औषधीय गुणों से भरपूर है सहजन का पौधा

लखनऊ

 04-12-2019 11:24 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

प्रकृति ने हमें वरदान के रूप में कई ऐसे पेड़-पौधे और जड़ी-बूटियां दी हैं जो हमारी कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर कर सकती हैं। ऐसा ही एक पौधा सहजन (वानस्पतिक नाम: ‘मोरिंगा ओलिफेरा’/Moringa oleifera) है, जो लखनऊ में काफी आम है। सहजन दक्षिण एशिया के क्षेत्रों के मूल निवासी ‘मोरिंगशिए’ परिवार का एक तेज़ी से विकसित होने वाला पेड़ है। यह भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के क्षेत्रों में मूल रूप से पाया जाता है। यह उष्ण कटिबंध में भी उगाया जाता है और औषधि बनाने के लिए इसके पत्ते, छाल, फूल, फल, बीज और जड़ लगभग सभी हिस्सों का उपयोग किया जाता है।

सहजन एक पर्णपाती पेड़ है जिसका कद 10-12 मीटर की ऊंचाई तक और तने का व्यास 45 सेमी तक पहुंच सकता है। वहीं छाल में एक सफेद-ग्रे रंग होता है और यह मोटे काग से घिरा होता है। इसकी टहनी में बैंगनी या हरी-सफेद छाल होती है। सहजन के पौधे में रोपण के बाद पहले छह महीनों के भीतर फूल आना शुरू हो जाते हैं। इसके फूल सुगंधित होते हैं, जो पांच असमान, पतले घने, पीले-सफेद पंखुड़ियों से घिरे होते हैं। ये फूल लगभग 1.0-1.5 सेमी लंबे और 2.0 सेमी चौड़े होते हैं।

सहजन का पेड़ मुख्य रूप से अर्द्ध-शुष्क, उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में उगाया जाता है, जो संयुक्त राज्य अमेरिका में यूएसडीए (USDA) कठोरता क्षेत्र 9 और 10 के अनुरूप है। यह मिट्टी की एक विस्तृत श्रृंखला को सहन कर सकता है, लेकिन थोड़ी तटस्थ से अम्लीय, अच्छी तरह से सूखी रेतीली या दोमट मिट्टी इसके लिए ज्यादा उपयुक्त होती है। साथ ही यह शुष्क क्षेत्रों के लिए विशेष रूप से उपयुक्त है, क्योंकि यह महंगी सिंचाई तकनीकों के बिना वर्षा जल का उपयोग करके उगाया जा सकता है।

सहजन दुनिया के कुछ हिस्सों में एक महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत है। क्योंकि यह सस्ता होने के साथ साथ आसानी से उगाया जा सकता है, और सूखे होने पर इसकी पत्तियों में बहुत सारे विटामिन और खनिज पाए जाते हैं, जिसके चलते भारत और अफ्रीका में कुपोषण से लड़ने के लिए सहजन का उपयोग किया जाता है। सहजन की फली वात व उदरशूल में पत्ती नेत्ररोग, मोच, शियाटिका ,गठिया, दमा, जलोधर, पथरी, प्लीहा रोग के लिए उपयोगी है। छाल का उपयोग शियाटिका, गठिया, यकृत आदि रोगों के लिए श्रेयष्कर है।

सहजन के विभिन्न अंगों के रस को मधुर, वातघ्न, रुचिकारक, वेदनाशक, पाचक आदि गुणों के रूप में जाना जाता है। सहजन की छाल में शहद मिलाकर पीने से वात व कफ रोग शांत हो जाते हैं। इसकी पत्ती का काढ़ा बनाकर पीने से गठिया, शियाटिका, पक्षाघात, वायु विकार में शीघ्र लाभ पहुंचता है। शियाटिका के तीव्र वेग में इसकी जड़ का काढ़ा तीव्र गति से चमत्कारी प्रभाव दिखता है।

वैज्ञानिकों द्वारा भी सहजन से होने वाले स्वास्थ्य लाभ की पुष्टि की गई है, जो निम्नलिखित है :-
1) सहजन बहुत पौष्टिक है :-
सहजन की पत्तियां प्रोटीन (Protein), विटामिन बी 6 (Vitamin B6), विटामिन सी, राइबोफ्लेविन (Riboflavin) और आयरन (Iron) सहित कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं।
2) सहजन प्रतिउपचायक में समृद्ध है :- सहजन विभिन्न एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidants) से समृद्ध है, जिसमें क्वेरसेटिन (Quercetin) और क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) शामिल हैं। मोरिंगा पत्तियों का पाउडर (Powder) रक्त एंटीऑक्सीडेंट के स्तर को बढ़ा सकता है।
3) सहजन रक्तशर्करा के स्तर को कम करता है :- सहजन के पत्तों से रक्त शर्करा के स्तर में कमी आ सकती है, लेकिन किसी भी उपाय को करने से पहले अधिक शोध की आवश्यकता है।
4) सहजन रक्तवसा को कम करने में मदद करता है: - सहजन रक्तवसा के स्तर को कम कर सकता है और संभवतः हृदय रोग के जोखिम को भी कम करता है।

वैसे तो सहजन के पत्ते, फल, और बीज भोजन के रूप में खाने में संभवतः सुरक्षित हैं। वहीं इसके पत्ते और बीज दवा के रूप में कम समय के लिए मुंह से लिए जाने पर सुरक्षित हैं। सहजन के पत्ते वाले उत्पादों को 90 दिनों तक स्पष्ट सुरक्षा के साथ उपयोग किया जा सकता है और इसके बीज वाले उत्पादों को 3 सप्ताह तक स्पष्ट सुरक्षा के साथ उपयोग किया जा सकता है। लेकिन सहजन की जड़ और जड़ से बनी सामग्री का सेवन करना असुरक्षित पाया गया है क्योंकि इसकी जड़ों में एक विषैला पदार्थ स्पाइरोकिन (Spirochin) होता है। वहीं उपयुक्त दिए गए किसी भी उपाए को उपयोग करने से पूर्व चिकित्सक से सलह अवश्य लें।

संदर्भ :-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Moringa_oleifera
2. https://bit.ly/33Ppt46
3. https://www.healthline.com/nutrition/6-benefits-of-moringa-oleifera
4. https://www.emedicinehealth.com/moringa/vitamins-supplements.htm
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://commons.wikimedia.org/wiki/Morus_nigra
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Moringa_oleifera#/media/File:DrumstickFlower.jpg
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Moringa_oleifera#/media/File:Moringa_flower_5.jpg
4. https://pixabay.com/pt/photos/planta-moringa-oleifera-superfood-2307261/
5. https://www.flickr.com/photos/jircas/36577424952



RECENT POST

  • कृषि में आधुनिक तकनीक का एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है, पोस्ट होल डिगर
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     18-08-2022 12:51 PM


  • अचल संपत्ति बाजार में खरीदारों का लोकप्रिय शहर लखनऊ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     17-08-2022 11:20 AM


  • क्या वास्तव में अमेथिस्ट या जमुनिया रत्न वैज्ञानिक दृष्टि से उपचरात्मक होते है?
    खनिज

     16-08-2022 10:30 AM


  • स्वतंत्र भारत में तोपों की सलामी है संप्रभुता की स्वीकृति, पहले दर्शाती थी औपनिवेशिक पदानुक्रम
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2022 02:56 AM


  • पोल वॉल्ट में विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के लिए प्रसिद्ध हैं आर्मंड डुप्लांटिस
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     14-08-2022 10:40 AM


  • सभी देशवासियों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करती योजनाएं
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     13-08-2022 10:19 AM


  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id