क्या सूर्य आकाशगंगा के चारों ओर घूमता है?

लखनऊ

 13-01-2020 10:00 AM
शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

आपके मन में कभी भी यह प्रश्न आया कि क्या सूर्य आकाशगंगा के चारों ओर घूमता है? जी हाँ, और सिर्फ सूर्य ही नहीं हमारा पूरा सौर मंडल हमारी आकाशगंगा के केंद्र के चारों ओर परिक्रमा करता है। हमारी धरती 8,28,000 किमी / घंटा के औसत वेग से आगे बढ़ रही है, लेकिन इतनी तीव्र गति से चलने के बाद भी मिल्कि वे (Milky Way) के चारों ओर परिक्रमा करने में धरती को लगभग 230 मिलियन वर्ष लगते हैं।

मिल्की वे एक सर्पिल आकाशगंगा है। वहीं यह माना जाता है कि इसके केंद्र में एक केंद्रीय उभार, 4 प्रमुख भुजाएँ और कई छोटी भुजाओं के खंड मौजूद हैं। सूर्य (और, निश्चित रूप से सौर मंडल) दो प्रमुख भुजाओं के बीच, ओरायन (Orion) शाखा के पास स्थित है। आकाशगंगा का व्यास लगभग 1,00,000 प्रकाश-वर्ष है और सूर्य आकाशगंगा केंद्र से लगभग 28,000 प्रकाश-वर्ष की दूरी पर स्थित है। वहीं आकाशगंगा वर्ष जिसे ब्रह्मांडीय वर्ष के रूप में भी जाना जाता है, यह सूर्य द्वारा मिल्की वे आकाशगंगा की परिक्रमा करने के लिए आवश्यक समय की अवधि है।

एक ग्रहपथ की लंबाई का अनुमान 225 से 250 मिलियन स्थलीय वर्षों तक है। सौर मंडल आकाशगंगा केंद्र के चारों ओर अपने प्रक्षेप पथ पर 230 किमी/सेकंड (8,28,000 किमी/घंटा) या 143 मील/सेकंड (5,14,000 मील/घंटे) की औसत गति से यात्रा कर रहा है। इस गति से एक वस्तु धरती की 2 मिनट और 54 सेकंड में परिक्रमा कर सकती है। यह गति प्रकाश की गति के लगभग 1/1300 से मेल खाती है।

आकाशगंगा वर्ष ब्रह्माण्डीय और भूवैज्ञानिक समय अवधि को एक साथ चित्रित करने के लिए एक सुविधाजनक रूप से प्रयोग करने योग्य इकाई प्रदान करता है। इसके विपरीत, "बिलियन-ईयर" स्केल (Billion-Year Scale) भूगर्भीय घटनाओं के बीच उपयोगी भेदभाव की अनुमति नहीं देता है, और "मिलियन-ईयर" (Million-Year) पैमाने पर कुछ बड़ी संख्याओं की आवश्यकता होती है।

निम्न तालिका गांगेय वर्षों में ब्रह्मांड की समयरेखा और पृथ्वी के इतिहास को दर्शाती है :-

वहीं दूसरी ओर वैज्ञानिकों द्वारा यह भी खोज की गई है कि हमारी आकाशगंगा और अन्य आकाशगंगा एंड्रोमेडा (Andromeda) के बीच लगभग 4.5 बिलियन वर्ष बाद टक्कर होगी। हालांकि इसमें शामिल तारे पर्याप्त रूप से दूर हैं तो यह असंभव है कि उनमें से कोई भी व्यक्तिगत रूप से टकराएंगे। टकराव के परिणामस्वरूम आकाशगंगा से कुछ तारे जैसे, मिल्कोमेडा (Milkomeda) या मिल्कड्रोमेडा (Milkdromeda) निकल सकते हैं। आकाशगंगाओं के लंबे जीवन काल को देखते हुए ऐसी टक्कर अपेक्षाकृत सामान्य है। उदाहरण के लिए, माना जाता है कि अतीत में कम से कम एक अन्य आकाशगंगा से एंड्रोमेडा टकराया था, और कई छोटी आकाशगंगा जैसे कि Sgr dSph वर्तमान में मिल्की वे से टकरा रहे हैं और इसमें विलीन हो रहे हैं।

वहीं कुछ वैज्ञानिकों की गणना से यह पता चलता है कि 50% यह संभावना है कि इस टकराव से सौर मंडल अपनी वर्तमान दूरी की तुलना में गांगेय मूल से तीन गुना दूर बह जाएगा। वहीं 12% संभावना है कि टक्कर के दौरान सौर मंडल को नई आकाशगंगा से बाहर निकाल दिया जाएगा। इस तरह की घटना से मंडल पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा और सूर्य या ग्रहों में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी की संभावना कम होगी।

संदर्भ:-
1.
https://starchild.gsfc.nasa.gov/docs/StarChild/questions/question18.html
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Galactic_year
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Andromeda%E2%80%93Milky_Way_collision
4. https://earthsky.org/space/gaia-new-insights-milky-way-andromeda-collision



RECENT POST

  • एक खतरनाक शिकारी है भारतीय नेवला
    स्तनधारी

     20-01-2020 03:22 AM


  • आइये जानते हैं – ईरानी सिनेमा के बारे में
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     19-01-2020 10:00 AM


  • कहां चले गए रात में जगमगाने वाले जुगनू
    तितलियाँ व कीड़े

     18-01-2020 10:00 AM


  • भारत सहित कई एशियाई देशों में वीर के रूप में दर्शाए गये हैं भगवान हनुमान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2020 10:00 AM


  • दुनिया के सबसे बड़े सैन्य बलों में से एक है, भारतीय सशस्‍त्र सेना
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     16-01-2020 10:00 AM


  • सूर्य की उपासना का दिन है, मकर संक्रांति
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     15-01-2020 10:00 AM


  • अद्भुत पूंछ के लिए विख्यात है इंडियन पैराडाईज़ फ्लाईकैचर
    पंछीयाँ

     14-01-2020 10:00 AM


  • क्या सूर्य आकाशगंगा के चारों ओर घूमता है?
    शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

     13-01-2020 10:00 AM


  • श्री यन्त्र और एक मण्डल के रूप में उसका धार्मिक एवं मानसिक महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-01-2020 10:00 AM


  • जीवों के अस्तित्व को बनाए रखने में सहायक हैं कुकरैल वन संरक्षण
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     11-01-2020 10:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.