दवाओं में कीड़ों का उपयोग

लखनऊ

 10-07-2020 05:32 PM
तितलियाँ व कीड़े

हजारों वर्षों से इंसान अपनी बीमारियों को ठीक करने के लिए प्रकृति पर निर्भर रहा है। इन प्राचीन मूल पर निर्मित आधुनिक विज्ञान और दवा कंपनियों द्वारा स्थापित "प्राकृतिक उत्पाद खोज" योजना ने हमें ऐसी दवाएं प्रदान कीं जो कैंसर, संक्रमण आदि का इलाज कर सकती हैं। लेकिन प्रकृति में पाई जाने वाली दवाओं की खोज इतनी आसान नहीं होती है। आनुवांशिकी में हाल के घटनाक्रम ने प्राकृतिक उत्पादों की ओर एक बदलाव को प्रेरित किया है।

वैज्ञानिक अब उपयोगी यौगिकों की खोज के लिए एक जीव के पूरे डीएनए (DNA) की जांच कर सकते हैं और यह तेजी से स्पष्ट हो रहा है कि हमने प्रकृति की आणविक विविधता की सतह को स्पष्टता से कुरेद दिया है, जिसे कई वर्षों के परीक्षण और त्रुटि द्वारा प्रखर किया गया है। अधिकांश प्रकृति-व्युत्पन्न दवाएं वर्तमान पौधों, कवक और बैक्टीरिया से प्राप्त होती हैं। जो दवाएं जानवरों से प्राप्त होती हैं, वे कुछ ही स्रोतों से आती हैं, जाइला मॉन्स्टर (Gila Monster) छिपकली या जरकाका सांप जैसे विषैले सरीसृप, जोंक या मोलस्क जैसे जीवों के स्राव आदि इसके कुछ उदाहरण हैं।

लेकिन जानवर अविश्वसनीय रूप से विविध हैं और हमारे द्वारा सभी कीड़ों के विविध समूह से संभावित दवा का मुश्किल से लाभ उठाया होगा। कीड़े पृथ्वी पर हर कल्पनीय स्थल और पानी पर कब्जा कर लेते हैं। नतीजतन, उनके पास अन्य जीवों के साथ परस्पर क्रिया करने का एक विस्मयकारी सरणी है, जिसका अर्थ है कि उन्होंने खुद को बचाने के लिए, दूसरों का शिकार करने के लिए कई प्रकार के यौगिक विकसित किए हैं।

अनुसंधान किए गए कीड़ों के छोटे अनुपात में से, कई रोचक यौगिकों की पहचान की गई है। उदाहरण के लिए, ब्लो फ्लाई लार्वा (Blow Fly Larvae) द्वारा निर्मित एक रोगाणुरोधी यौगिक एलोफ़ेरोन (Alloferon), दक्षिण कोरिया और रूस में एक प्रतिविषाणुज और अर्बुदरोधी घटक के रूप में उपयोग किया जाता है। कुछ शोध से पता चलता है कि शक्तिशाली रोगाणुरोधकों के लिए कुछ अन्य कीट प्रजातियों के लार्वा की जांच की जा रही है।

वहीं ततैया के पॉलीबिया पॉलिस्ता (Polybia Paulista) जहर से घिरा एक यौगिक, सामान्य कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाए बिना कैंसर की कोशिकाओं को मार सकता है। मधुमक्खी के जहर में प्रमुख पेप्टाइड्स (Peptides) में से एक, जिसे मेलिटिन (Melittin) कहा जाता है, में गठिया और विभिन्न काठिन्य के पीड़ित रोगियों में सूजन का इलाज करने की क्षमता है। कई रक्त का सेवन करने वाले कीड़े जैसे कि चिचड़ी, गुड़मुक्खी और मच्छर अपने शिकार में कई जैव सक्रिय यौगिकों को शामिल करते हैं। इन कीड़ों का उपयोग रक्त के थक्के बनने या घनास्त्रता को रोकने के लिए सैकड़ों वर्षों से पूर्वी चिकित्सा के चिकित्सकों द्वारा किया जा रहा है। हालांकि, आधुनिक चिकित्सा अनुसंधान ने हाल ही में रक्त का सेवन करने वाले कीट के लार से दवा के विकसित होने की क्षमता की जांच करना शुरू कर दिया है।

वहीं आयुर्वेद प्राचीन पारंपरिक भारतीय उपचार है, जिसे भारत में चिकित्सा उपचार के विशिष्ट घटक के रूप में पश्चिमी चिकित्सा के साथ लगभग सार्वभौमिक रूप से शामिल किया गया है। हालांकि आयुर्वेदिक चिकित्सा अक्सर प्रभावी होती है, किन्तु इसकी खुराक असंगत हो सकती है, और कभी-कभी भारी विषाक्त धातुओं से दूषित हो सकती है। कुछ संक्षिप्त उदाहरण हैं: दीमक को विशिष्ट और अस्पष्ट दोनों तरह की बीमारियों को ठीक करने के लिए जाना जाता है।

आमतौर पर मिट्टी के मेंड़ के एक हिस्से को खोदा जाता है और मिट्टी के मेंड़ के वास्तुशिल्प घटकों और दीमक को एक साथ मिलाकर एक पेस्ट बनाकर प्रभावित क्षेत्रों में लगाया जाता है या इसका सेवन किया जाता है। इस उपचार का उपयोग व्रण, गठिया के रोगों और रक्ताल्पता को ठीक करने के लिए किया जाता है। यह एक सामान्य दर्द निवारक और स्वास्थ्य सुधारक के रूप में भी उपयोगी माना जाता है। वहीं जैट्रोफा लीफ माइनर (Jatropha Leaf Miner), एक शल्कपंखी, जो जैट्रोफा का अधिमानतः सेवन करता है, एक प्रमुख कृषि कीट का एक उदाहरण है जो एक औषधीय उपाय भी है। उपरोक्त में से किसी भी उपचार को बिना चिकित्सक सलह के उपयोग न करें।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र में विभिन्न मर्तबानों के अंदर रसायनों के साथ रखे हुए कीट दिखाए गए हैं, जिनका उपयोग उपचार के लिए किया जाएगा। (Flickr)
2. दूसरे चित्र में एक शोधशाला के अंदर कीटों के लिए भोजन विभक्त करता एक विज्ञानी दिखाई दे रहा है। (Publicdomainpictures)
3. तीसरे चित्र में चिकित्सा में प्रयुक्त होने वाले कीट को दिखाया गया है। (Youtube)
4. चौथे चित्र के माध्यम से कीट अनुसन्धान को दिखाने की कोशिश की गयी है। (Picseqls)

संदर्भ :-
https://www.weforum.org/agenda/2017/02/insects-could-be-holding-the-next-blockbuster-medicine-heres-why
https://en.wikipedia.org/wiki/Insects_in_medicine
https://en.wikipedia.org/wiki/Insects_in_medicine#India_and_Ayurveda


RECENT POST

  • लखनऊ सहित अन्य बड़े शहरों में, समय आ गया है सड़क परिवहन को कार्बन मुक्त करने का
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:35 AM


  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id