कुछ न कहते हुए भी बहुत कुछ कहना ही है मुखाभिनय

लखनऊ

 10-12-2019 12:42 PM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

प्राचीन काल से ही भारत विभिन्न अभिनय कलाओं का केंद्र रहा है। यह अभिनय छोटे-छोटे शहरों में विभिन्न रूपों जैसे कठपुतली, जादू का खेल, लोकनृत्य आदि के रूप में देखा जा सकता है। लखनऊ जो अपनी वास्तुकला, खान-पान इत्यादि के लिए जाना जाता है, अपने छोटे पैमाने की इन अभिनय कलाओं का भी केंद्र है। यहां के विभिन्न स्थानों पर आप इन कलाओं का लुत्फ़ उठा सकते हैं। इन सभी प्रदर्शन या अभिनय कलाओं में एक रूप माइम एक्ट (Mime act) या मुखाभिनय का भी है जिसका नाम शायद कम ही लोगों ने सुना होगा। किंतु यदि आपने ये नाम नहीं सुना है तो आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अभिनय की यह विधा लगभग 3000 साल पुरानी है। अभिनय करने के इस अंदाज़ को मूक अभिनय भी कहा जा सकता है जो वर्तमान में कहीं गायब सा हो गया है। हालांकि विभिन्न संस्थाएं इस कला के महत्व को समझते हुए इसे पुनर्जीवित करने का प्रयास कर रही हैं।

यह कला इसलिए खास है क्योंकि इसमें संवादों के बिना ही आंखों, भौंहों, होंठों और इशारों की सहायता से अपनी बात दर्शकों तक पहुंचायी जा सकती है। इस प्रकार कुछ न कहते हुए भी यह अभिनय बहुत कुछ कह जाता है। कलाकार प्रायः अपने हावभावों और अपनी शारीरिक भाषा को निखारने के लिए काले रंग की पोशाक पहनते हैं तथा सफेद रंग से अपने चेहरे को रंगते हैं ताकि उनके चेहरे के हावभाव स्पष्ट रूप से दिखें। मुखाभिनय शरीर की भाषा को बहुत महत्व देता है। अभिनय के दौरान घटनाओं से सम्बंधित संगीत भी बजाया जाता है जो प्रदर्शन को और भी अधिक आकर्षक बनाता है। वास्तव में इन अभिनयों का मुख्य उद्देश्य सामाजिक बुराइयों को उजागर करना होता है। थिएटर फेस्टिवल (Theater festival) और कई कॉर्पोरेट (Corporate) प्रशिक्षण कार्यक्रमों ने मुखाभिनय की इस कला को आज भी बनाए रखा है जो माइम और पैंटोमाइम के माध्यम से एक संक्षिप्त नाटक प्रस्तुत करते हैं।

यह अभिनय सूक्ष्म भावों को जागृत करता है तथा कलाकार की याददाश्त, रचनात्मकता और सटीकता में सुधार करने में भी सहायक है। इस अभिनय का वर्णन प्राचीन ग्रंथ, नाट्यशास्त्र में भी किया गया है। भरत नाट्यम की विभिन्न मुद्राओं में इस कला का भी प्रयोग किया जाता है। इस अभिनय की विशेषता यह है कि इसमें समूह के आकार और आयु सीमा के लिए कोई बाध्यता नहीं होती तथा इसका उपयोग कथक-कली जैसी नृत्य शैलियों में भी किया जाता है जिसमें मुख के भावों के माध्यम से अपनी बात दूसरों तक पहुंचाई जाती है। मूक अभिनय कला एक ऐसी दुनिया है जहां बहुत अधिक सांस्कृतिक विविधता है। यह गैर-भाषी कला का एक विशेष रूप है, जिसकी कोई भाषा तो नहीं है किंतु फिर भी यह हमें बहुत कुछ समझा देती है। इस कला का उपयोग जन संचार के एक प्रभावी माध्यम के रूप में किया जा सकता है। वर्तमान में, इस कला का उपयोग दुनिया के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता बढ़ाने के लिए किया जा रहा है।

संदर्भ:
1.
https://www.bbc.com/news/world-asia-india-22949654
2. https://bit.ly/36cCbLY
3. https://bit.ly/2P4a9wr
4. https://bit.ly/2Rxknai
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://bit.ly/2RIktvX
2. https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Nithor_Mime_Artist.jpg
3. https://pxhere.com/en/photo/1197576
4. https://bit.ly/2Pz2F3q



RECENT POST

  • क्या रहा लखनऊ की वनस्पतियों के अनुसार, अब तक प्रारंग का सफर
    शारीरिक

     04-08-2020 10:00 AM


  • अवधी खाने में दम देना
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     04-08-2020 08:45 AM


  • भाई बहन बदलते हैं एक दूसरे का जीवन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 04:08 PM


  • साँप गाँव शेटपाल
    रेंगने वाले जीव

     31-07-2020 05:33 PM


  • लखनऊ में स्थित चन्द्रिका देवी का भव्य मंदिर का महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 06:01 PM


  • शाकाहार के विपरीत नहीं हैं इस्लाम धर्म की मान्यताएं
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 06:14 PM


  • क्या रहा मनुष्य और उसके आविष्कारों के अनुसार अब तक प्रारंग और लखनऊ का सफर
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     30-07-2020 02:40 PM


  • चुनौतियां बरखा बहार की
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2020 03:39 AM


  • लखनऊ के लिए चुनौती: गिरता भूजल स्तर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     29-07-2020 08:50 AM


  • हज यात्रा 2020 और उत्तर प्रदेश
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     28-07-2020 06:07 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.