क्यों मनाया जाता है, "ईद-ए-मिलाद उन नबी" का त्यौहार

लखनऊ

 09-11-2019 11:30 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

"ईद-ए-मिलाद उन नबी" का त्योहार पैगंबर हजरत मोहम्मद के जन्म की खुशी में मनाया जाने वाला इस्लामिक त्योहार मुस्लिम समुदाय के लिए बेहद खास माना जाता है। यद्यपि उनके जन्म की सही तारीख अज्ञात है, पर मुस्लिमों का मानना है कि उनका जन्म वर्ष 570 ईस्वी में हुआ था। यह अवसर इस्लामी पंचांग के तीसरे महीने रबी-उल-अव्वल के 12 वें दिन मनाया जाता है। कई इतिहासकारों का मानना है कि इस त्योहार की उत्पत्ति तुर्की में हुई थी जबकि कुछ कहते हैं कि यह मिस्र में शुरू हुआ था।

कई विद्वानों और इतिहासकारों के अनुसार, शुरुआती दिनों में, पैगंबर का जन्मदिन मनाए जाने की कोई परंपरा नहीं देखी गई थी। वहीं इस त्योहार का अनुमोदन करने वाले अनुयायियों का दावा है कि पवित्र कुरान में मिलाद-उन-नबी के कई संदर्भ हैं। साथ ही शिया समुदाय का मानना है कि इस दिन पैगंबर मुहम्मद ने हजरत अली को अपना उत्तराधिकारी चुना था। सुन्नी समुदाय पूरे महीने प्रार्थना करते हैं और वे इस दिन शोक नहीं मनाते हैं।

मौलिद के प्रति इब्न तैमियाह की स्थिति को कुछ शिक्षाविदों द्वारा "विरोधाभासी" और "जटिल" के रूप में वर्णित किया गया है। उनके मुताबिक यह एक निंदनीय भक्तिपूर्ण नवाचार था और साथ में उन लोगों की आलोचना की जिन्होंने मौलिद को ईसाई उत्सव “यीशु के जन्मदिन” की नकल करने की इच्छा से मनाया था। उनका ये भी मानना था कि कुछ लोग पैगंबर के जन्मदिन पर उनके प्यार और श्रद्धा को दिखाने की इच्छा से इस त्योहार को मनाते हैं और इस तरह अपने अच्छे इरादों के लिए वे एक महान पुरस्कार के हकदार हैं।

मौलिद को वहाबी और सलाफी द्वारा स्वीकार नहीं किया गया था। सऊदी वहाबी अधिकारियों, प्रचारकों या धार्मिक पुलिस द्वारा बड़ी संख्या में विभिन्न प्रथाओं की मनाई की गई है। वहाबवाद एक इस्लामी सिद्धांत है और यह मुहम्मद इब्न अब्द अल-वहाब द्वारा स्थापित धार्मिक आंदोलन है। वहाबी शब्द का उपयोग बहुधा पोलेमिक रूप से किया जाता है और अनुयायी आमतौर पर इसके उपयोग को अस्वीकार करते हैं, जिसे सलाफी या मुवाहिद कहा जाता है। शिक्षाविदों और इतिहासकारों ने "सलाफी" शब्द का उपयोग "विचारों के एक स्कूल को निरूपित करने के लिए किया है, जो 19 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में यूरोपीय विचारों के प्रसार की प्रतिक्रिया के रूप में सामने आया" और "मुस्लिम सभ्यता के साथ आधुनिकता की जड़ों को उजागर करने की कोशिश करता है।"

कुछ देशों में, जैसे कि मिस्र और सूडान में मौलिद का उपयोग स्थानीय सूफी संतों के जन्मदिन के उत्सव के लिए एक सामान्य शब्द के रूप में किया जाता है। प्रत्येक वर्ष लगभग 3,000 से अधिक स्थानों में मौलिद समारोह आयोजित किए जाते हैं। ये त्यौहार एक अंतरराष्ट्रीय दर्शकों को आकर्षित करते हैं, मिस्र में 13 वीं शताब्दी के सूफी संत अहमद अल-बदावी को सम्मानित करते हुए यह त्योहार मनाया जाता है जो 30 लाख लोगों को आकर्षित करता है।

संदर्भ :-
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Wahhabism
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Salafi_movement
3. https://bit.ly/2oNbFc1
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Mawlid#Opposition
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Mawlid#Other_uses



RECENT POST

  • क्या वन आवरण पर भारत में नीति संशोधन की है आवश्यकता
    जंगल

     20-11-2019 12:00 PM


  • नवाचार (Innovation) के माध्यम से ही भविष्य का विकास है सम्भव
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     19-11-2019 11:12 AM


  • भारत में कहाँ-कहाँ प्रतिबंधित है, पेपर स्प्रे?
    हथियार व खिलौने

     18-11-2019 01:43 PM


  • भारत में सर्वाधिक पसंद किये जाने वाले उपन्यास
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-11-2019 11:44 AM


  • लखनऊ में पाया जा सकता है ब्लैक-बेलीड टर्न, पर कब तक?
    पंछीयाँ

     16-11-2019 11:26 AM


  • लखनऊ का पारंपरिक स्वादिष्ट व्यंजन “पसंदा कबाब”
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-11-2019 12:54 PM


  • क्या है मधुमेह टाइप 1 और टाइप 2
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     14-11-2019 12:03 PM


  • शोक मनाने के लिए बनवाया गया था कैसरबाग स्थित सफेद बारादरी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     13-11-2019 11:34 AM


  • लखनऊ के ऐतिहासिक यहियागंज गुरुद्वारे का इतिहास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-11-2019 12:25 PM


  • क्या पौधों में भी हो सकता है कैंसर
    कोशिका के आधार पर

     11-11-2019 12:47 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.