प्राचीन समय में शारीरिक रूप से संचालित किए जाते थे पंखे

लखनऊ

 29-05-2020 10:00 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

वर्तमान समय में जब हमें गर्मी लगती है तो उससे राहत पाने के लिए हम पंखे, ए.सी. (A.C) या कूलर (Cooler) को खोलकर उसके नीचे बैठ जाते हैं, लेकिन पंखे, कूलर और ए.सी. के आविष्कार से पहले गर्मी से राहत पाने के लिए मानव द्वारा संचलित पंखों का उपयोग किया जाता था। जब से बिजली के पंखों ने घरों और दफ्तरों में प्रवेश किया है, तब से पंखे चलाने वाले सेवकों ने अपना पेशा खो दिया ह––। दरअसल पहले के समय में पंखा वाला उस व्यक्ति को कहा जाता था जो शारीरिक रूप से पंखे को संचालित करते थे। वहीं इस कार्य के लिए उस समय आमतौर पर बधिर व्यक्ति का चयन किया जाता था, क्योंकि एक पंखा वाला हमेशा गोपनीय वार्तालापों के वक्त भी मौजूद रहता था।

ऐतिहासिक रूप से सबसे पहले नकली हवा की शुरुआत अश्शूर और मिस्र के शाही और धनी व्यक्तियों द्वारा की गई थी, जिन्होंने गर्मी के दिनों में ठंडक प्राप्त करने के लिए विशाल पत्तियों को लहरवाने के लिए सेवकों के एक छोटे दल को नियुक्त किया था। हस्तचलित पंखे, जो आज भी देखे जाते हैं, मसीह के जन्म के आसपास अस्तित्व में आए थे। वहीं एक जापानी तह पंखा ‘अकोमोगी (Akomeogi)’ छठी शताब्दी ईस्वी का माना जाता है। भारत में, मोर के पंखों का एक बड़ा पंखा शासक की शाश्वत सतर्कता का प्रतीक था। यूरोप में हस्तचलित पंखे मध्य युग में आए और लोकप्रिय हुए थे। वहीं 1750 के दशक के मध्य तक अकेले पेरिस में 150 पंखे के निर्माता थे।

औद्योगिक क्रांति के कारखानों में यांत्रिक पंखों का सफल उपयोग विकसित किया गया था। कारखानों में कार्य करने वाले मजदूरों द्वारा गर्मी लगने पर कारखानों के शीर्ष में लकड़ी या धातु के ब्लेड (Blade) को चक्करदार दस्ते (जो उपकरणों को चलाने के लिए उपयोग किया जाता था) में जोड़कर इस्तेमाल किया गया था। वहीं बिजली चलित पंखे का आविष्कार वर्ष 1882 में “शूलर एस व्हीलर” ने किया था। जिसके कुछ साल बाद ही फिलिप डाइहाल ने एक सिलाई मशीन की मोटर पर पंखे की ब्लेड लगाकर और उसे छत से जोड़ कर छत वाले पंखे का आविष्कार किया, उनके द्वारा इसे 1887 में पेटेंट (Patent) करवाया गया था। बाद में, उन्होंने छत वाले पंखे में एक हल्की स्थिरता को जोड़ा।

ब्रिटिश राज के दिनों के पंखे वालों की कुछ तस्वीरें आप इंडिया विज़ुअल की इस लिंक (https://bit.ly/3gzxfH8) में भी जा कर देख सकते हैं। वहीं इसमें हिगिनबोटहम्स के मद्रास विषय पर पोस्टकार्ड (Postcards) भी मौजूद हैं। वहीं वर्तमान समय में पंखा वाला उस व्यक्ति को कहा जाता है जो हाथ से चलने और बिजली वाले पंखों का निर्माण या मरम्मत करते हैं।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र में एक पंखे वाले को पंखा झलते हुए दिखाया गया है। (British Museum, Public Library)
2. दूसरे चित्र में कोलोनिअल भारत में एक पंखे वाले और एक अन्य सेवक को दिखाया गया है। (Pinterest)
3. तीसरे चित्र में एक पंखे वाला अर्धनिद्रा में पंखा झेल रहा है। (Indiavisual FB Page)
4. चौथे चित्र में दो पंखे वाले लेटकर पंखा झेल रहे हैं। (Royal Society for Asian Affairs, London/Bridgeman)
5. अंतिम चित्र में जोधपर किले में टंगे हुए हस्त पंखे को दिखाया गया है। (Wikipedia)

संदर्भ :-
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Punkah_wallah
2. http://dailym.ai/2X9KjuY
3. https://web.archive.org/web/20160309015436/
4. http://newsfinder.org/site/more/ceiling_fans
5. https://bit.ly/3gzxfH8



RECENT POST

  • इंडस वैली और इसकी लैपिडरी
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:43 PM


  • शिकस्ता हस्तलिपि और उसका इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:53 PM


  • लखनऊ और चिकनी बलुई मृदा के विभिन्न उपयोग
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:36 PM


  • वह दुर्लभता जो हैली का धूमकेतु है
    खनिज

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारत के कंटीले जंगल
    जंगल

     04-07-2020 03:14 PM


  • ऐरावत अदम्य शक्ति का प्रतीक और हाथियों का देवता राजा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:06 AM


  • मुगल आभूषण और कपड़ों का निरूपण और इतिहास
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:51 AM


  • लखनऊ की कई जटिल सुगंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:17 PM


  • कितना लाभदायक साबित होगा अंतरिक्ष में खनन
    खनिज

     30-06-2020 06:50 PM


  • भारतीय आदिवासी गहनों में हैं, संस्कृति और परंपरा का सम्मोहन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:50 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.