क्या महानगरों में एसी के बिना प्राकृतिक रूप से जीवन यापन करना संभव है?

लखनऊ

 15-06-2019 10:55 AM
व्यवहारिक

इस भीषण गर्मी में कोई भी व्यक्ति अपने घर, दफ्तर, दुकान में एसी (AC) के बिना काम करने की कल्पना भी नहीं कर सकता है। लेकिन क्या यह संभव है कि इस तपते मौसम में महानगरों में प्राकृतिक वातावरण से भरपूर जीवनशैली को अपनाकर बिना एसी के रहा जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में चारों ओर हरियाली होने के कारण उस जगह में रहने वाले लोग आधुनिकता के साथ-साथ प्राकृतिक जीवन जीते हैं। वहीं प्राकृतिक तरीके से शहरों में भी आधुनिक जीवन यापन करने के लिए कुछ वैकल्पिक समाधान संभव हैं। यदि हम पश्चिम के तौर तरीकों को भूल कर प्राचीन नीति से जीवन जीएं तो हम भी आधुनिकता के साथ-साथ प्राकृतिक तरीके से जीवन यापन कर सकते हैं।

प्राकृतिक जीवन ज़िन्दगी के हर पहलू को बदलता है। यह अस्वास्थ्यकर व्यवहार और व्यस्त जीवन शैली के साथ जुड़े विषैले तत्वों पर अंकुश लगाता है। प्राकृतिक जीवन शैली को अपनाने से पैसे बचते हैं, तनाव कम होता है और अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त होता है। अब आप सोच रहे होंगे कि इसकी शुरुआत कैसे करें। सर्वप्रथम आप अपने घरेलू उपयोगी चीजों में रसायन की मात्रा को कम करना आरंभ करें। साथ ही स्वास्थ्य बने रहने का सबसे स्वस्थ तरीका है घर में ही कुछ सब्ज़ियाँ उगाएं। इसकी शुरुआत आप रसोई की खिड़की में एक छोटा सा मेथी का पौधा लगाकर कर सकते हैं।

आपको बता दें कि केरल के रहने वाले एक जोड़े ने अपने घर को कुछ इस तरह बनाया हुआ है कि यदि बाहर 40 डिग्री (Degree) का भी तापमान हो तो भी उन्हें पंखे की कोई आवश्यकता नहीं होती है। उन्होंने अपने आस –पास को जंगल की भांती ही खिलने दिया हुआ है। साथ ही घर की दीवारों को मिट्टी से बनाया गया है। सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात तो यह है कि पिछले 17 वर्षों में उन्हें कोई दवा नहीं लेनी पड़ी, जिसका कारण यह है कि वे अपने घर के पास ही प्राकृतिक तरीके से फल और सब्ज़ियाँ उगाते हैं।

मध्य प्रदेश के एक वास्तुकार को जब एक परिवार द्वारा एयर कंडीशनिंग (Air Conditioning) के बिना एक ठंडा घर बनाने के लिए कहा गया तो वास्तुकार ने उन्हें सजावटी जाली की दीवार वाला एक घर का सुझाव दिया जिससे वायु-संचार होता रहेगा। इसके परिणामस्वरूप रामबाघ नामक वह घर, हर साल घर के बाहर और अन्दर के तापमान में 6 से 8 डिग्री की भिन्नता को बनाए रखता है।

स्वयं को और अपने घर को ठंडा करने के ये कुछ प्राकृतिक तरीके आपको बिजली के बिल पर पैसे बचाने में भी मदद करेंगे और गर्मी के मौसम में एयर कंडीशनिंग का कम उपयोग करने में भी मदद करेंगे।

सामान्य प्रौद्योगिकी का उपयोग करें :- इसके लिए आपको केवल एक पंखा, बड़ी धातु की कटोरी, और बर्फ चाहिए । पंखे के समीप बर्फ के कटोरे को रख दो और पंखे की हवा कटोरे से होते हुए ठंडी और स्वस्थ हवा प्रदान करेगी।

हवा संचरण के आवगमन :- हवा संचरण के आवगमन को सक्षम करने के लिए विपरीत छोर पर खिड़कियों को खोलने से घर के अंदर हवा का आना बना रहता है। घर में हवा बनाए रखने के लिए हवा संचरण के आवगमन में समय एक महत्वपूर्ण कारक है। गर्मियों के दौरान खिड़कियां खोलने का सबसे अच्छा समय सुबह 5 से 8 बजे के बीच और शाम को 7 से 10 बजे के बीच होता है, क्योंकि इस वक्त शीतल हवा बहती है।

कमरे को खाली रखें :- एक भरा हुआ कमरा काफी गर्म महसूस करवाता है, इसलिए कमरे में हल्के सामानों और जूट से बने पतले आसनों को रखें।

आवश्यकता ना होने पर लाइट को बंद रखें :- कई बल्ब ज्यादा गर्मी को उत्सर्जित करते हैं, इसलिए हो सके तो LED और CFL के बल्बों का उपयोग करें। ये बिजली की खपत भी कम करते हैं और साथ ही ठंडे भी होते हैं।

चावल के तकिए :- गर्मी में बिस्तर को ठंडा रखने के लिए आप चावल के तकिए बना सकते हैं। इन्हें गर्मी में फ्रिज (Fridge) में ठंडा भी किया जा सकता है।

पौधे लगाएं :- युक्तिपूर्वक रूप से पौधों, बेलों को रखने से ये एयर कंडीशनर के रूप में कार्य करते हैं और घर को प्रभावी रूप से ठंडा रखने में मदद करते हैं। सूरज की किरणों को रोकने के लिए घर के पूर्व और पश्चिम की तरफ छायादार पेड़ और पौधे लगाएं।

स्वयं से एक एयर कंडीशनर बनाएं :- आप कई तरह के एयर कंडीशनर खुद घर में बना सकते हैं। इंटरनेट से देख कई प्रकार के अपशिष्ट पदार्थों से आप विभिन्न रचनात्मक एयर कंडीशनर को आसानी से बना सकते हैं।

सफेद रंग करें :- जैसे बर्फ समुद्र के विपरीत पराबैंगनी किरणों को अवशोषित करने के बजाए प्रतिबिंबित कर देती है, वैसे ही गर्मी में घर की छत पर सफेद चूने की परत लगाने पर घर ठंडा रहता है। हालांकि यह बारिश में धुल जाता है, और गर्मी आने पर इसे दुबारा करना पड़ता है।

संदर्भ :-
1.
http://www.newindianexpress.com/opinions/2018/jun/18/adapt-to-natural-living-for-a-changed-life-1829520.html
2. https://www.thebetterindia.com/57389/energy-efficient-house-natural-farm-medicine-free-life-couple-live-life-closest-nature/
3. https://inhabitat.com/a-modern-home-in-india-stays-naturally-cool-without-ac/
4. https://www.thebetterindia.com/92798/summer-simple-ecofriendly-hacks-air-conditioner-keep-home-cool/
5. https://www.quora.com/Can-you-live-without-air-conditioning-in-your-life-Is-it-a-need-or-just-a-want



RECENT POST

  • महासागरों का रंग क्यों होता है भिन्न?
    समुद्र

     17-08-2019 01:46 PM


  • स्‍वतंत्रता के बाद भारतीय रियासतों का भारतीय संघ में विलय
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:39 PM


  • अगस्त 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन से कुछ दुर्लभ चित्र
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:34 AM


  • व्‍यवसाय के रूप में राखी बन रही है एक बेहतर विकल्‍प
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-08-2019 02:52 PM


  • क्या कोरिया से आया है उत्तर प्रदेश का राजकीय प्रतीक?
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-08-2019 12:33 PM


  • विभिन्‍न धर्मों में पशु बलि का महत्‍व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-08-2019 04:07 PM


  • इतिहास का महत्वपूर्ण पहलु, मोहनजोदड़ो नगर
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     11-08-2019 12:18 PM


  • क्या है पारिस्थितिकी और कैसे जुड़ी है ये जलवायु परिवर्तन से?
    जलवायु व ऋतु

     10-08-2019 10:59 AM


  • क्यों दो बार बदला गया लखनऊ स्थित हज हाउस की दीवारों का रंग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     09-08-2019 03:28 PM


  • घड़ियालों को संरक्षण प्रदान करता लखनऊ का कुकरैल संरक्षण वन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     08-08-2019 03:43 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.