ऐरावत अदम्य शक्ति का प्रतीक और हाथियों का देवता राजा

लखनऊ

 03-07-2020 11:06 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

भारतीय धर्मों में हाथी का विशेष महत्‍व देखने को मिलता है, जिसकी पुष्टि हम पौराणिक कथाओं में इन्‍द्र देव के वाहन 'ऐरावत' से कर सकते हैं। ऐरावत एक सफेद हाथी है, जो पुराणों और महाभारत में वर्णित समुद्र मंथन प्रकरण के बाद दिखाई दिया था। अपने अद्वितीय सफेद रंग के अलावा हाथी की छह धड़ और छह जोड़े सूंड होते हैं। कुछ हिंदू संस्कृतियों में, विशेष रूप से दक्षिण पूर्व एशिया में, ऐरावत एक तीन-सिर वाला जानवर है। प्रतीकात्मक रूप से, ऐरावत उन सफेद बादलों का प्रतिनिधित्व करता है जो बारिश के बाद दिखाई देते हैं। सफेद बादलों पर सवार इंद्र देव गरजते हुए वज्रपात फेंकते हैं और काले बादलों को बारिश करने और आकाश को साफ करने के लिए विवश करते हैं। ऐरावत को वैसे कई नामों से जाना जाता है, जैसे 'अब्राह-मतंगा', जिसका अर्थ है "बादलों का हाथी" हाथियों का देव-राजा; ‘नागा-माला’, जिसका अर्थ है “युद्ध लड़ने वाला हाथी” और 'अर्कसोदरा', जिसका अर्थ है "सूर्य का भाई"।

रामायण के अनुसार, ऐरावत की माता का नाम इरावती था। मातंगलीला के अनुसार, ऐरावत का जन्म तब हुआ था, जब ब्रह्मा ने कुछ अंडों के छिलके के ऊपर भजन गाए थे, जिसमें से गरुड़ के साथ सात नर और आठ मादा हाथियों का जन्म हुआ था। पृथु ने ऐरावत को सभी हाथियों का राजा बनाया। ऐरावत के नामों में से एक का अर्थ है "वह जो बादलों को बुनता या बांधता है" क्योंकि कुछ मिथक में यह बताया गया है कि ये हाथी बादलों का उत्पादन करने में सक्षम है। हाथियों को इंद्र की पौराणिक कथाओं के साथ जोड़ा गया है, जिसमें ये बताया गया था कि इंद्र देव वेरा को हराते समय हाथी ऐरावत की सवारी कर रहे थे।

एक अन्य किंवदंती के अनुसार, ऐरावत दूध के सागर का मंथन करके बाहर आए थे और यह माना जाता है कि ऐरावत सभी दिशाओं में से एक दिशा की रक्षा भी करता है। ऐरावत को इंद्र देव के महल स्वर्ग के प्रवेश द्वार पर भी खड़े रहते हुए दर्शाया जाता है। इसके अलावा, प्रत्येक आठ रक्षक देवताओं को हाथी में बैठे हुए दर्शाया जाता है। उनमें से मुख्य इंद्र देव का ऐरावत हाथी है।

जैन परंपरा में, जब एक तीर्थंकर का जन्म होता है, तो इंद्र देव अपने हाथी ऐरावत की सवारी करते हुए अपनी आराधना शची के साथ उतरते हैं, ताकि वे इस समारोह का जश्न मना सकें। वहीं ऐरावत को थाई में 'इरावन' के नाम से इंगित किया जाता है। इसे एक विशाल हाथी के रूप में दिखाया गया है, जिसके तीन या कभी-कभी तैंतीस सिर होते हैं, जिन्हें अक्सर दो से अधिक सूंड के साथ दिखाया जाता है। कुछ मूर्तियाँ इंद्र देव की इरावन की सवारी करते हुए भी दर्शायी गई हैं।

वेद में इंद्र का अर्थ परमात्मा है, लेकिन पुराण साहित्य में इंद्र को देवताओं के राजा के रूप में चित्रित किया गया है। एक महान राजा होने के नाते, इंद्र देव के पास एक नहीं दो वाहन थे- पहला ऐरावत नामक हाथी, और दूसरा उच्छिष्टवा नामक घोड़ा। आयुर्वेद के अनुसार, एक कोमल मक्खन जैसा पदार्थ मानव बालों की जड़ में मौजूद होता है। इस भौतिक पदार्थ को ‘इन्द्र’ कहा जाता है। अत्यधिक चिंता, तंद्रा और कब्ज जैसे कई कारकों के कारण यह पदार्थ ‘इंद्रा’ सूख जाता है, तो मनुष्य ‘गंजेपन’ या ‘इंद्रलुप्त’ से ग्रस्त हो जाता है। वहीं ऐसा माना जाता है कि हाथी के मांस, दांत और घोड़े की लार को गंजेपन की बीमारी के लिए उपचारात्मक दवाओं के रूप में प्रशासित किया जा रहा है। पुराण शास्त्र के रचनाकारों ने प्राचीन ऋषियों के आयुर्वेदिक पाठ से 'इंद्र' शब्द की खोज की थी। 'इंद्र' शब्द पाठ के रोग 'इंद्र लुप्त' या 'इंद्र रोग' से लिया गया है।

चित्र सन्दर्भ:
1.इंद्र (उर्फ सकरा) और शची ने पांच प्रमुख दिव्य हाथी ऐरावत की सवारी की, एक जैन पाठ, पंच कल्याणक से फोलियो।(wikimedia)
2.बैंकॉक, थाईलैंड में वाट अरुण ("डॉन का मंदिर") के केंद्रीय टॉवर, फ्रांग का विस्तार(wikimedia)
3.लाओस का झंडा(wikimedia)
4.थाईलैंड के चियांग माई में इरावन की मूर्ति(wikimedia)

संदर्भ :-
https://en.wikipedia.org/wiki/Airavata
https://www.sanskritimagazine.com/indian-religions/hinduism/airavata-the-king-of-elephants/
https://www.speakingtree.in/blog/the-mystery-behind-indras-airavat
https://www.thehindu.com/features/kids/on-a-different-note/article3296420.ece
https://www.hindu-blog.com/2011/05/symbolism-in-airavata-white-elephant-of.html


RECENT POST

  • 9 दिन के नौ रूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 07:43 AM


  • सबसे अधिक बिकने वाले एकल गीतों में से एक ‘द केचप सॉन्ग-एसेरीज’
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-10-2020 10:06 AM


  • स्वस्थ मिट्टी पर निर्भर है पौष्टिक भोजन की उपलब्धता
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-10-2020 10:47 PM


  • मधुमक्खी पालन: बढ़ती मांग
    तितलियाँ व कीड़े

     16-10-2020 05:57 AM


  • पारिस्थितिकी और राजनीतिक दोनों रूपों से महत्वपूर्ण है पांडा
    स्तनधारी

     14-10-2020 10:54 PM


  • वाल्मीकि रामायण और कम्बा रामायणम् के मध्य अंतर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-10-2020 03:03 PM


  • सड़कों पर भरे पानी की समस्या से निजात दिलायेगा स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     12-10-2020 03:19 PM


  • एर्गोनॉमिक्स के हैं अनेकों फायदे
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     12-10-2020 02:01 AM


  • दक्षिण अमेरिका के सबसे चकाचौंध भरे स्थलों में से एक है, सालार डे उयूनी
    पर्वत, चोटी व पठार

     11-10-2020 03:20 AM


  • कोरोना संकट के परिणामस्वरूप उत्पन्न शारीरिक और मनोवैज्ञानिक चुनौतियां
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     10-10-2020 03:32 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.