राजस्व वृद्धि में सहायक है, वेलेंटाइन डे (Valentine's Day)

लखनऊ

 14-02-2020 12:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

हर साल 14 फरवरी के दिन वेलेंटाइन डे (Valentine’s day) मनाया जाता है। यूं तो यह पाश्चात्य संस्कृति का उत्सव है किंतु आर्थिक उदारीकरण के बाद से यह भारत में भी लोकप्रिय होने लगा है। प्रेमी जोड़ों के लिए जहां यह विशेष महत्व का दिन होता है वहीं भारत जैसे देशों में कुछ समूहों द्वारा इस दिन का विरोध या इसकी निंदा भी की जाती है, क्योंकि उनके अनुसार यह पश्चिमी प्रभाव की देन है तथा भारत की संस्कृति के खिलाफ है। लगभग हर साल, विरोध के कारण भारत के कई शहरों में 14 फरवरी के दिन कानून या व्यवस्था की समस्याएं होती हैं।

विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा भारत में पश्चिमी संस्कृति के अवांछित प्रभाव के रूप में वेलेंटाइन डे की निंदा की गयी है। इसे भारतीय संस्कृति पर पश्चिमी हमला बताया गया है जो व्यावसायिक लाभ के लिए युवाओं को आकर्षित करता है। भारत में कई ऐसे दल मौजूद हैं जो वेलेंटाइन डे का विरोध करते हैं। दलों के कार्यकर्ताओं द्वारा दुकानों पर छापा मारा जाता है तथा वहां उपस्थित वेलेंटाइन डे कार्ड (Card) और फूलों को जलाया जाता है। इसके अलावा प्रेमी जोड़ों पर सड़े हुए टमाटर फेंकने जैसी घटनाएं भी होती हैं तथा जोड़ों को अपमानित भी किया जाता है। सार्वजनिक पार्कों में घूमने वाले जोड़ों के बाल काट दिए जाते हैं और कुछ समूह बकरी और कुत्ते, या कुत्ते और घोड़े जैसे विभिन्न जानवरों के विवाह का आयोजन भी करते हैं, ताकि यह संकेत दिया जा सके कि इस दिन प्रदर्शित किया जाने वाला प्रेम नकली या झूठा है।

किंतु यदि युवाओं में इस दिन की लोकप्रियता देखी जाए तो वो कहीं कम नहीं हुई है तथा विभिन्न भारतीय बाज़ार भी इस दिन को खास बनाने में उनकी मदद कर रहे हैं। हर साल यह दिन एक मीडिया इवेंट (Media event) बन जाता है जिसमें वेलेंटाइन डे के कुछ दिन पहले, मीडिया चैनलों (Media Channels) द्वारा कुछ लोगों के इंटरव्यू (Interview) लिए जाते हैं तथा उनके विचार सुने जाते हैं। इसके बाद इस दिन की सुरक्षा को लेकर पुलिस के इंटरव्यू लिए जाते हैं और अंत में इस पर बहस की जाती है कि नैतिक पुलिसिंग (Moral Policing) हमारे देश के लिए अच्छी है या नहीं।

जहां कई राजनीतिक दलों के सदस्यों के लिए यह दिन विवादों का विषय बन जाता है, तो वहीं दूसरी ओर इस दिन को विभिन्न आर्थिक पहलुओं या राजस्व में वृद्धि के रूप में भी देखा जाता है। भारत के एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (Associated Chambers of Commerce and Industry of India) के अनुसार पिछले 4 से 5 वर्षों में वेलेंटाइन डे एक ऐसा त्यौहार बन गया है जिसमें सबसे अधिक खरीददारी की जाती है। 2014 में, यह व्यवसाय 260 मिलियन अमरीकी डॉलर (1820 करोड़) था जो प्रति वर्ष 20% की दर से बढ़ रहा था। 2015 में, यह 40% बढ़कर 2550 करोड़ रुपए हो गया।

बाज़ार इतना अधिक व्यापक इसलिए हुआ है क्योंकि वेलेंटाइन डे एक दिन नहीं बल्कि पूरे सप्ताह मनाया जाता है। एक अध्ययन के अनुसार, वेलेंटाइन डे पर उपभोक्ता खाने पर अधिक (लगभग 55%) खर्च करते हैं क्योंकि सर्वेक्षण में शामिल आधे से अधिक लोग घर से बाहर भोजन करना पसंद करते हैं। इसके बाद 42% लोग अपने प्रियजनों के साथ फिल्म (Film) देखने जाते हैं। सर्वेक्षण में शामिल 21% भारतीय उपभोक्ता अपने प्रियजनों के लिए उनका पसंदीदा उपहार खरीदते हैं। वे उपहार के रूप में पसंद का फूल (39%), उसके बाद कार्ड (22%) और चॉकलेट (Chocolate – 19%) खरीदना पसंद करते हैं।कुछ अन्य विकल्पों में आभूषण, कपड़े, चमड़े का सामान इत्यादि खरीदना शामिल है। भारत में वेलेंटाइन डे व्यापार को बढ़ाने या मुनाफा कमाने का सबसे अच्छा साधन बन गया है। ओयो (Oyo) के एक सर्वेक्षण के अनुसार 2019 में वेलेंटाइन डे के लिए बुकिंग (Booking) 2018 की अपेक्षा 112% बढ़ी थी। इसके अलावा कई ऑनलाइन ऐप्स (Online apps) जैसे टिंडर (Tinder), अमेज़न (Amazon), नेटफ्लिक्स (Netflix) इत्यादि की लोकप्रियता भी बढ़ी है क्योंकि इनके ज़रिए लोग क्रमशः अपने प्रेमियों की तलाश करते हैं, उपहार खरीदते हैं और उनके साथ मनोरंजक समय बिताते हैं।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Valentine%27s_Day_in_India
2. https://arisebharat.com/2014/02/13/the-business-of-valentines-day-in-india/
3. https://bit.ly/2v97p9j
4. https://bit.ly/31rZ4cX
5. https://bit.ly/2UrtdYH
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://pixabay.com/hu/photos/aj%C3%A1nd%C3%A9kok-valentin-nap-dobozok-sz%C3%ADv-3960552/
2. https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Chocolate_gift.jpg
3. https://www.piqsels.com/en/search?q=heart+flower&page=35
4. https://www.pikrepo.com/fcndx/romantic-valentine-s-day-evening-with-love



RECENT POST

  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id