27 साल बाद टूटा लखनऊ के हुसैनाबाद घंटाघर का सन्नाटा

लखनऊ

 05-08-2019 03:16 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

लखनऊ अपनी वास्तुकला की विरासत के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। 221 फीट की ऊंचाई के साथ हुसैनाबाद घंटाघर भी लखनऊ की ब्रिटिश वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण है जिसका निर्माण 1881 और 1887 के मध्य कारवाया गया था। इसके निर्माण कार्य की शुरूआत नवाब नासिर-उद-दीन हैदर ने अवध के पहले संयुक्‍त प्रांत के लेफ्टिनेंट गर्वनर (Lieutenant Governor) जॉर्ज कूपर के स्‍वागत में करवाया था जिसमें लगभग 2 लाख रुपये की लागत आयी थी। लखनऊ का यह घंटाघर लंदन में स्थित प्रसिद्ध बिग बेन (Big Ben) घंटाघर की ही प्रतिकृति है। यह घड़ी पूरी तरह से लंदन से आयातित धातु से बनी हुई है।

घड़ी के प्रत्येक सिरे का व्यास 13 फीट है, जिसमें फूल और पंखुड़ियों के आकार के डायल (Dials) लगाये गये हैं जिनका व्यास 3 फीट है। इसमें लगी मिनट की सुंई 6 फीट तथा घंटे की सुंई 4.5 फीट लम्बी है। कहा जाता है कि इसकी घंटियाँ एक ऐसी ध्वनि का उत्पादन करती थीं जो पूरे शहर में आसानी से सुनाई दे जाती थी। लखनऊ की महान विरासत होने के बाद भी इस घंटाघर को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ए.एस.आई.) की सुरक्षा सूची में नहीं रखा गया और इसके फलस्वरूप 1984 में इसने पूरी तरह से काम करना बंद कर दिया। शहर में अन्य घंटाघर भी हैं जो शहर की समृद्ध विरासत को संरक्षित करने से संबंधित विभागों की अक्षमता को उजागर करते हैं। 1984 के बाद इस घंटाघर को ठीक करने के बहुत प्रयास किए गये जोकि असफल रहे जिसके बाद से हुसैनाबाद के इस प्रसिद्ध घंटाघर में लगभग 27 सालों तक सन्नाटा छाया रहा।

1999 में जिला प्रशासन द्वारा घड़ी को ठीक करने का पहला प्रयास किया गया किंतु यह पूरी तरह से असफल रहा। 2004 में घड़ी को फिर से सुधारने का प्रयास किया गया लेकिन यह प्रयास भी व्यर्थ रहा क्योंकि इस कार्य के लिए जिस व्यक्ति को नियुक्त किया गया था वह घड़ी के महत्वपूर्ण भागों को लेकर भाग गया था। 2009 में इस घंटाघर को ठीक करने का पुनः प्रयास किया गया जिसके लिए एक एंग्लो-स्विस (Anglo-Swiss) कंपनी से संपर्क किया गया किंतु कंपनी के अधिकारी द्वारा यह बताया गया कि घड़ी के कई हिस्से गायब होने की वजह से इसकी मरम्मत नहीं की जा सकती। सभी प्रयास विफल रहने के बाद अंततः 2010 में यांत्रिक इंजीनियर (Engineer) अखिलेश अग्रवाल और मर्चेंट नेवी (Merchant navy) के पारितोष चौहान नामक व्यक्तियों ने घड़ी को ठीक करने का ज़िम्मा अपने ऊपर लिया। 13 अप्रैल, 2010 को दोनों ने काम करना शुरू किया और 28 अक्टूबर 2010 तक वे इस विचलित घड़ी को कार्यशील बनाने में सफल हुए। उनके प्रयासों के कारण घड़ी ने 27 वर्षों की अपनी लम्बी चुप्पी को तोड़ा। दो स्थानीय लोगों की पहल और परिश्रम के कारण इस घड़ी ने फिर से काम करना शुरू किया। इस घड़ी के मरम्मत कार्य की अनुमानित लागत लगभग 20 लाख रुपये थी।

संदर्भ:
1. https://bit.ly/2yBBY6a
2. https://bit.ly/2YGxUw0



RECENT POST

  • तीव्रता से बढ़ती जा रही कृत्रिम मांस की मांग
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-01-2021 10:56 AM


  • लखनऊ विश्‍वविद्यालय का संक्षिप्‍त इतिहास
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     23-01-2021 12:18 PM


  • विश्व युद्धों को समाप्त करने में लखनऊ ब्रिगेड का महत्व
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:35 PM


  • जर्मप्लाज्म सैम्पलों (Sample) पर लॉकडाउन का प्रभाव
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:41 AM


  • पहला वाहन लेने से पहले ध्यान में रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण बातें
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 11:53 AM


  • भारत की जनता की नागरिकता और उससे जुडे़ विशेष नियम
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:32 PM


  • आदिवासी समूहों द्वारा आज भी स्वदेशी रूप में संजोयी गयी हैं, आभूषणों की प्राचीन कलाएं
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:47 PM


  • मदद करने से मिलती है खुशी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 12:14 PM


  • क्या मिक्सर ग्राइंडर से बेहतर है भारत भर में प्रचलित सिलबट्टा
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:32 PM


  • वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण पेश करती है, लखनऊ की तारे वाली कोठी शाही वेधशाला
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:56 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id