लंबी दूरी के संचार को सक्षम करने वाली पहली तकनीक है टेलीग्राफ

लखनऊ

 13-05-2020 09:30 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

टेलीग्राफी (Telegraphy) एक लम्बी दूरी के सन्देश का संचरण है, जहाँ प्रेषक, प्राप्तकर्ता को उस सन्देश वहन करने वाली वस्तु के भौतिक विनिमय के स्थान पर प्रतीकात्मक कोड का प्रयोग करता हैI 18वीं शताब्दी के अंत में खोजे गए सबसे पुराने तार(टेलीग्राफ) को क्लूड सेप (claude chappe) का आप्टिकल तार (Optical Cable) (टेलेग्राफ़) कहा जाता था I नेपोलियन के काल में फ्रांस तथा उसके द्वारा नियंत्रित क्षेत्रों में इस प्रणाली का प्रयोग व्यापक रूप से किया जा रहा थाI 19वीं शताब्दी में विद्युत् तार (इलेक्ट्रॉनिक टेलीग्राफ) ने ऑप्टिकल तार का स्थान ग्रहण करना शुरू कर दिया I इसे पहली बार ब्रिटेन में कूक एंड व्हीटस्टोन (Cook and whitstone) तार(टेलेग्राफ़) के रूप में ग्रहण किया गया, जिसका प्रयोग प्रारंभ में अधिकतर रेलवे में संकेतन के लिए सहायक के रूप में किया जाता था I
1920 के आसपास टेलीग्राफ का प्रयोग स्थाई रूप से घटने लगा I टेलीफोन (Telephone) प्रयोग के साथ ही टेलीग्राफ का पतन हो गया, टेलीफोन की खोज टेलीग्राफ के विकास से हुई थी, ऐसा अनुमान था कि इस युक्ति से टेलीग्राफ की दक्षता को बढाया जा सकेगा I पश्चिमी संघ ने पेटेंट पर अपनी लड़ाई को भी छोड़ दिया क्यूंकि उन्हें लगा कि टेलीफोन टेलीग्राफ के लिए कोई बड़ा खतरा नहीं है I बेल (Bell) टेलीफोन कंपनी की स्थापना 1877 ई० में हुई थी तथा उस समय उसके 230 सदस्य थे और सन 1880 में इनके सदस्यों की संख्या बढ़कर 30,000 तक हो गई थी I सन 1900 तक दुनिया भर में करीब 2 मिलियन फ़ोन थे I इस समय तक तार(टेलेग्राफ़) का प्रयोग मात्र विशेष अवसरों पर बधाई आदि के लिए किया जाने लगा था I

1939 में जब द्वितीय विश्व युद्ध प्रारंभ हुआ तब मित्र राष्ट्रों ने किसी भी प्रकार के कोड के प्रयोग को निषिद्ध कर दिया I द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद कोड का प्रयोग अत्यधिक कम हो गया I दुनिया का तेजी से परिवर्तन हुआ और इस परिवर्तन में कोडबुक (Codebook) अप्रचलित हो गई I 1950 के बाद कुछ वाणिज्यिक निर्णय संचालित किये गए और टेलीग्राफ ने डाक मेल को समय सीमा से संचार मुक्त किया तथा विश्व अर्थव्यवस्था और समाज में क्रांति ला दीI 19वीं शताब्दी के अंत तक टेलीग्राफ आम लोगों के लिए सम्प्रेषण का सामान्य माध्यम बन गया थाI द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद जब टेलीग्राफी कोड अप्रचलित हो गए तब कुछ ही ऐसे मौके थे जहाँ कुछ वाणिज्यिक कोडो को संकलित किया गया थाI इसके अलावा यदि कोड के अपवाद की बात करें तो एक ऑस्ट्रेलियाई (Australian) पोस्टमास्टर (Post master) द्वारा जारी डाक बैंकिंग कोडबुक जो 1968 में जारी किया गया था एकमात्र अपवाद हैI
शुरुआत में टेलीग्राफ का प्रयोग काफी खर्चीला था, इसलिए यह अधिकाधिक उन व्यक्तियों तक सीमित थी, जो लाभ बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग कर सकते थे I टेलीग्राफ का तीन उद्योगों पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा, वित्त, समाचार पत्र और रेलवे I टेलीग्राफी ने रेल मार्ग, समेत वित्तीय और बाजारों में और फार्मों के बीच सूचना लागत में कमी से सम्बंधित संगठनों के विकास में सहायता की I रेल सम्बन्धी टेलीग्राफ व्यवस्था की शुरुआत सन 1840 में ब्रिटेन (Britain) में विकसित की गयी थी। इस प्रणाली का प्रयोग रेलवे में होने वाले ट्रैफिक (Traffic) और उसके सिग्नल (Signal) के बेहतरी के लिए किया गया था जिससे रेल दुर्घटनाओं को रोका जाना संभव हो पाया।

12 जून (June) 1837 वह दिन था जब कूक और व्हीटस्टोन (Cook and whitstone) को इलेक्ट्रिक (Electric) टेलीग्राफी के पेटेंट (Patent) से सम्मानित किया गया। दुनिया के पहले स्थायी रेलवे टेलीग्राफ की बात करें तो सर्वप्रथम जुलाई 1839 में लंदन वेस्टर्न पेडिंगटन (London Western Paddington) और वेस्ट ड्रायटन (west Dryton) के बीच इलेक्ट्रिक टेलीग्राफ का प्रयोग किया गया था। भारत में टेलीग्राफी का प्रारंभ 1850 में हुआ, जब कलकत्ता और डायमंड हार्बर के बीच पहली प्रायोगिक टेलीग्राफी स्थापित की गई थी I ईस्ट इंडिया कंपनी (East india Company) ने इसका इस्तेमाल कई वर्षों के बाद शुरू किया और 1854 तक देश भर में सार्वजिक रूप से टेलीग्राफ़ प्रणाली का प्रयोग स्थापित हो गया I 1930 तक आते आते टेलीग्राफ से भेजे जाने वाले संदेशों को टेलीफोन से भेजा जाने लगा, जिन्हें फैक्स मशीनों ने स्थानांतरित किया तथा बाद में इनका स्थान ई-मेल ने ग्रहण किया।

चित्र (सन्दर्भ):
1. ह्यूजेस (Hughes) टेलीग्राफ, सीमेंस (Siemens) और हल्सके (Halske) द्वारा निर्मित एक प्रारंभिक (1855) टेलीप्रिंटर है। (Wikimedia)
2. दूसरे चित्र में फेल्प्स की इलेक्ट्रो-मोटर प्रिंटिंग टेलीग्राफ मशीन है जो लगभग 1880 में, जॉर्ज मे फेल्प्स (George May Phelps) द्वारा डिज़ाइन किया गया आखिरी और सबसे उन्नत टेलीग्राफी तंत्र है। (Wikimedia)
3. तत्काल लंबी दूरी के संचार को सक्षम करने वाली पहली तकनीक टेलीग्राफ थी। (Youtube)
सन्दर्भ:
1. https://www.history.com/news/the-end-of-an-era-india-shutters-its-telegraph-system
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Telegraphy#Railway_telegraphy
3. http://cryptiana.web.fc2.com/code/telegraph2.htm#SEC18c
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Telegraphy#Decline
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Telegraphy#Social_implications



RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id