आखिर कितना है, समुद्र की गहराई का विस्तार ?

लखनऊ

 07-06-2020 01:10 PM
समुद्र

औसतन महासागर 2.3 मील (3.7 किमी) गहरा है, लेकिन कई हिस्से बहुत उथले या गहरे हैं। गहरे क्षेत्रों में उपस्थित जीवन के रूपों ने पानी के दबाव और अंधेरे में रहने के लिए खुद को अनुकूलित किया है। खोजकर्ताओं ने नेविगेशन चार्ट (Navigation Chart) बनाना शुरू किया जिसमें दिखाया गया था कि 500 साल पहले समुद्र कितना चौड़ा था। लेकिन यह गणना करना बहुत कठिन है कि यह कितना गहरा है। यदि आप एक झील या नदी की गहराई को मापना चाहते हैं, तो आप एक धागे या रस्सी में एक वजन बांधकर, इसे उस झील या नदी में नीचे तक ड़ालकर, फिर इसे ऊपर खींचकर स्ट्रिंग के गीले हिस्से को माप सकते हैं। समुद्र में आपको हजारों फीट लंबी रस्सी की आवश्यकता होगी। महासागर के सबसे गहरे हिस्से खाइयाँ हैं - लंबे, संकीर्ण अवसाद हैं।

एचएमएस चैलेंजर (HMS Challenger) ने इन क्षेत्रों में से एक मरियाना ट्रेंच (Mariana Trench) के दक्षिणी छोर का सैंपल दिया, जो महासागर का सबसे गहरा बिंदु हो सकता है। इस ट्रेंच को चैलेंजर डीप के रूप में जाना जाता है, यह 35,768 फीट (10,902 मीटर) से 36,037 फीट (10,984 मीटर) गहरा - लगभग 7 मील (11 किमी) है। आइए समुद्र की गहराइयों में जीवन और चुनौतीपूर्ण चैलेंजर मिशन को देखें।

सन्दर्भ:
1. https://www.youtube.com/watch?v=P3NvJCsiv30
2. https://www.youtube.com/watch?v=EOShNt1vpDU



RECENT POST

  • बैसाखी के महत्व को समझें और जानें कि सिख समुदाय में बैसाखी का त्योहार कितना खास है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2021 01:08 PM


  • दुनिया के सबसे लंबे सांप के रूप में प्रसिद्ध है,जालीदार अजगर
    रेंगने वाले जीव

     13-04-2021 01:00 PM


  • क्यों लैलत-अल-क़द्र वर्ष की सबसे महत्वपूर्ण रात मानी जाती है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-04-2021 10:10 AM


  • भिन्‍नता में एकता का प्रतीक कच्‍छ का रण
    मरुस्थल

     11-04-2021 10:00 AM


  • लबोर एट कॉन्स्टेंटिया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     10-04-2021 10:28 AM


  • कैसे रोका जा सकता है वृद्धावस्‍था को?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-04-2021 10:13 AM


  • उत्तर प्रदेश के किसानों के बीच अत्यधिक लोकप्रिय है, मेंथॉल मिंट की खेती
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     08-04-2021 09:57 AM


  • पठानों द्वारा विकसित किये गये थे, मलिहाबाद के आम बागान
    साग-सब्जियाँ

     07-04-2021 10:10 AM


  • असली क्रिसमस के पेड़ों की मांग में देखी जा रही है बढ़ोतरी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     06-04-2021 10:07 AM


  • अवैध शिकार के कारण विलुप्त होने की कगार पर प्रवासी पक्षी प्रजातियां
    पंछीयाँ

     05-04-2021 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id