जालीदार अजगर: एक परिचय

लखनऊ

 15-07-2020 06:06 PM
रेंगने वाले जीव

जालीदार अजगर सांप की ही एक प्रजाति होती है, जो पाइथोनाइड(Pythonide) परिवार के अंतर्गत आती है। यह दक्षिण एशिया और दक्षिण पूर्वी एशिया में पाई जाती है। जालीदार अजगर विश्व का सबसे लंबा सांप होता है। इसका आई.यू.सी.एन. रेड लिस्ट (IUCN Red List) से ज्यादा मतलब इसलिए नहीं है क्योंकि यह बड़े पैमाने पर उपलब्ध है। कुछ देशों में इसे इसकी त्वचा के लिए, पारंपरिक औषधि निर्माण और पालतू के तौर पर बिक्री हेतु ढूंढा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम मालयोपाइथन रेटिकुलेटस (Malayopython Reticulatus) है। यह एक शानदार तैराक होता है। यह तीन सबसे भारी सांपो में से एक है। दूसरे अन्य अजगरों की तरह यह विषैला नहीं होता।

वर्गीकरण

जालीदार अजगर सन 1801 में जर्मन प्रकृतिवादी जोहन गोटलोब थिएनुस शेनडर(Johann Gottlob Theaenus Schneider) द्वारा व्याख्यायित हुआ था। उन्होंने गौटिंगेन म्यूजियम(गौटिंगेन Museum) में रखे दो जूलॉजिकल(Zoological) नमूनों, जिनका रंग थोड़ा अलग था, को दो प्रजातियों में विभाजित किया- बोआ रेटिकुलाटा(Boa Reticulata) और बोआ होमबिआटा(Boa Rhombeata) । रेटिकुलेटस लैटिन शब्द है, जिसका मतलब जालीदार होता है। 1803 में इसे जेनेरिक(Generic) नाम पाइथन(Python) मिला।

खासियतें

जालीदार अजगर के चिकने पृष्ठीय स्केल होते हैं, जो 69-79 पंक्तियों में पीठ पर विन्यस्त होते हैं। 1000 से ज्यादा जंगली जालीदार अजगर का दक्षिणी सुमात्रा में अध्ययन किया गया, औसतन इनकी लंबाई 1.5 से 6.5 मीटर और वजन 1 से 75 किलोग्राम के मध्य पाया गया। 6 मीटर से अधिक लंबाई के ये अजगर मुश्किल से मिलते हैं, लेकिन गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स(Guinness Book of World Records) के अनुसार वर्तमान में यह अकेला सांप है, जो लगातार अपनी लंबाई बढ़ाता रहता है।

इनकी त्वचा जटिल ज्यामितीय डिजाइन और रंगों के सहयोग से बनती है। ज़ू(Zoo) में इनका रंग गरिष्ठ(Garish) लगता है, ये छाया वाले जंगलों में गिरी हुई पत्तियों के बीच में छुपे रहते हैं। इससे इनके लिए छुपकर शिकार करना आसान होता है। बड़े आकार और आकर्षक रंग- संयोजन के कारण जालीदार अजगर प्राणी उद्यान की लोकप्रिय प्रदर्शनीय चीज होते हैं। केंसास सिटी, मिसौरी(Kansas City, Missouri) में रखा जालीदार अजगर 2011 में अपनी 7.67 मीटर लंबाई और 158.8 किलोग्राम वजन के कारण गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे लंबे सांप के रूप में दर्ज हुआ।

वितरण और निवास

जालीदार अजगर दक्षिण एशिया में निकोबार आईलैंड, भारत, बांग्लादेश, म्यानमार, थाईलैंड, लाओस, कंबोडिया, वियतनाम ,मलेशिया, सिंगापुर, पूर्व में इंडोनेशिया और इंडो-ऑस्ट्रेलियाई आर्किपेलागो (Indo-Australian Archipelago) में पाए जाते हैं। यह वर्षावन, जंगल और घास स्थल (Grasslands) में रहते हैं। यह झरनों और झीलों के नजदीक के इलाकों में भी पाए जाते हैं। बढ़िया तैराक होने के कारण यह पानी में लंबी दूरियां जल्दी नाप लेते हैं।

अमूमन यह मनुष्यों पर आक्रमण नहीं करता लेकिन अगर इसे धमकाया जाता है तो यह काट सकता है। यह जहरीला तो नहीं होता लेकिन बड़ा आकार होने के कारण बड़े घाव और ज्यादा टांके लगवाने की स्थिति बन सकती है।

जालीदार अजगर: 5 रोचक तथ्य

1. इनकी तीन उप-प्रजातियां होती हैं- पाइथन रेटिकुलेटस, पी आर सपूतारी(P R Saputari) और पी आर जैमपीनस(P R Jampeanus)। बाद की दो प्रजातियां बौनी होती हैं।
2. सबसे लंबा जालीदार अजगर 32 फीट लंबा और 350 पाउंड वजन का था।
3. छोटे जालीदार अजगरओं की स्वाभाविक खुराक चूहे होते हैं तथा बड़े सांप, सूअर, कस्तूरी बिलाव(Bear Cat), पांडा और यहां तक कि प्राइमेट्स(Primates ( मनुष्य, बंदर तथा चमगादड़ आदि)) का भी भक्षण करते हैं ।
4. इनका मुख्य शत्रु किंग कोबरा(King Cobra) होता है, जो इन्हीं के इलाकों में रहता है।
5. 2015 में यूनाइटेड स्टेट्स(United States) में जालीदार अजगर को अपने कब्जे में रखना या उसके साथ सफर करना गैरकानूनी घोषित कर दिया, उसके बाद यूनाइटेड स्टेट्स एसोसिएशन ऑफ रेप्टाइल कीपर(United States Association of Reptile Keepers) ने आदेश को चुनौती देकर 2017 में यह प्रतिबंध हटावा दिया। उनका तर्क था कि इस एक्ट में सिर्फ यह प्रतिबंध लगाया गया है कि हानिकारक प्रजातियों को कॉन्टिनेंटल यूनाइटेड स्टेट्स, कोलंबिया, हवाई, कॉमन वेल्थ ऑफ प्यूर्टो रीको या यूनाइटेड स्टेट्स अधिकृत किसी क्षेत्र के मध्य लाया या भेजा नहीं जा सकता है, ना कि इंडिविजुअल राज्यों (Individual States) के बीच।

घातक रण- किंग कोबरा और जालीदार अजगर के मध्य

नेशनल ज्योग्राफिक(National Geographic) द्वारा 2 फरवरी, 2018 को रेपटाइल हंटर(Reptile Hunter) शीर्षक से एक फोटो जारी किया गया था। इसमें विश्व के सबसे लंबे विषैले सांप किंग कोबरा द्वारा जालीदार अजगर पर किए आक्रमण का दृश्य है। इसमें विश्व के सबसे लंबे सांप जालीदार अजगर ने किंग कोबरा को अपनी लपेट में लेकर मार डाला। किन्तु अंत में दोनों साथ में मरे हुए पाए गए।
सांप घर के अंदर कैसे आते हैं?

सांप घर के अंदर घोंसलों और शिकार स्थलों की खोज में आते हैं और कभी कभी ऐसा अपने आप अचानक हो जाता है। क्योंकि सांप ना तो चल सकते हैं और ना खोद सकते हैं, इसलिए छोटे छेदों के माध्यम से वह प्रवेश कर जाते हैं। यह सांप के आकार पर निर्भर करता है, अगर वह दुबला पतला है, तो दरवाजों के बीच की दरार से अंदर घुस सकता है। एक बार अंदर घुसते ही वह हर जगह, चाहे दीवारें हो, पाइप हो या घर की दूसरी जगह, रेंग कर पहुंच जाता है।
अंदर वह कहां पाए जा सकते हैं?

अगर सांप को भोजन बराबर मिलता रहे तो अपने वह घर के अंदर लंबे समय तक रह सकता है। बाहर का मौसम बहुत खराब हो, उदाहरण के लिए भीषण गर्मी के दिनों में सांप दूसरे ठंडे स्थानों की खोज में रहते हैं। इसके अतिरिक्त सांप घरों में आमतौर पर दीवारों, जहां आसानी से रेंग सके, तहखानो, अटारी और झुके हुए छज्जों के ऊपर पाए जाते हैं।

सांप को कैसे पकड़ कर घर से बाहर कर सकते हैं?

सांप के काटने से मांतक पीड़ा के अलावा यह घरों में बीमारी भी फैला सकते हैं। इससे पहले कि साँपो की संख्या बढे, हमें इन्हें घर से बाहर निकाल देना चाहिए। मकान मालिक को घर की नींव में जहां भी दरारें हो, सन ठूसकर भर देना चाहिए, लकड़ियों के ढेर को जमीन से ऊपर उठा कर रखना चाहिए। कूड़े और मलबे को रोजाना साफ करके घर से बाहर कर देना चाहिए। साथ ही साथ रोधी झाड़ियों को बाहर लगाकर इनके प्रवेश को रोकना चाहिए। इसके बावजूद अगर सांप को घर से बाहर ना निकाला जा पा रहा हो तो पशु नियंत्रण विभाग को सूचित करके उन्हें पकड़वाना चाहिए।

सांपों को घर से दूर कैसे रखें?

बचाव और सावधानियां

सांप दूसरे प्राणियों से अलग नहीं होते। वे केवल नियमित भोजन की तलाश में रहते हैं और छुपकर रहने के लिए सुरक्षित स्थान की तलाश करते हैं।

फालतू पौधों, कचरे और घरों की पूरी सफाई रखी जाए।
अपने लॉन(Lawn) की नियमित कटाई छटाई करें, इससे चूहे और दूसरे कीड़े नहीं पनप पाएंगे।
जलाने की लकड़ी को जमीन से उठा कर ऊपर रखें। चिड़ियों का दाना, लॉन में टूटे फल साफ करें, इससे सांपों के लिए चूहे और भोजन सामग्री नहीं मिलेगी।
घर की नीव के आसपास की दरारें भरवा दें ताकि सांप वहां से अंदर ना आ सके।
आने-जाने के रास्तों पर पड़ने वाली पाइपलाइन के छेद हो तो भरवा दें।
कंपोस्ट खाद को डिब्बों में बंद करके रखे, जिससे चूहे और सांप उनमें ना छिप पाएं।
हार्डवेयर कपड़े का एक जाल बगीचे की दीवार के साथ लगवा दें। इसकी ऊंचाई कम से कम 36 इंच होनी चाहिए।
नेचुरल रेपेलेंट का प्रयोग भी कारगर है। सांपों के भोजन की चीजें हटा दें।
अंतिम उपाय है पशु नियंत्रण इकाई से मदद लेकर सांपों से मुक्ति पाना।
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में अजगर सांप के नज़दीकी चित्र (फोकस चित्र) को दिखाया गया है। (Pexels)
द्वितीय चित्र चितकबरे अजगर सांप का चित्र है। (Peakpx)
तीसरे चित्र में पेड़ पर कुंडली जमाकर बैठे चितकबरे अजगर को दिखाया है। (Picseql)
चौथे चित्र में गुस्से से तिलमिलाए चितकबरे अज़गर को दिखाया गया है। (Pexels)
अंतिम चित्र में चितकबरे अज़गर की विभिन्न प्रजातियां दिखाई गयी हैं। (Prarang)

सन्दर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Reticulated_python
http://www.reptilesmagazine.com/5-Facts-About-The-Reticulated-Python/
https://www.nationalgeographic.com/news/2018/02/king-cobra-reticulated-python-fight-battle-photo-spd/
https://www.crittercontrol.com/services/snakes/snake-in-house
https://www.instructables.com/id/How-to-Keep-Snakes-Away-From-Your-House/


RECENT POST

  • विश्व भर में मांस के विकल्प के तौर पर उपयोग किया जा रहा है. भारतीय कटहल
    साग-सब्जियाँ

     22-06-2021 08:17 AM


  • सदियों पुराना पारिजात वृक्ष जिसका संबंध महाभारत काल से है
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-06-2021 07:26 AM


  • कार्टूनों के साथ संगी का शास्त्रिय संगीत का अनोखा संबंध
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-06-2021 12:28 PM


  • क्या बदलाव आए हैं शहरीकरण की वजह से जानवरों के जीवन पर?
    स्तनधारी

     19-06-2021 02:08 PM


  • प्रतिकूल मौसम में आउटडोर खेलों के लिए उपयुक्त वातावरण उपलब्ध करवाते हैं. रिट्रैक्टेबल रूफ
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-06-2021 09:35 AM


  • लखनऊ की सफेद बारादरी का रोचक इतिहास जो शोक स्थल से समारोह स्थल में बदल गई
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     17-06-2021 10:45 AM


  • महामारी के कारण स्थगित क्रिकेट टूर्नामेंट का क्रिकेट अर्थव्यवस्था पर गंभीर प्रभाव
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     15-06-2021 08:49 PM


  • कोरोना के दौरान उभरे नए शब्‍दों का एतिहासिक परिदृश्‍य
    ध्वनि 2- भाषायें

     15-06-2021 12:16 PM


  • बढती जनसँख्या के आर्थिक प्रभाव तथा महामारी से बच्चों की शिक्षा पर असर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     14-06-2021 09:20 AM


  • लम्बवत दीवारों पर चढ़ने की अद्भुत क्षमता के लिए जाना जाता है, आइबेक्स
    व्यवहारिक

     13-06-2021 11:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id