लखनऊ का ऐतिहासिक आलम बाग

लखनऊ

 05-12-2018 10:46 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

लखनऊ शहर अपनी खास नज़ाकत और तहज़ीब वाली बहु-सांस्कृतिक खूबी, दशहरी आम के बाग़ों तथा चिकन की कढ़ाई के काम के लिये जाना जाता है, साथ ही इसे नवाबों के शहर के रूप में भी जाना जाता है। लखनऊ में नवाबों के समय कई ऐतिहासिक इमारतें बनाई गईं, जो आज भी अपने इतिहास को बयां करती हैं।

लखनऊ के आदर्श नगर और बरहा कॉलोनी के बीच में स्थित आलमबाग गेट (इसे चन्दर नगर भी कहा जाता है) वर्तमान में काफी बुरी हालत में है, आलमबाग का गेट मौजूदा समय में खंडहर बनता जा रहा है। इसके अलावा यह संरक्षित स्मारक कई दुकानों और सब्जी के स्टॉलों के अतिक्रमण की भेंट चढ़ चुकी है। यहां तक कि इस ऐतिहासिक इमारत में मौजूद नवाबी संस्कृति भी आज नहीं दिखाई देती है।

अवध के आखिरी राजा वाजिद अली शाह का विवाह 1837 में पंद्रह वर्ष की उम्र में आलम आरा बेगम से हुआ था। 1847 में वाजिद अली को अवध के शाह के रूप में स्वीकारा गया, तब आलम आरा बेगम को खास महल के रूप में जाना जाने लगा। वाजिद अली द्वारा आरा बेगम के लिए दो मंजिला महल बनवाया गया और ऐसा भी कहा जाता है कि अफज़ल बेगम (नसीर-उद-दीन हैदर के बेटे फरीदोन बख्त उर्फ मुन्ना जान की मां) भी आलम बाग में रहीं थी। 1856 में ब्रिटिश द्वारा अवध में अवैध कब्जा करने के बाद वाजिद अली को क़ैद कर जब कलकत्ता में मटिया बुर्ज ले जाया जा रहा था तो, अपने तनावपूर्ण संबंधों के बावजूद, एक कर्तव्यनिष्ठ पत्नी के रूप में आरा बेगम भी उनके साथ गईं, जहां उनकी कई दूसरी पत्नियों ने उनके साथ जाने से इनकार कर दिया था। वहीं अंग्रेजों द्वारा उनकी अनुपस्थिति में आलम बाग ज़ब्त कर लिया गया और संपत्ति के बदले मुआवज़ा देने से तक इंकार कर दिया गया। 21 सितम्बर 1887 को अपने पति की मृत्यु के सात साल बाद, आरा बेगम की 31 मार्च, 1894 को मटिया बुर्ज में मृत्यु हो गयी।

आलम बाग के उस समय के स्वरुप का अंदाज़ा हमें एक जर्नल (Journal) से मिल सकता है। यह जर्नल था आर्थर मोफ्फाट लैंग का जो कि ब्रिटिश सेना के साथ नवम्बर 1857 में लखनऊ में थे। आर्थर की 6 नवम्बर को जर्नल में की गयी एंट्री (Entry) बताती है कि, “कल रात जो लोग आलम बाग़ से वापस लौटे वे बताते हैं कि वह 500X470 यार्ड की एक बड़ी भूमि पर बना है जिसके हर कोने पर दो मंज़िले गुम्बददार टावर (Tower) बनाये गए हैं। भूमि के केंद्र में बारादरी का निर्माण किया गया है। चरों ओर की दीवार में बीच में एक विशाल दरवाज़ा है और दीवारें 11 फीट ऊंची तथा 2.5 फीट मोटी बनायी गयी हैं।”

हालांकि यह वर्णन एक सैन्य आक्रमण में इस ईमारत की कुशलता को दर्शाने के लिए लिखा गया था, और इससे आलम बाग़ की खूबसूरती का अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता। परन्तु ऊपर दिया गया चित्र इसकी खूबसूरती को साफ़ दर्शाता है। दरोगा अब्‍बास अली (सहायक नगरपालिका अधिकारी) द्वारा ली गईं लखनऊ की 50 खूबसूरत तस्‍वीरों में इस आलम बाग़ को भी शामिल किया गया था। यह एल्बम सर जॉर्ज कूपर को समर्पित की गयी थी। इसकी छपाई कलकत्ता में करवाई गयी थी तथा सन 1874 में इसे प्रकाशित किया गया था। ऊपर दिखाया गया चित्र इसी एल्बम से लिया गया है।

इस इमारत में गुंबदाकार शैली का स्वरूप भी देखने को मिलता है। आलम बाग ब्रिटिशों के लिए एक मज़बूत किला था, इसके सहारे ब्रिटिशों ने कई लड़ाइयाँ जीती। वहीं 16 मार्च 1858 में लखनऊ में दोबारा कब्जा करने के लिए, आलमबाग पर लगाया गया सेमाफोर (विज़ुअल टेलीग्राफ सिस्टम/Visual Telegraph System) काफी सहायक सिद्ध हुआ। आलम बाग के भीतर, मेजर जनरल हैवेलॉक (जिनकी 24 नवंबर 1857 को खसरा से मृत्यु हो गयी) का एक स्मारक भी मौजूद है।

सन्दर्भ:
1.अंग्रेज़ी पुस्तक: Anwer Abbas, Saiyed. Incredible Lucknow. 2010



RECENT POST

  • क्या वास्तव में अमेथिस्ट या जमुनिया रत्न वैज्ञानिक दृष्टि से उपचरात्मक होते है?
    खनिज

     16-08-2022 10:30 AM


  • स्वतंत्र भारत में तोपों की सलामी है संप्रभुता की स्वीकृति, पहले दर्शाती थी औपनिवेशिक पदानुक्रम
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2022 02:56 AM


  • पोल वॉल्ट में विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के लिए प्रसिद्ध हैं आर्मंड डुप्लांटिस
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     14-08-2022 10:40 AM


  • सरकारी खाद्य सुरक्षा योजनाएं
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     13-08-2022 10:19 AM


  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: साड़ियाँ ने की बैंकिग संवाददाता सखियों व् बुनकरों के बीच नई पहल
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:55 AM


  • अंतरिक्ष से दिखाई देती है,भारत और पाकिस्तान के बीच मानव निर्मित सीमा
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 12:06 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id