बीते समय के अवध के शाही फव्वारे

लखनऊ

 13-09-2019 01:37 PM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

फव्वारे प्राचीन काल से ही विभिन्न रियासतों की धरोहर रहे हैं। जैसे-जैसे समय बदलता जा रहा है वैसे-वैसे इनका रूप भी बदलता जा रहा है। आधुनिक युग के लखनऊ में हमें कई संगीतमय फव्वारे देखने को मिलते हैं जिनमें से एक फव्वारा गोमती नदी के पास भी स्थित है। इस संगीतमय फव्वारे को लखनऊ स्थित मार्टीनियर बॉयज़ कॉलेज (Martiniere Boys College) के निकट स्थापित किया गया है। इस प्रकार के संगीतमय फव्वारों को आप लखनऊ के अलावा अन्य शहरों में भी देख सकते हैं, जहां धीमे संगीत के साथ फव्वारों का आनंद उठाया जा सकता है। किन्तु यदि आप लखनऊ के पुराने समय के फव्वारों के बारे में विचार करें तो आपको इन नए फव्वारों के विपरीत भिन्न प्रकार के फव्वारे देखने को मिलेंगे। इन प्राचीन फव्वारों को अवध के नवाबी शहरों और महलों में डिज़ाईन (Design) किया गया था जो आज के फव्वारों से बिल्कुल भिन्न हैं। अवध नवाब के शहरों और महलों के इन फव्वारों का ज़िक्र कई भारतीय लघु चित्रों और विवरणों (एमिली ईडन - Emily Eden आदि) में देखने और पढ़ने को मिलता है जो यहां स्थित फव्वारों का उल्लेख करते हैं।

इन लघुचित्रों में से एक चित्र अवध प्रांत के फर्रुखाबाद में स्थित फव्वारे का वर्णन करता है जो महल के बगीचे में स्थित है। इस फव्वारे के आस-पास कई राजकुमारियां एकत्रित हुई नज़र आती हैं। इसी प्रकार से एक अन्य लघुचित्र में महलों के बीच कई सुंदर-सुंदर बगीचे दिखाई देते हैं जिनके आकर्षण का मुख्य केंद्र बगीचों के बीच स्थित फव्वारे हैं जो बगीचों को एक दूसरे से विभाजित करते हैं। इसी प्रकार के सुंदर फव्वारों को आप लखनऊ स्थित गुलाब बाड़ी और दिल्ली के सफदरगंज मकबरे में भी देख सकते हैं। लखनऊ स्थित गुलाब बाड़ी गुलाब के बगीचे को संदर्भित करता है। गुलाबों का यह बगीचा फैज़ाबाद में नवाब सुजा-उद-दौला के मकबरे के अपने अन्दर समाये हुए है। गुलाबों के इस बगीचे में गुलाबों की कई प्रजातियां पाई जाती हैं जिनके बीच सुंदर फव्वारों को स्थापित किया गया है। सुजा-उद-दौला के इस मकबरे को चारबाग बगीचे के केंद्र में स्थापित किया गया था जिसे कई सारे फव्वारों के साथ सुशोभित किया गया। इसी प्रकार से दिल्ली में सफदरगंज मकबरे की चारों दिशाओं को भी आकर्षक फव्वारों की श्रृंखला से सजाया गया है। ये दोनों फव्वारे दशकों से खराब पड़े थे जिन्हें अब पुनर्जीवित करने का प्रयास किया जा रहा है। फव्वारों को फिर से ठीक कराने का जिम्मा भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ए.एस.आई.) ने लिया है जो फव्वारों को पहले जैसा रूप देने का प्रयास कर रहे हैं।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/2m8ko6L
2. https://www.metmuseum.org/blogs/ruminations/2015/desiring-landscapes
3. https://bit.ly/2meif9N
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Gulab_Bari
5. https://bit.ly/2m7yiWK



RECENT POST

  • लखनऊ के ऐतिहासिक यहियागंज गुरुद्वारे का इतिहास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-11-2019 12:25 PM


  • क्या पौधों में भी हो सकता है कैंसर
    कोशिका के आधार पर

     11-11-2019 12:47 PM


  • चित्रकला के इतिहास में स्पेन के कुछ मुख्य कलाकार
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     10-11-2019 03:09 AM


  • क्यों मनाया जाता है, "ईद-ए-मिलाद उन नबी" का त्यौहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-11-2019 11:30 AM


  • किराना उद्योग में ई-कॉमर्स के बढते कदम
    संचार एवं संचार यन्त्र

     08-11-2019 11:22 AM


  • वायु प्रदूषण के कारण, संकट में है जीवन
    जलवायु व ऋतु

     07-11-2019 11:44 AM


  • देश में चिकित्सकों की कमी और उससे होने वाली परेशानियां
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     06-11-2019 01:04 PM


  • भारत में क्यों नहीं आते हैं अधिक बवंडर?
    जलवायु व ऋतु

     05-11-2019 11:29 AM


  • भारत में आय का उपयुक्त स्रोत हो सकता है मधुमक्खी पालन
    तितलियाँ व कीड़े

     04-11-2019 12:38 PM


  • चोरी के द्रश्य पर आधारित एक स्पूफ व्यंग्य चलचित्र
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     03-11-2019 10:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.