हमारी त्वचा पर रहते हैं कई सूक्ष्म जीव, पर क्या है इनका योगदान?

लखनऊ

 28-11-2019 11:37 AM
कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

सुन्दरता किसे नहीं पसंद है? यह एक ऐसी धारणा है जिसके बलबूते पर विश्व भर की कई कंपनियों के उत्पाद दुनिया भर में अपनी धाक जमाये बैठे हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि कई ऐसे सूक्ष्म जीव हैं जो कि हमारी त्वचा को सुन्दर बनाने का कार्य करते हैं? नहीं? तो आइये इस लेख के माध्यम से हम उन सूक्ष्म जीवों के बारे में अध्ययन करते हैं।

एक मनुष्य की त्वचा करीब 500 से अधिक बैक्टीरिया (Bacteria) की मेज़बानी करती है। हमारे शरीर पर उतनी मात्रा में बैक्टीरिया पाए जाते हैं जो कि शरीर के वज़न के 3% तक के बराबर हो सकते हैं। ये छोटे जीव हमारे शरीर पर रहते हैं और ये शरीर पर ही शरीर को बिना किसी भी प्रकार की हानि पहुंचाये सहवास भी करते हैं और अपनी संख्या को भी बढ़ाते हैं। शरीर पर पाए जाने वाले इन बैक्टीरिया में से कुछ को अच्छा बैक्टीरिया भी कहा जाता है। इन सूक्ष्म जीवों के ही समूह को माइक्रोबायोटा (Microbiota) के नाम से जाना जाता है।

ये सूक्ष्म जीव माइक्रोबायोटा का प्रतिनिधित्व करते हैं और हमारे शरीर की प्रतिरक्षा करते हैं। वर्तमान समय में हम अक्सर टीवी आदि में याकुल्ट नामक उत्पाद का प्रचार देखते हैं जिसमें यह कहा जाता है कि यह अच्छे बैक्टीरिया हैं जो पेट और शरीर को सुरक्षित रखते हैं। वैसे ही ये भी सूक्ष्म जीव हैं जो कि शरीर की त्वचा को सुरक्षित रखने का कार्य करते हैं। वर्तमान काल में कई कॉस्मेटिक कम्पनियाँ (Cosmetic Companies) अनुसंधान के माध्यम से ऐसे उत्पाद बना रही हैं जो कि त्वचा को इन सूक्ष्म जीवों के माध्यम से स्वस्थ और संवेदनशील और अतिसंवेदनशील त्वचा को सुरक्षित और संतुलित रखने का कार्य करते हैं।

हमारी त्वचा वास्तव में इन सूक्ष्मजीवों के संतुलन के साथ मिली हुयी है और यह इसकी तमाम तरीके से सुरक्षा करती है। जब बाहरी और आतंरिक कारणों से इन सूक्ष्म जीवों की संख्या या प्रकार में कमी आती है तो त्वचा पर डर्माटाईटस (Dermatitis), मुँहासे, रोसैशिया (Rosacea) आदि हो जाते हैं। त्वचीय माइक्रोबायोटा त्वचा के प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करते हैं और यह प्राकृतिक शारीरिक प्रतिक्रिया को सक्रिय करते हैं।

वर्तमान काल में कॉस्मेटिक कंपनियों ने मुँहासे से एक्ज़ेमा (Eczema) तक त्वचा की स्थिति का इलाज करने के लिए ऐसे उत्पाद बाज़ार में उतारे हैं जो माइक्रोबायोम (Microbiome) का उपयोग करते हैं। अभी हालांकि हमारी त्वचा पर पाए जाने वाले इन सूक्ष्म जीवों पर अध्ययन किया जा रहा है। केमिकल एंड इंजीनियरिंग न्यूज़ (Chemical Engineering News) नामक मैगज़ीन (Magazine) की कवर स्टोरी (Cover Story) और अमेरिकन केमिकल सोसाइटी (America Chemical Society) की साप्ताहिक पत्रिका में भी इस विषय पर विस्तार से चर्चा की गयी थी। जिस प्रक्रिया के तहत त्वचा को सुन्दर करने वाले सूक्ष्म जीवों को संतुलित किया जाता है उसे प्रोबियोथेरेपी (Probiotherapy) कहा जाता है। जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी (Johnson & Johnson Company), प्रॉक्टर एंड गैम्बल (Procter Gamble) और लोरियल (L’Oréal) जैसी कई कंपनियाँ माइक्रोबायोम आधारित उत्पादों का विकास कर रही हैं।

उपरोक्त लेख के माध्यम से हम यह पाते हैं कि मनुष्य के शरीर पर विभिन्न छोटे या अतिसूक्ष्म जीवों की अत्यंत महत्ता है और ये जीव मनुष्य की त्वचा के साथ ही साथ आतंरिक रूप से भी मददगार साबित हो सकते हैं।

संदर्भ:
1.
https://www.comfortzone.it/en/mag-news/skin/good-bacteria-protect-our-skin/
2. https://www.news-medical.net/life-sciences/Skin-Microbiota.aspx
3. https://bit.ly/34ua4qW
4. https://bit.ly/2qotRto



RECENT POST

  • राजनीतिक व्यंग्य की परिभाषा और भारत में इनकी वर्तमान स्थिति
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     29-01-2022 10:03 AM


  • लखनऊ तथा विश्व के अन्य स्थानों में गुलाब की खेती का एक संक्षिप्‍त इतिहास
    बागवानी के पौधे (बागान)

     28-01-2022 09:19 AM


  • 2022 में कई महत्वाकांक्षी मिशन के साथ आगे बढ़ रहा है,भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन
    संचार एवं संचार यन्त्र

     27-01-2022 10:38 AM


  • काफी भव्य रूप से निकाली जाती है लखनऊ में गणतंत्र दिवस की परेड
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     26-01-2022 10:43 AM


  • इंग्लैंड से भारत वापस आई 10वीं शताब्दी की भारतीय योगिनी मूर्ति
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     25-01-2022 09:37 AM


  • क्या मनुष्य कंप्यूटर प्रोग्राम या सिमुलेशन का हिस्सा हैं?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-01-2022 10:52 AM


  • रबिन्द्रनाथ टैगोर और नेता जी सुभाष चंद्र बोस का एक साथ का बहुत दुर्लभ वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:27 PM


  • लखनऊ के निकट कुकरैल रिजर्व मगरमच्छों की लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षण प्रदान कर रहा है
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:26 AM


  • कैसे शहरीकरण से परिणामी भीड़ भाड़ को शहरी नियोजन की मदद से कम किया जा सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:05 AM


  • भारवहन करने वाले जानवरों का मानवीय जीवन में महत्‍व
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:46 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id