जल में उगने वाली वनस्पतियां: लखनऊ

लखनऊ

 23-06-2017 12:00 PM
निवास स्थान
वनस्पतियां सिर्फ थल पर ही नहीं उपजती अपितु यह जल के अन्दर भी उपजती हैं| समंदर, नदियों व तालाबों में कई प्रकार की वनस्पतियां पाई जाती हैं जैसे कमल, कुमुदनी, सिंघाड़ा आदि| जलीय पौधे खारे पानी व ताजे पानी में, दोनों में पाए जाते हैं| इनको जलीय पादप व मैक्रोफाइट के नाम से जाना जाता है| यह वनस्पतियां पानी के अन्दर व ऊपर दोनों परिस्थितियों में रहती हैं| जलीय वनस्पतियां जल में या फिर ऐसे स्थानों पर उगती हैं जहाँ पर भूमि गीली हो और जल जमाव भी होता हो| विश्व की सबसे बड़ी जलीय वनस्पति अमेज़न वाटर लिली है तथा सबसे छोटी डक वीड है| जलीय वनस्पतियों को मुख्य रूप से 6 भागों में विभाजित किया जा सकता है - 1- एम्फीफाईट्स: ऐसे पौधे जो जल के अन्दर या बाहर दोनों प्रकार से रह सकने में सक्षम हों| 2- एलोडेड्स: ऐसे पौधे जो अपने पूरे जीवन काल में पानी के अन्दर ही रहते हैं बाहर सिर्फ उनके पुष्प ही दिखाई देते हैं| 3- आइसोटाड्स: ऐसे पौधे जो हमेशा पानी के अन्दर ही रहते हैं और किसी भी रूप में पानी के बाहर नहीं निकलते| 4- हेलोफाइट्स: इस प्रकार कि वनस्पतियों के जड़ पानी के अन्दर रहते हैं और पत्तियां पानी के ऊपर| 5- नाइम्फाइड्स: ऐसे पौधे जिनका जड़ पानी के अन्दर रहता है परन्तु ये पत्तों के सहारे पानी के ऊपर तैरती रहती हैं जैसे जलकुम्भी| 6- प्ल्यूस्टन: ऐसे पौधे जो बिना रोक टोक के पानी में तैरते रहते है| लखनऊ में कई प्रकार की जलीय वनस्पतियां पायी जाती हैं जिनमे मुख्य कमल, कुमुदनी, जलकुम्भी आदि हैं| यहाँ पर स्थित वनस्पति शोध संस्थान में कई प्रकार के जलीय पौधों को लगाया गया है तथा इनपर शोध कार्य भी किया जाता है| चित्र में कमल के फूल को दिखाया गया है जिसका वैज्ञानिक नाम नीलम्बो न्यूसीफेरा है तथा कमल को विभिन्न धर्मों में एक विशिस्ट स्थान प्राप्त है| भारत का राष्ट्रीय पुष्प भी कमल ही है| 1. प्लान्टेशन एण्ड एग्रीहॉर्टीकल्चर रिसोर्सेस ऑफ़ केरल: पि.के.के.नायर 2. रिमार्केबल प्लान्टस दैट शेप अवर वर्ल्ड: थेम्स हुडसन 3. वेजिटेबल्स: बी चौधरी

RECENT POST

  • लखनऊ में हुई थी दम बिरयानी की उत्पत्ति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     17-09-2019 11:06 AM


  • जीन में फेरबदल कर बन सकते हैं डिज़ाइनर बच्चे
    डीएनए

     16-09-2019 01:31 PM


  • जे. सी. बोस का भारतीय अभियांत्रिकी और विज्ञान में अमूल्य योगदान
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:14 PM


  • अवध और लॉर्ड वैलेस्ली की सहायक संधि
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:05 AM


  • बीते समय के अवध के शाही फव्वारे
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-09-2019 01:37 PM


  • सांपों से भी ज्यादा जहरीले होते हैं टोड
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैसे करते हैं एस्ट्रोफोटोग्राफी और किस प्रकार जुड़ा है ये प्रकाश प्रदूषण से ?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 12:02 PM


  • ताकत और पराक्रम का प्रतीक है दुल-दुल
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:19 PM


  • भारतीय मुर्गियों की विभिन्न नस्लें
    पंछीयाँ

     09-09-2019 12:20 PM


  • किन जीवों के कारण बनते हैं मोती
    समुद्री संसाधन

     08-09-2019 11:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.