जल में उगने वाली वनस्पतियां: लखनऊ

लखनऊ

 23-06-2017 12:00 PM
निवास स्थान
वनस्पतियां सिर्फ थल पर ही नहीं उपजती अपितु यह जल के अन्दर भी उपजती हैं| समंदर, नदियों व तालाबों में कई प्रकार की वनस्पतियां पाई जाती हैं जैसे कमल, कुमुदनी, सिंघाड़ा आदि| जलीय पौधे खारे पानी व ताजे पानी में, दोनों में पाए जाते हैं| इनको जलीय पादप व मैक्रोफाइट के नाम से जाना जाता है| यह वनस्पतियां पानी के अन्दर व ऊपर दोनों परिस्थितियों में रहती हैं| जलीय वनस्पतियां जल में या फिर ऐसे स्थानों पर उगती हैं जहाँ पर भूमि गीली हो और जल जमाव भी होता हो| विश्व की सबसे बड़ी जलीय वनस्पति अमेज़न वाटर लिली है तथा सबसे छोटी डक वीड है| जलीय वनस्पतियों को मुख्य रूप से 6 भागों में विभाजित किया जा सकता है - 1- एम्फीफाईट्स: ऐसे पौधे जो जल के अन्दर या बाहर दोनों प्रकार से रह सकने में सक्षम हों| 2- एलोडेड्स: ऐसे पौधे जो अपने पूरे जीवन काल में पानी के अन्दर ही रहते हैं बाहर सिर्फ उनके पुष्प ही दिखाई देते हैं| 3- आइसोटाड्स: ऐसे पौधे जो हमेशा पानी के अन्दर ही रहते हैं और किसी भी रूप में पानी के बाहर नहीं निकलते| 4- हेलोफाइट्स: इस प्रकार कि वनस्पतियों के जड़ पानी के अन्दर रहते हैं और पत्तियां पानी के ऊपर| 5- नाइम्फाइड्स: ऐसे पौधे जिनका जड़ पानी के अन्दर रहता है परन्तु ये पत्तों के सहारे पानी के ऊपर तैरती रहती हैं जैसे जलकुम्भी| 6- प्ल्यूस्टन: ऐसे पौधे जो बिना रोक टोक के पानी में तैरते रहते है| लखनऊ में कई प्रकार की जलीय वनस्पतियां पायी जाती हैं जिनमे मुख्य कमल, कुमुदनी, जलकुम्भी आदि हैं| यहाँ पर स्थित वनस्पति शोध संस्थान में कई प्रकार के जलीय पौधों को लगाया गया है तथा इनपर शोध कार्य भी किया जाता है| चित्र में कमल के फूल को दिखाया गया है जिसका वैज्ञानिक नाम नीलम्बो न्यूसीफेरा है तथा कमल को विभिन्न धर्मों में एक विशिस्ट स्थान प्राप्त है| भारत का राष्ट्रीय पुष्प भी कमल ही है| 1. प्लान्टेशन एण्ड एग्रीहॉर्टीकल्चर रिसोर्सेस ऑफ़ केरल: पि.के.के.नायर 2. रिमार्केबल प्लान्टस दैट शेप अवर वर्ल्ड: थेम्स हुडसन 3. वेजिटेबल्स: बी चौधरी

RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id