अपने बाल सपनों को कचोटता – पेपरब्वॉय (Paperboy)

लखनऊ

 02-06-2019 09:10 AM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

कलकत्ता यानी सिटी ऑफ़ जॉय (City of Joy) वह पिघलता हुआ बर्तन है जहाँ सपनों को हर रोज़ ताजा पकाया जाता है। यह एक छोटे लड़के की कहानी है, जिसकी दुनिया पुराने कलकत्ता की बाइ-लेन (by-Lanes) के इर्द-गिर्द घूमती है, जहां वह नवीनतम सुर्खियां बंटोरता है और उन्हें सबके दरवाज़ों तक पहुँचाकर फिर अपने दिन के बाकी सपने छोटे चाय के स्टाल पर बिताता है।

फिल्म साफ़ और स्पष्ट सन्देश देती है बालमन के सपनों की जो गरीबी या अमीरी नही देखते, जो हालात नही देखते, जो वारिस या लावारिस नही देखते बस वो हर इंसान के मन में होते हैं। कुछ बच्चों की मजबूरियां होती है कि वे कही काम करें, कहीं भीख मांगे किन्तु समाज का भी इनके प्रति एक कर्त्तव्य होना चाहिए। हमें भी समझना होगा कि ये बच्चे भी हमारी सामाजिक जिम्मेदारी हैं। ये भी हमारे पड़ोस में, हमारे शहर में, हमारे देश में ही रहते हैं। ऐसे बच्चे जिन्हें मजबूरन ये काम करना पड़ रहा होता है, अक्सर देखा जाता है कि अधिकतर ये शिक्षा के प्रति ललायित होतें हैं। अगर ऐसे बच्चों को पढ़ाना प्रारंभ कर दिया जाए तो हो सकता है की यही बच्चे जो आज अपने सपनों के साथ ना चाहते हुए भी समझोता कर रहे हैं भविष्य में हमारे देश की तरक्की और विकास में भागीदार बने।

ये चलचित्र ऐसे ही बालमन के सपनों की उड़ान दिखाती है जो हर रोज़ खुद से लड़ रहे हैं। इस फिल्म में जूते मिलने के बाद बच्चे के मन की खुशी और अंत में ड्राइंगबुक (Drawing Book) पाने के बाद उसके चेहरे के भाव आपको भावविभोर कर देंगे। साथ ही आपका ऐसे बच्चों के प्रति नजरिया भी बदलने की कोशिश करेंगे जो हर रोज़ हमारे सामने हमारे देश में बाल श्रम (Child Labour) प्रतिबंधित होने के बाद भी चाय की दुकानों में, सड़क किनारे जूतों पर पॉलिश (Polish) करते हुए और मजदूरी इत्यादि जैसे कई अन्य काम करते हुए दिखाई दे जाते हैं।
इस चलचित्र को प्रसारित किया है पॉकेट फिल्म्स (Pocket Films) ने और इसे निर्देशित किया है अनिकेत मित्र ने।

सन्दर्भ:-
1. https://www.youtube.com/watch?v=neWPK3fRg5c



RECENT POST

  • जीन में फेरबदल कर बन सकते हैं डिज़ाइनर बच्चे
    डीएनए

     16-09-2019 01:31 PM


  • जे. सी. बोस का भारतीय अभियांत्रिकी और विज्ञान में अमूल्य योगदान
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:14 PM


  • अवध और लॉर्ड वैलेस्ली की सहायक संधि
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:05 AM


  • बीते समय के अवध के शाही फव्वारे
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-09-2019 01:37 PM


  • सांपों से भी ज्यादा जहरीले होते हैं टोड
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैसे करते हैं एस्ट्रोफोटोग्राफी और किस प्रकार जुड़ा है ये प्रकाश प्रदूषण से ?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 12:02 PM


  • ताकत और पराक्रम का प्रतीक है दुल-दुल
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:19 PM


  • भारतीय मुर्गियों की विभिन्न नस्लें
    पंछीयाँ

     09-09-2019 12:20 PM


  • किन जीवों के कारण बनते हैं मोती
    समुद्री संसाधन

     08-09-2019 11:52 AM


  • फसलों को कीटों और खरपतवारों से संरक्षित करते कीटनाशक
    बागवानी के पौधे (बागान)

     07-09-2019 11:16 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.