मनोरंजन का सबसे सस्ता तरीका है, भूलभुलैया का निर्माण

लखनऊ

 28-01-2020 11:00 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

लखनऊ शहर यूं हीं नहीं कहलाता है नवाबों का शहर, इस शहर की दीवारों पर आज भी नवाबीयत की झलक देखने को मिलती है। लखनऊ भारत का एक ऐसा दुर्लभ शहर है जहाँ एक नवाब द्वारा एक धार्मिक स्थान (शिया इमामबाड़ा) को सभी समुदायों के लिए एक दिलचस्प सार्वजनिक स्थान, एक विशाल पहेली यानि भूलभुलैया के रूप में बदल दिया गया था। यह अद्भुत स्थान लखनऊ का “बड़ा इमामबाड़ा” है।

यह खूबसूरत पारम्परिक वास्तुकला अपने आप में रहस्य और इतिहास को समेटे हुए है। इस स्मारक के भीतर हर पत्थर में एक रहस्य मौजूद है। इसे अवध प्रांत के चौथे नवाब आसफ-उद-दौला द्वारा बनवाया गया था। इस संरचना को पूरा करने में 14 साल लगे थे और इसे डिज़ाइन (Design) वास्तुकार हाफिज़ किफायत उल्लाह ने किया था। इसके अंदर प्रवेश करते ही नवाबी युग का अहसास होता है और इसके नक्काशी और डिज़ाइन पैटर्न (Pattern) काफी आश्चर्यचकित करने वाले हैं। सबसे अनोखी बात तो यह है कि इस पूरी संरचना में एक भी खंभा या बीम (Beam) नहीं है। इमामबाड़ा में मौजूद भूलभुलैया में 1,000 से अधिक मार्ग और लगभग 489 समान द्वार हैं।

वहीं यूरोप (Europe) और अमेरिका (America) के कई शहरों में एक भूलभुलैया या भूमिगत सुरंगों के साथ महल भी मौजूद हैं लेकिन किसी भी अन्य शहर में लखनऊ जैसी कोई पहेली (जो अंतहीन खिड़कियों और सीढ़ियों की वास्तुकला है) नहीं है। निम्न कुछ विश्व में मौजूद भूलभुलैया और भूमिगत शहर हैं :-
1) हैम्पटन कोर्ट, ग्रेटर लंदन, इंग्लैंड (Hampton Court, Greater London, England) :-
हेनरी VIII यहीं रहते हुए इस भूलभुलैया में कभी नहीं गए थे। इसे विलियम III द्वारा 1689 और 1695 के बीच स्थापित किया गया था। यह 60 एकड़ में फैला हुआ है और अपनी जटिलता के लिए मशहूर है।
2) लीड्स कैसल, मेडस्टोन, लीड्स, यूनाइटेड किंगडम (Leeds Castle, Maidstone, Leeds, United Kingdom) :-
इसके चक्रव्यूह में 2,400 यू (Yew) के पेड़ शामिल हैं और जब ऊपर से देखा जाता है, तो यह एक मुकुट जैसा दिखता है।
3) लॉन्गलीट, विल्टशायर, इंग्लैंड (Longleat, Wiltshire, England) :-
इसे 16,000 यू के पेड़ का उपयोग करके बनाया गया था तथा यह दावा किया जाता है कि यह ब्रिटेन का सबसे बड़ा भूलभुलैया है। आपके पहेली सुलझाने के कौशल के आधार पर यह आपको 90 मिनट तक उलझाए रखने में सक्षम है।
4) कैसलवेलन फ़ॉरेस्ट पार्क, डाउन, उत्तरी आयरलैंड, यूनाइटेड किंगडम (Castlewellan Forest Park, Down, Northern Ireland, United Kingdom) :-
यह काउंटी डाउन (County Down) में कैसलवेलन गाँव के करीब स्थित है तथा इसे सन 2000 के करीब बनाया गया था।
5) डेरिनकुयु, तुर्की (Derinkuyu, Turkey) :-
मध्य तुर्की में स्थित कप्पाडोशिया (Cappadociya) शहर में लगभग 36 भूमिगत शहर पाए गए, जिसमें सबसे ज्यादा गहराई डेरिनकुयु (85 मीटर) की है। 1963 में खोजे गए इस शहए में सुरंगों और कमरों के भूमिगत संजाल में वे सभी संस्थान और कमरे शामिल हैं जो हमें एक नियमित शहर में मिलते है।
6) शंघाई टनल, पोर्टलैंड, संयुक्त राज्य (Shanghai Tunnels, Portland, United States) :-
इस जटिल संजाल में कथित तौर पर सुरंग वाले मार्ग शामिल थे जो पोर्टलैंड के ओल्ड टाउन (Old Town) को मध्य डाउनटाउन (Downtown) क्षेत्र में जोड़ते थे। दुर्भाग्य से इनमें से कई भूमिगत स्थानों का विभिन्न सार्वजनिक कार्यों की परियोजनाओं के दौरान भराव हो गया था, लेकिन उनमें से कुछ अभी भी मौजूद हैं, जिन्हें आप खोज सकते हैं।
7) एडिनबरा वॉल्ट्स, एडिनबरा, यूनाइटेड किंगडम (Edinburgh Vaults, Edinburgh, United Kingdom) :-
स्कॉटलैंड (Scotland) की राजधानी एडिनबरा की सड़कों के नीचे 18वीं शताब्दी के समय का एक अंधेरा और नम शहर पाया गया। एडिनबरा वॉल्ट्स, जिसे साउथ ब्रिज वॉल्ट्स (South Bridge Vaults) के नाम से भी जाना जाता है, साउथ ब्रिज के 19 मेहराबों के भीतर बने कक्षों की एक श्रृंखला है।
8) वियलिज़का सॉल्ट माइन, क्राको, पोलैंड (Wieliczka Salt Mine, Krakow, Poland) :-
क्राको से 9 मील की दूरी पर वियलिज़का शहर में स्थित वियलिज़का सॉल्ट माइन को 13वीं शताब्दी में बनाया गया था और 2007 तक खाद्य नमक का उत्पादन किया था। यह भी एक भूमिगत शहर है।

वर्तमान समय में शहरी नियोजकों द्वारा इस तरह की भूलभुलैया को हर शहर में सार्वजनिक स्थलों में स्थापित करने पर विचार करना चाहिए। एक सार्वजनिक स्थान में भूलभुलैया को स्थापित करना एक प्रकार का मनोरंजक और कम लागत वाला तरीका है। यह स्थानीय वास्तुकला प्रतिभा, देशी निर्माण सामग्री और इंजीनियरिंग (Engineering) कुशलता को प्रदर्शित करने का भी एक शानदार तरीका है। इसके अलावा, बच्चों के लिए मुफ्त मनोरंजन की बात की जाए तो इसका विचार बुरा नहीं है।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/2O5reoI
2. https://in.musafir.com/Blog/The_bhool-bhulaiya_of_Lucknow_-_Bada_Imambara.aspx
3. https://www.momondo.com/discover/article/secret-underground-cities-in-the-world
4. https://www.citylab.com/design/2014/07/why-every-city-needs-a-labyrinth/373965/
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://pixabay.com/hu/photos/palace-hampton-court-kir%C3%A1ly-henry-8-2299220/
2. https://www.flickr.com/photos/herry/4993819126
3. https://bit.ly/2O28NBy
4. https://es.wikipedia.org/wiki/Archivo:Longleat_Morris.jpg
5. https://www.youtube.com/watch?v=3jB-_FFGCqE
6. https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Derinkuyu_Underground_City_9817_Nevit.jpg
7. https://www.flickr.com/photos/avail/2176112780/
8. https://en.wikipedia.org/wiki/Shanghai_tunnels
9. https://bit.ly/30YCw3v



RECENT POST

  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id