क्या है, मनुष्यों और जानवरों में पाया जाने वाला मोनोगैमी (Monogamy) व्यवहार

लखनऊ

 02-03-2020 12:00 PM
व्यवहारिक

इस लेख में हम मोनोगैमी (Monogamy) के बारे में अध्ययन करेंगे और इससे सम्बंधित मनुष्य और जीवों के समाज को भी देखेंगे। पशुओं की बात करें तो मोनोगैमी एक ही प्रजाति के दो वयस्क जानवरों में निर्धारित की गयी जोड़ी के रूप में परिभाषित किया गया है। इस प्रकार से यह भी कथन है कि ये जीव आपस में एक दूसरे के साथ मैथुन या प्रजनन करते हैं। मोनोगैमी एक ऐसी प्रणाली होती है जो कि एक दूसरे पर निर्भर होते हैं, यह एक ही विपरीत लिंग प्रजाति के ऊपर निर्धारित होता है। मोनोगैमी को दो भागों में बाँट के देख सकते हैं एक अनुवांशिक और दूसरा है सामाजिक एकाधिकार का। सिक्लिड प्रजातियों की वैरिबिलिच्रोमिस मूरी (cichlid, Variabilichromis moorii) में अंडे की देखभाल जोड़ा करता है परन्तु उसे पैदा एक नर नहीं कर सकता है।

स्तनधारी जीवों में मोनोगैमी एक अत्यंत ही दुर्लभ घटना है इनकी प्रजातियों में मात्र 3-9 फीसद ही मोनोगैमी पायी जाती है। मोनोगैमी में यदि सामाजिक एकाधिकार की बात करें तो यह एक पुरुष और एक महिला के मध्य होने वाले सहवास को संदर्भित करता है। इसमें पितृ सत्ता का स्वभाव निकल कर सामने आता है। यह एक ही महिला के साथ के रिश्ते की बात को स्वीकारता है। कैंब्रिज विश्वविद्यालय (Cambridge University) के डायटर लुकास (Dieter Lukas) ने एक कथन दिया जिसमे उन्होंने कहा मोनोगैमी या एक विवाह प्रथा समस्या है उनका मानना है कि एक पुरुष एक ही समय में कई बार सहवास कर सकता है और वह ज्यादा बच्चे पैदा कर सकता है। यदि हम देखें तो मानव समाज एक विवाह और बहु विवाह के ढाँचे में बटा हुआ है।

यदि धार्मिक दृष्टिकोण से देखें तो हिन्दुओं, सिखों आदि में एक विवाह परंपरा है और वहीँ इस्लाम में बहु विवाह परंपरा को देखा जा सकता है। अपितु अगर जानवरों की बात करें तो गोरिल्लों में देखें तो इसमें मादा गोरिल्ला प्रमुख गोरिल्ला के साथ ही सम्भोग करती है, हमारे पूर्वजों में भी मोनोगैमी के लक्षण दिखाई देते हैं जो कि करीब सात मिलियन साल पहले के हैं। बहुविवाह की बात करें तो यह भारत में गैर कानूनी है और वहीँ जब हम प्राचीन भारत की धारणा को देखते हैं तो यह पता चलता है की प्राचीन भारत में बहुविवाह निषिद्ध नहीं था और अमीर वर्ग के लोग यह किया करते थे। 1860 के भारतीय दंड संहिता की धारा 494 और 495 में ईसाईयों के लिए बहु विवाह प्रथा निषिद्ध है और वहीँ 1955 की दंड संहिता में हिन्दुओं के लिए बहु विवाह प्रथा निषिद्ध कर दी गयी थी। बहुविवाह से अनेकों समस्याओं का भी सूत्रपात होता है जिसके कई बिंदु विभिन्न समयों पर हमारे सामने प्रस्तुत होते रहते हैं।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Monogamy_in_animals
2. https://www.livescience.com/32146-are-humans-meant-to-be-monogamous.html
3. https://www.nytimes.com/2013/08/02/science/monogamys-boost-to-human-evolution.html
4. https://bit.ly/2IcXOSu
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Polygamy_in_India



RECENT POST

  • रबिन्द्रनाथ टैगोर और नेता जी सुभाष चंद्र बोस का एक साथ का बहुत दुर्लभ वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:27 PM


  • लखनऊ के निकट कुकरैल रिजर्व मगरमच्छों की लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षण प्रदान कर रहा है
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:26 AM


  • कैसे शहरीकरण से परिणामी भीड़ भाड़ को शहरी नियोजन की मदद से कम किया जा सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:05 AM


  • भारवहन करने वाले जानवरों का मानवीय जीवन में महत्‍व
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:46 AM


  • भारत में कुर्सी अथवा सिंहासन के प्रयोग एवं प्रयोजन
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:08 AM


  • केरल के मछुआरों को अतिरिक्त आय प्रदान करती है, करीमीन मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • भगवान अयप्पा की उत्पत्ति की पौराणिक कथा, हमारे लखनऊ में दक्षिण भारतीय शैली में इनका मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:37 AM


  • स्नोबोर्डिंग के लिए बुनियादी सुविधाएं और प्रशिक्षण प्रदान करते हैं, भारत के कुछ स्थान
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:47 PM


  • कौन से हैं हमारे लखनऊ शहर के प्रसिद्ध, 100 वर्ष से अधिक पुराने कॉलेज?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:36 AM


  • भारत में कैसे मनाया जाता है धार्मिक और मौसमी बदलाव का प्रतीक पर्व , मकर संक्रांति?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:45 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id