लखनऊ में हुई थी दम बिरयानी की उत्पत्ति

लखनऊ

 17-09-2019 11:06 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

भारतीय संस्कृति में हर्षोल्लास की अभिव्यक्ति का पहला माध्‍यम भोजन होता है अर्थात जीवन की हर खुशी जैसे जन्म, विवाह इत्‍यादि के जश्‍न में खाना, दावत के अतिरिक्‍त अन्य कोई अपेक्षा नहीं की जाती है। भोजन हमारी संस्‍कृति की अभिव्‍यक्ति का भी सबसे बड़ा माध्‍यम है। इसका प्रत्‍यक्ष प्रमाण है हमारे देश के विभिन्‍न क्षेत्रों के प्रसिद्ध व्‍यंजन जैसे गुजरात का ढोकला, मुंबई की पावभाजी, राजस्‍थान की दाल बाटी इत्‍यादि।

भारतीय भोजन के इतिहास की बात की जाए तो यह विभिन्न संस्कृतियों की आवश्यकता और विरासत के समय पर किए गए आविष्कारों से जुड़ी हुई है। जैसे कि कुछ व्यंजनों का आविष्कार जनता के लिए किया गया जबकि कुछ अन्य को भौगोलिक क्षेत्रों से लिया गया था। भारतीय भोजन के कई ऐसे रोचक इतिहास अभी भी अनसुने हैं। तो चलिए जानते हैं लखनऊ में उत्पन्न हुई दम बिरयानी या अवध की बिरयानी के इतिहास के बारे में।

इसकी उत्पत्ति के बारे में कई कहानियां है, लेकिन सबसे लोकप्रिय कहानी नवाब असफ-उद-दौला (1700 के दशक के अंत में अवध के वज़ीर या शासक) से जुड़ी हुई है। 1784 के दौरान अवध प्रान्त में लोग भुखमरी से मर रहे थे, जिसकी वजह से स्थिति इतनी गंभीर हो गयी थी कि किसी के पास भी खाने के लिये कुछ नहीं था। तब असफ-उद-दौला ने स्थिति को सुधारने तथा लोगों को रोज़गार देने के लिए बड़ा इमामबाड़ा की इमारत का निर्माण प्रारंभ करवाया।

लोगों को दिन और रात में खाना खिलाने के लिए, रसोइयों ने दम पुख्त की विधि को नियोजित किया, जिसमें मांस, सब्जियां, चावल और मसालों को एक साथ बड़े बर्तनों में ढक कर धीमी आंच पर पकाया गया। खाना पकाने की इस सुविधाजनक प्रक्रिया की मदद से अत्यधिक मसाले का उपयोग किए बिना बड़ी संख्या में श्रमिकों को स्वादिष्ट भोजन प्रदान किया गया था। वहीं इस प्रक्रिया को ‘दम’ के नाम से जाना जाने लगा।

एक दिन इस व्यंजन के पकते समय नवाब को इसकी खुशबू आई तथा उन्होंने अपने शाही बावर्चियों को वही व्यंजन शाही रसोई में बनाने का निर्देश दिया। शाही बावर्चियों ने इसी तकनीक का इस्तेमाल करके तथा कुछ शाही तरीके इसमें मिश्रित करके व्यंजन तैयार किया तथा उसके बाद दम बिरयानी शाही दरबारों और उच्च वर्ग के लोगों के बीच भी लोकप्रिय हुई। इसके बाद इसे हैदराबाद, कश्मीर, भोपाल आदि की शाही रसोइयों में भी बनाया गया।

दम बिरयानी को बनाने की प्रक्रिया काफी सरल होती है
इसके लिए प्याज़ को हल्का सुनहरा होने तक भूनें। हरी मिर्च और अदरक को काट लें। मलाई और मक्खन को गरम करें (2 मिनट के लिए) और इसे एक तरफ रख दें। अब दही के साथ घी, अदरक-लहसुन का पेस्ट (Paste), जावित्री, साबुत मसाले, पीली मिर्च पाउडर (Powder), धनिया और जीरा पाउडर और प्याज़ का उपयोग करके मटन को पकाएं। इसमें हरी इलायची पाउडर, कटा हुआ पुदीना, अदरक और हरी मिर्च और क्रीम-मक्खन का मिश्रण मिलाएं।

चावल पकाने के लिए, थोड़ा सा घी, और 1 या दो टुकड़े लौंग, दालचीनी, इलायची, तेज़ पत्ता, पुदीना के पत्ते और नमक डालें। इसे 50% तक पकाएं। इसके बाद मटन के आधे हिस्से को पहली परत के रूप में रखें, दूसरी परत के रूप में आधे चावल डालें। इसी तरह, शेष मटन को तीसरी परत के रूप में और शेष मटन को चौथी परत के रूप में रखें। अब, मलाई-मक्खन के मिश्रण के साथ केसर मिलाएं और इसे फैलाएं। ढक्कन लगाकर इसे गेहूं के आटे के लेप से बंद कर दें। अंतः धीमी आंच पर इसे पकाएं।

संदर्भ:
1.
http://www.grmrice.com/origin-of-dum-biryani/
2. https://www.indianeagle.com/travelbeats/indian-food-history/
3. https://bit.ly/2kk7LF9



RECENT POST

  • कृषि में आधुनिक तकनीक का एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है, पोस्ट होल डिगर
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     18-08-2022 12:51 PM


  • अचल संपत्ति बाजार में खरीदारों का लोकप्रिय शहर लखनऊ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     17-08-2022 11:20 AM


  • क्या वास्तव में अमेथिस्ट या जमुनिया रत्न वैज्ञानिक दृष्टि से उपचरात्मक होते है?
    खनिज

     16-08-2022 10:30 AM


  • स्वतंत्र भारत में तोपों की सलामी है संप्रभुता की स्वीकृति, पहले दर्शाती थी औपनिवेशिक पदानुक्रम
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2022 02:56 AM


  • पोल वॉल्ट में विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के लिए प्रसिद्ध हैं आर्मंड डुप्लांटिस
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     14-08-2022 10:40 AM


  • सभी देशवासियों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करती योजनाएं
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     13-08-2022 10:19 AM


  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id