गाड़ी की तरह रबर के टायर पर चलने वाली मेट्रो रेल

लखनऊ

 28-10-2018 10:00 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

लोहे के टायर (Tire) पर चलने वाली मेट्रो (Metro) रेल तो आपने देखी ही होगि परन्तु क्या आप जानते हैं कि पेरिस जैसे शहरों में मेट्रो रेल के टायर रबर (Rubber) के होते हैं और उसके चालक उसे रास्ते पर भी चला सकते हैं। इन मेट्रो में रबर के टायर के साथ पहिये भी होते हैं जिससे टायर विफल होने पर कोई दिक्कत ना हो। इन मेट्रो की तरह ही बस भी होती हैं जो रेल ट्रैक (Rail track) पर चलती हैं जिसे लोग ‘ट्राम ऑन टायर्स’ (Trams on Tires) के नाम से भी जानते हैं। इस तरह की बस या मेट्रो में चालक को स्टीयरिंग (Steering) का उपयोग नहीं करना पड़ता क्योकि यह रेल की पटरी पर चलती है।

रबर के टायर वाला मेट्रो पहली बार आर.ए.टी.पी समूह (RATP Group) द्वारा बनाया गया था ताकि लोगों की सेवा आवृति में वृद्धि हो सके, साथ ही साथ पड़ोसी इमारतों में शोर और कंपन को कम किया जा सके। पर समय के साथ रबर के टायर वाले मेट्रो कम होते गए और फिर वे लोहे के टायर पर चलने लगे।


रबर के मेट्रो के कुछ लाभ और नुकसान नीचे दिए गए हैं।

रबर-टायर्ड मेट्रो सिस्टम (Rubber-tired metro system) के लाभ (स्टील रेल पर स्टील पहिये की तुलना में):
• यह बहुत ही आरामदायक होता है और इसमें सफ़र करने में कोई परेशानी भी नहीं होती है।
• यह मेट्रो काफी तेज़ त्वरण की होती हैं।
• लोग इससे खुली हवा में शांत सवारी का आनंद उठा पाएंगे। (निवासियों और ट्रेन के बाहर के लिए)

उच्च घर्षण और बढ़ते रोलिंग (Rolling) प्रतिरोध के कारण नुकसान (स्टील रेल पर स्टील पहिये की तुलना में):
• रबर के मेट्रो ज्यादा ऊर्जा की खपत करते हैं।
• अधिक गर्मी उत्पन्न होती है।
• टायर प्रतिस्थापन लागत के कारण यह महंगा होता है।

संदर्भ:
1.http://www.railsystem.net/rubber-tyred-metro-2/
2.http://www.emdx.org/rail/metro/principeE.html



RECENT POST

  • जे. सी. बोस का भारतीय अभियांत्रिकी और विज्ञान में अमूल्य योगदान
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:14 PM


  • अवध और लॉर्ड वैलेस्ली की सहायक संधि
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:05 AM


  • बीते समय के अवध के शाही फव्वारे
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-09-2019 01:37 PM


  • सांपों से भी ज्यादा जहरीले होते हैं टोड
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैसे करते हैं एस्ट्रोफोटोग्राफी और किस प्रकार जुड़ा है ये प्रकाश प्रदूषण से ?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 12:02 PM


  • ताकत और पराक्रम का प्रतीक है दुल-दुल
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:19 PM


  • भारतीय मुर्गियों की विभिन्न नस्लें
    पंछीयाँ

     09-09-2019 12:20 PM


  • किन जीवों के कारण बनते हैं मोती
    समुद्री संसाधन

     08-09-2019 11:52 AM


  • फसलों को कीटों और खरपतवारों से संरक्षित करते कीटनाशक
    बागवानी के पौधे (बागान)

     07-09-2019 11:16 AM


  • समय के साथ भुलाई जा रही है फारसी की सुन्दर शिकस्त लेखन शैली
    ध्वनि 2- भाषायें

     06-09-2019 12:09 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.