कैसे करें घर पर रॉकेट का निर्माण?

लखनऊ

 24-07-2019 12:07 PM
हथियार व खिलौने

कुछ ही दिन पहले विश्‍व ने अपोलो मिशन (Apollo Mission) की पचासवीं वर्षगांठ मनायी। जिसके माध्‍यम से मानव ने पहली बार चांद पर कदम रखा। 20 जुलाई 1969 विश्‍व के इतिहास में स्‍वर्ण अक्षरों से लिखा जाने वाला दिन है। इसी दिन अपोलो-11 के माध्‍यम से सबसे पहले मानव को चंद्रमा पर उतारा गया। कमांडर नील आर्मस्ट्रांग और लुनार मॉड्यूल (Lunar module) पायलट बज़ ऑल्ड्रिन ने 20 जुलाई, 1969 में अपोलो लुनार मॉड्यूल ईगल (Apollo Lunar Module Eagle) को चंद्रमा पर उतारा। इस मिशन के साथ ही नील आर्मस्ट्रांग चंद्रमा पर कदम रखने वाले पहले व्यक्ति बने जिसके कुछ मिनट बाद ऑल्ड्रिन ने भी चंद्रमा की धरती पर अपने कदम रखे। तीसरे अंतरिक्ष यात्री माइकल कॉलिंस ने इस दौरान ऑरबिट पायलट (Orbit pilot) की ज़िम्मेदारी संभाली। दोनों ने अंतरिक्ष यान के बाहर 2 घंटे 15 मिनट बिताए तथा पृथ्वी पर वापस लाने के लिए 21.5 किलोग्राम चंद्र सतह के नमूने एकत्रित किये। इस दौरान कमांड मॉड्यूल पायलट माइकल कोलिंस ने चांद की कक्षा में अकेले कमांड मॉड्यूल (command module) कोलंबिया को उड़ाया। आर्मस्ट्रांग और एल्ड्रिन ने चांद की सतह जिसे उन्होंने ट्रेंक्यूबिलिटी बेस (Tranquility Base) नाम दिया, पर 21 घंटे 31 मिनट बिताए। इसके साथ ही सफर शुरू हुआ मानव का अंतरिक्ष की दुनिया की ओर।

वर्तमान समय में रॉकेट (Rocket) विज्ञान कई आधुनिक तकनीकों से जुड़ गया है तथा लोग व्‍यक्तिगत स्‍तर पर भी इसका उपयोग कर रहे हैं। आज हम आपको एक ऐसे रॉकेट बनाने की विधि बताने जा रहे हैं, जिसे आप पर्याप्‍त साधनों और थोड़ी सी सावधानी के माध्‍यम से घर पर ही बना सकते हैं।

रॉकेट बॉडी (Rocket body) बनाना:
1. रॉकेट बनाने से पूर्व सुरक्षात्‍मक उपकरणों के साथ-साथ एक सुरक्षित स्‍थान (ऊष्‍मा रहित) का चयन कर लें। यह परियोजना खतरनाक है, इसलिए हर समय अपने व्यक्तिगत सुरक्षा गियर (Gear) को पहने रखें, जिसमें दस्ताने और सुरक्षात्मक चश्मे अनिवार्य हैं। कपड़े इस प्रकार के पहनें जिससे आपका पूरा शरीर ढका रहे तथा श्‍वसन हेतु वायुशोधन श्‍वास यंत्र का उपयोग करें।
2. 60-पाउंड क्राफ़्ट (Craft) कागज़ को 10/4 इंच की आकृ‍ति में काटें। कागज़ को जहां से भी काटना है वहां पर पेंसिल से निशान लगाएं तथा उसे काट लें।
3. कागज़ के छोटे सिरे पर 3/8 इंच लकड़ी की डॉवेल (Dowel) लगाएं। डॉवेल आपकी एक खोखली रॉकेट बॉडी बनाने में मदद करेगा। डॉवेल को इस तरह से रखें कि वह आपके कागज़ के छोटे (10 सेमी) हिस्से के अनुरूप हो। इससे एक ट्यूब (Tube) बनेगी जो 4 इंच (10 सेमी) लंबी होगी।
4. कागज़ के सिरे को लकड़ी की डॉवेल के चारों ओर अच्‍छी तरह से लपेटें तथा इसे गोंद से चिपका दें। अब इसमें किसी भी प्रकार के कागज की परत न बनाएं, यह आपकी रॉकेट बॉडी से बाहर निकल सकता है।
5. कागज़ के सामने वाले हिस्से पर अच्‍छी तरह से सफेद गोंद लगाएँ। ध्‍यान रहे इसकी किनारियां ढंग से चिपक जाएं।
6. इसके सूखने के बाद दो रॉकेट बॉडी बनाने के लिए इसे दो बराबर हिस्‍सों में काटें तथा एक समय में एक ही रॉकेट पर कार्य करें।

कैट लिटर सीमेंट (Cat Litter Cement) मिलाना
1. लगभग .25 कप (32 ग्राम) अनसेन्टेड कैट लिटर (Unscented cat litter) को ग्राइंडर (Grinder) में डालें। कैट लिटर को पीसने के लिए मूसली, या ब्लेंडर (Blender) का उपयोग कर सकते हैं।
2. कैट लिटर को को तब तक पीसें जब तक इसका पाउडर न बन जाए। अब इसका पेस्‍ट (Paste) बनाने हेतु इसमें पर्याप्‍त पानी डालें। यह पेस्‍ट मोटा और ढेलेदार होना चाहिए।
3. अब अपनी रॉकेट बॉडी में 5/16 इंच (0.79 सेमी) दूरी छोड़कर फिर से डॉवेल डालें। इस रिक्‍त स्‍थान पर केट लिटर पेस्‍ट को डालें। ट्यूब के अंत में पेस्ट डालकर उस पर डॉवेल से दबाव डालें ताकि वह उस पर ढंग से सेट हो जाए।

रॉकेट ईंधन तैयार करना
1. एक प्लास्टिक के बर्तन में 14 ग्राम पोटेशियम नाइट्रेट (Potassium Nitrate - KNO3) डालें। यह आपके ईंधन को ऑक्सीजन (Oxygen) की एक स्थिर धारा की आपूर्ति करने में मदद करता है, ताकि वह निरंतर जलती रहे। 7 ग्राम शर्करा पाउडर (Sugar Powder) को बर्तन में डालें। बर्तन को सावधानी से संभालें क्योंकि यह सामग्री अत्‍यंत दहनशील हैं।
2. कंटेनर में 5 0.50-कैलिबर लेड बॉल्स (Caliber lead balls) डालें। लेड बॉल्स आपके अवयवों को सुरक्षित रूप से अच्‍छी तरह मिलाने में सहायता करेंगे। अपने पीसे हुए मिश्रण के ऊपर लेड के टुकड़े डालें। फिर, कंटेनर पर ढक्कन रखें।
3. सर्वोत्तम परिणामों के लिए अपने प्रणोदक को 6-10 घंटे के लिए एक रॉक टंबलर (Rock tumbler) में मिलाएं तथा इसे ज़मीन पर गड्ढा कर रखें, ताकि आकस्मिक विस्फोटों को नियंत्रित किया जा सके। विस्‍फोट को ऊपर की ओर निर्देशित करने के लिए छेद के शीर्ष को खुला छोड़ दें। ध्‍यान रहे इस मिश्रण का उपयोग 3 सप्ताह के भीतर कर लिया जाए, नहीं तो इसकी ज्‍वलंत क्षमता समाप्‍त हो जाएगी। मिश्रण को समय-समय पर हिलाते रहें, यह अत्‍यंत ज्‍वलनशील है, अतः विशेष सावधानी बरतें।

रॉकेट का परिष्‍करण:
1. शीर्ष पर 3⁄8 इंच (0.95 सेमी) की जगह छोड़कर बर्तन में ईंधन को भरें। रॉकेट बॉडी में थोड़ी मात्रा में रॉकेट ईंधन डालें, इसे ट्यूब में भली-भांति पैक करने के लिए डॉवेल का उपयोग करें। शीर्ष पर छोड़े गए स्‍थान में केट लीटर को डालें। इससे आपको अपने रॉकेट को सुरक्षित रूप से प्रक्षेपित करने में मदद मिलेगी। ईंधन को ट्यूब में भरते समय ध्‍यान रहे कि इसमें वायु का अंश शेष न रह जाए।

2. ट्यूब में भरे गए ईंधन और केट लीटर में 6D कील के माध्‍यम से छेद करें। यह छिद्र शीर्ष से अंत तक होना चाहिए। अब अपने रॉकेट को चिंगारी देने के लिए विद्युतीय प्रज्वलन प्रणाली का उपयोग करें, ताकि आप सुरक्षित दूरी पर खड़े हो सकें। अतः कील की मदद से एक बत्ती रॉकेट में शुरू से अंत तक डाल दें।

इस प्रकार के रॉकेट हवा में 2,000 फीट की ऊंचाई तक जा सकते हैं।

संदर्भ:
1. https://www.wikihow.com/Make-Sugar-Rockets
2. https://bit.ly/2Z7N7XV



RECENT POST

  • असीमित नोटों की छपाई करके, क्यों भारत सरकार नहीं बना देती सबको अमीर
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • महासागरों का रंग क्यों होता है भिन्न?
    समुद्र

     17-08-2019 01:46 PM


  • स्‍वतंत्रता के बाद भारतीय रियासतों का भारतीय संघ में विलय
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 05:39 PM


  • अगस्त 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन से कुछ दुर्लभ चित्र
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:34 AM


  • व्‍यवसाय के रूप में राखी बन रही है एक बेहतर विकल्‍प
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-08-2019 02:52 PM


  • क्या कोरिया से आया है उत्तर प्रदेश का राजकीय प्रतीक?
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-08-2019 12:33 PM


  • विभिन्‍न धर्मों में पशु बलि का महत्‍व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-08-2019 04:07 PM


  • इतिहास का महत्वपूर्ण पहलु, मोहनजोदड़ो नगर
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     11-08-2019 12:18 PM


  • क्या है पारिस्थितिकी और कैसे जुड़ी है ये जलवायु परिवर्तन से?
    जलवायु व ऋतु

     10-08-2019 10:59 AM


  • क्यों दो बार बदला गया लखनऊ स्थित हज हाउस की दीवारों का रंग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     09-08-2019 03:28 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.