुकाव वाहनों को ऊपर तक ले जाने में सहयक होता है, इससे टायरों की ग्रिप बनी रहती है, ये भी आनत तल का ही एक उदाहण है यहां तक की आपके घरों की सीढ़ियां भी एक तरह के आनत तल ही है।

माना जाता है की मिस्र (Egypt) में लगभग 2,500 ईसा पूर्व, यहां के लोगो ने पिरामिड (Pyramid) के लिए भारी पत्थरों को स्थानांतरित करने के लिए भू-रैंप बनाया था। आनत तल एक रैंप की तरह ही होता हैं। रैंप की मदद से आप किसी भी भारी सामान को नीचे से ऊपर तक आसानी से पहुंचा सकते है। हालांकि इससे दूरी थोड़ी बढ़ जाती है परंतु ये भारी सामान को उठा कर ऊपर तक पहुंचाने की तुलना में बहुत आसान है। आनत तल की भूमिका आपके जीवन में सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है। इस सरल से दिखने वाले यंत्र ने आपके जीवन को और किस-किस प्रकार से आसान बनाया है आइये इस पर एक नजर डाले:

1. आपको ये तो पता होगा की हम रैंप से भारी वस्तु ऊपर ले जा सकते है। परंतु क्या आपने ध्यान दिया की हम उसी वस्तु को रैंप की सहायता से नीचे भी उतार सकते है।

2. जिन क्षेत्रों में बर्फ पड़ती है उन क्षेत्रों के घरों की छत हमेशा नीचे की ओर झुकी हुई होती है ताकि बर्फ छत से नीचे गिरती रहे, वो भी एक आनत तल ही है।

3. अधिकांश बच्चों को चिकनी फिसलपट्टी पर खेलने में ज्या्दा मजा आता है। फिसलपट्टी भी आनत तल का ही उदाहरण है।

4. आपने अक्सर देखा होगा की पानी से घुमने वाली चर्खी के चारों ओर आनत तल लगे हुए होते है, ताकि वे बहते हुए पानी से ऊर्जा प्राप्त कर सकें। ये पानी के बल (force) को बलाघूर्ण (torque) में परिवर्तित कर देते है जो एक शाफ्ट (shaft) में बदल जाता है।

ऐसे ही आनत तल के कई उदाहरण आपको अपने आस पास मिल जाएंगे जिन्होने आपकी दुनिया को आसान बना दिया है। इस साधारण सी मशीन ने सही मायनों में भारी सामान को उठाने में आपकी सहायता कर जिंदगी को आसन बना दिया है।

संदर्भ:
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Metres_above_sea_level
2.https://www.ck12.org/physics/inclined-plane/lesson/Inclined-Plane-MS-PS/
3.https://en.wikibooks.org/wiki/Wikijunior:How_Things_Work/Inclined_Plane



RECENT POST

  • क्या है ईस्टर (Easter) खरगोश और ईस्टर अण्डों का महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 10:02 AM


  • जैन ब्रह्माण्ड विज्ञान (Jain Cosmology) का संछिप्त वर्णन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:41 AM


  • अवध की भूमि से जन्में कुछ लोक वाद्य यंत्र
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     17-04-2019 12:42 PM


  • 1849 से 1856 तक लखनऊ के रेजिडेंट (Resident) - विलियम हेनरी स्लीमन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:33 PM


  • लखनऊ में पीढ़ी दर पीढ़ी कला का हस्‍तांतरण
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:47 PM


  • लखनऊ की भव्यता को दर्शाता यह छोटा सा विडियो (Video)
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:30 AM


  • जाने कैसे हुई रामायण की रचना और इसके सातों काण्ड को संछिप्त में
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:00 AM


  • फिल्‍मों के माध्‍यम से जीवित है जलियांवाला बाग हत्‍याकाण्‍ड का मर्म
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:30 AM


  • भारत में जूट का व्‍यापार
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     11-04-2019 07:00 AM


  • खतरे में पड़ता जा रहा है मोर का अस्तित्व
    पंछीयाँ

     10-04-2019 07:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.