नीमतनामा में हैं कबाब बनाने की छ: सौ साल पुरानी विधियां

लखनऊ

 23-08-2019 01:00 PM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

लखनऊ काफी समय से अपने विशेष ‘कबाब’ के लिए जाना जाता है। यह कबाब अद्वितीय और गुप्त व्यंजनों का एक गहरा संरक्षित रहस्य हैं। ऐसा माना जाता है कि इन्हें बनाने में 120 से भी अधिक सामग्रियां उपयोग की जाती हैं, जोकि व्यंजन को इनके जाने-माने अपरिवर्तनीय स्वाद प्रदान करती हैं। कबाब बनाने की सबसे पुरानी विभिन्न विधियों का उल्लेख ‘नीमतनामा’ नामक एक पुस्तक में भी किया गया है। यह पुस्तक मांडू के सुल्तानों की 600 साल पुरानी पांडुलिपि है। नीमतनामा या ‘द बुक ऑफ प्लेज़र्स’ (The Book of Pleasures) 15 वीं शताब्दी में मालवा के सुल्तान घियाथ शाही की एक व्यंजन पुस्तक है जिसे उनके बेटे और उत्तराधिकारी नासिर शाह ने एकत्रित किया था। इस पुस्तक में विभिन्न प्रकार के व्यंजनों को पकाने की विधियों का उल्लेख किया गया। इसके साथ ही पुस्तक में रोगों के उपचार, सुपारी बनाने की विधियों आदि का भी वर्णन किया गया है।

घियाथ शाही के सुल्तान बनने के 30 वर्षों के भीतर ही उसने अपने बेटे, नासिर शाह को राज्य के मामलों को चलाने के लिए प्रतिनियुक्त किया तथा खुद को सुख और संतुष्टि की तलाश में व्यस्त कर दिया। नीमतनामा उनकी निरंतर सुख की तलाश का ही परिणाम है। शाह को खाने में गहरी दिलचस्पी थी जोकि उनकी इस व्यंजन पुस्तक में स्पष्ट रूप से दिखाई देती है। उनके इस कार्य में विभिन्न खाद्य और पेय पदार्थों के व्यंजन, इत्र और दवाएं बनाने की विधियां भी शामिल हैं। वर्तमान में नीमतनामा को लंदन में ‘इंडिया ऑफिस लाइब्रेरी’ (India Office Library) में रखा गया है। इन व्यंजनों में कबाब बनाने की पाक विधियां भी बहुत विस्तृत और आकर्षक हैं जिसका एक उदाहरण निम्नलिखित है:

मीट कबाब:
• सबसे पहले मांस को बहुत बारीक काट लें। इसके बाद इसे हल्दी वाले पानी से अच्छी तरह धो लें तथा उबालें।
• इस मिश्रण में फिर नमक, हींग और कटे हुए प्याज़ डालें तथा कुछ समय तक उबालें।
• जब मिश्रण अच्छी तरह से पक जाये तो मिश्रण को धागे से एक साथ बाँध लें तथा सभी शाकों के साथ अच्छे से मिलाकर इसमें नींबू का रस मिलाएं।
• अब इसे कई घंटों के लिए छोड़ दें। कुछ समय तक छोड़ने के बाद मिश्रण को भूनें।
• जब मीट में मिले शाक लाल और अवशोषित हो जाएं तो घी में कस्तूरी, कपूर और गुलाब-जल को भूनें। इस मिश्रण को मांस पर रगड़ें तथा एक बार फिर भूनें।
• जब यह अच्छी तरह से पक जाये तो धागे को निकाल दें तथा व्यंजन को परोसें।
कबाब के लिए आप मछली, बकरी, भेड़ आदि का मांस भी प्रयोग कर सकते हैं।

नीमतनामा पुस्तक में मांस के व्यंजनों को बनाने की अन्य बहुत सारी विधियां हैं जिनमें से एक निम्नलिखित है-
केसर मांस की विधि:

• सबसे पहले मांस को अच्छी तरह से धों ले।
• खाना पकाने के बर्तन में मीठे-महक वाले घी को डालकर उसमें मांस डाल दें।
• घी गर्म हो जाने पर इसमें केसर, गुलाबजल और कपूर मिलाएं।
• मांस को केसर के साथ मिलाएं और जब यह अच्छी तरह से मिल जाए तो इसमें थोड़ी मात्रा में पानी मिलाएं।
• इलायची, लौंग, धनिया, सौंफ, दालचीनी, कैसिया (Cassia), जीरा और मेथी को लेकर उनके टुकड़े करें और सबको एक मलमल के कपड़े में बाँधकर उन्हें मांस के साथ डालें।
• बादाम, देवदार गुठली, पिस्ता, और किशमिश को इमली के राब में पकाएं और उन्हें मांस में मिलाएं।
• इसमें गुलाबजल, कपूर, कस्तूरी और एम्बरग्रीस (Ambergris) डालें और परोसें।
इसी विधि से तीतर, बटेर, चिकन और कबूतर के मांस को भी पकाएं।

नीमतनामा की लिपि नस्ख है, जोकि अरबी वर्णमाला में लिखने की एक सुलेख शैली है। इसमें फारसी-तुर्क शैली में 50 अद्भुत लघु चित्र किए गए हैं जिन्हें आप निम्न लिंक पर जाकर देख सकते हैं:
https://bit.ly/31StOmw

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/33MZXh6
2. https://bit.ly/2KNGwNW



RECENT POST

  • इंडस वैली और इसकी लैपिडरी
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:43 PM


  • शिकस्ता हस्तलिपि और उसका इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:53 PM


  • लखनऊ और चिकनी बलुई मृदा के विभिन्न उपयोग
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:36 PM


  • वह दुर्लभता जो हैली का धूमकेतु है
    खनिज

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारत के कंटीले जंगल
    जंगल

     04-07-2020 03:14 PM


  • ऐरावत अदम्य शक्ति का प्रतीक और हाथियों का देवता राजा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:06 AM


  • मुगल आभूषण और कपड़ों का निरूपण और इतिहास
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:51 AM


  • लखनऊ की कई जटिल सुगंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:17 PM


  • कितना लाभदायक साबित होगा अंतरिक्ष में खनन
    खनिज

     30-06-2020 06:50 PM


  • भारतीय आदिवासी गहनों में हैं, संस्कृति और परंपरा का सम्मोहन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:50 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.