रात में गाड़ी बेहतर चलाने के लिए आये चश्मे, पर क्या हैं ये किसी काम के?

लखनऊ

 29-01-2019 02:31 PM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

अक्सर कई लोग रात में ड्राइव करते हैं, लेकिन चमकती हुई अन्य वाहनों रोशनी से रात में वाहन चलाना काफी खतरनाक भी होता है। लगभग 32% गाड़ी चलाने वाले ऐसे होते है जिन्हें रात में सामने से आते वाहनों को देखने में मुश्किल होती है। इसलिये वे रात की तुलना में दिन में गाड़ी चलाना ज्यादा सुरक्षित समझते है। परंतु कुछ लोग रात में ड्राइव के दौरान बेहतर देखने के लिये विशेष प्रकार के चश्मों या लेंस का उपयोग करते हैं। लेकिन क्या यह वास्तव में ये मददगार है? चलिये पता करते हैं। अक्सर लोग ये सोच लेते है कि पीले रंग या पीले ध्रुवीकृत चश्में रात को वाहन चलाने में फायदेमंद होते है, परंतु ये एक बहुत ही आम गलत धारणा है।

कई पीले रंग या पीले ध्रुवीकृत चश्मों में ऐम्बर का आवरण होता है जो रात में देखने की क्षमता में कोई भी लाभ प्रदान नहीं करता है। अध्ययनों से पता चला है कि वे वास्तव में दृश्य प्रदर्शन में खराबी पैदा करते है और सिर्फ मंद चमक को बाधित करते हैं। संघीय व्यापार आयोग के अनुसार इस तरह के लेंस या चश्में दावा के अनुसार प्रदर्शन नहीं करते हैं। इस तरह के चश्में दिन के समय धूमिल या धुंधली परिस्थितियों के लिए प्रभावी हो सकते हैं, परंतु ये चश्में हेडलाइट की चकाचौंध के लिये प्रभावी नहीं है। इस प्रकार के एम्बर आवरण चढ़े हुए चश्में सड़क के गहरे भागों की पहचान करने की दृश्यता को कम करते हैं तथा ये दृश्य प्रकाश संचरण को कम कर देते हैं, जिसका अर्थ है कि आपकी रात की दृष्टि लगभग शून्य हो जाती है। इस कारण दुर्घटना होने की संभावना भी बढ़ जाती है। शीशे वाले लेंस भी हेडलाइट की चमक को कम नहीं करते है, इस प्रकार के लेंस या चश्में अंधेरे में न तो व्यावहारिक है और न ही उचित है।

तो रात में वाहन चालाते समय हेडलाइट की चकाचौंध से बचने का सबसे अच्छा विकल्प क्या है? दृष्टि विशेषज्ञ की माने तो आज हमारे आस पास बहुत सारी आंखों प्रभावित करने वाली वस्तुएँ है, हर व्यक्ति की प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, अंधेरे में देखने की प्राकृतिक क्षमता आदि अलग अलग होती है। हर किसी को यह समझने की जरूरत है कि अभी तक कोई भी बिल्कुल सही और आदर्श चश्मा या लेंस नही है जो पूर्णता हेडलाइट की चकाचौंध से आंखों से बचा सके। परंतु एंटी-परावर्तक (एआर) कोटिंग वाले आईवियर, हेडलाइट की चमक को काफी हद तक कम में कारगर साबित हुए है। हालांकि अभी भी बिना किसी विशेषज्ञ की सलाह के एंटी-परावर्तक कोटिंग वाले आईवियर नही लगाने चाहिये।

एआर(Anti-reflective) कोटिंग लेंस दो तरह से फायदेमंद होते है। सबसे पहले, यह लेंस के भीतर आंतरिक प्रतिबिंबों को कम करता है, परिवेश समस्याओं को कम करता है, और दूसरा, यह लेंस के माध्यम से आंख तक प्रकाश के संचरण को बढ़ाता है। फिर भी इसका इस्तेमाल बिना विशेषज्ञ की सलाह के करना अनुचित होगा। यदि आपको रात में ड्राइव करने के लिये अपनी दृष्टि में सुधार करना है तो आप निम्नलिखित उपाय भी कर सकते है:

1. आंखों की नियमित जांच करवाते रहे
2. हमेशा दृष्टि विशेषज्ञ की सलह ले, जब भी आपको रात के समय वाहन चलाते हुए देखने में परेशानी हो तो नेत्र चिकित्सक को दिखाये
3. दृष्टि विशेषज्ञ की सलह से एआर कोटिंग चश्में का उपायोग करें
4. रात में वाहन चलाते समय हमेशा आंखों के लेंस या चश्में, विंडशील्ड और हेडलाइट्स को साफ रखे, इन पर धूल की परत न जमने दे
5. अपने डैशबोर्ड (dashboard) की रोशनी को कम रखे। मानो या न मानो, परंतु जब आपके डैशबोर्ड रोशनी की चमक ज्यादा होती है और बाहर के परिवेश की रोशनी होती है तो आपकी आँखें तनावपूर्ण हो जाती हैं।

संदर्भ:
1.https://blog.safetyglassesusa.com/shedding-some-light-on-night-driving-challenges-and-solutions-part-2/
2.https://blog.safetyglassesusa.com/shedding-some-light-on-night-driving-challenges-and-solutions-part-1/
3.http://www.laramyk.com/resour
ces/education/dispensing/the-dangers-of-night-driving-glasses/


RECENT POST

  • तेप्ची कढ़ाई- जो मशीनों के इस दौर में भी हाथ से की जाती है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     18-06-2019 11:04 AM


  • क्या बंदर केवल शाकाहारी होते हैं?
    स्तनधारी

     17-06-2019 11:08 AM


  • समय के साथ स्वाभाविक होते पिता
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-06-2019 10:30 AM


  • क्या महानगरों में एसी के बिना प्राकृतिक रूप से जीवन यापन करना संभव है?
    व्यवहारिक

     15-06-2019 10:55 AM


  • क्यों कर रहे हैं भारतीय किसान आत्महत्या?
    ध्वनि 2- भाषायें

     14-06-2019 10:59 AM


  • लखनऊ के क्‍लबों का इतिहास तथा इनकी वर्तमान स्थिति
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-06-2019 10:38 AM


  • कंपनी शैली का भारतीय पारंपरिक शैली तथा अवध शैली पर प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     12-06-2019 11:58 AM


  • लखनऊ में जुम्‍मे की नमाज़ 1857 से पहले और उसके बाद
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-06-2019 10:49 AM


  • कोमल और मोहक सुगंध वाले ग्रीष्म ऋतु के प्रमुख मौसमी फूल
    बागवानी के पौधे (बागान)

     10-06-2019 12:20 PM


  • भारत के 10 सबसे रहस्यमयी मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-06-2019 10:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.