लखनऊ में स्थित चन्द्रिका देवी का भव्य मंदिर का महत्व

लखनऊ

 31-07-2020 06:01 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

चन्द्रिका देवी के भव्य मंदिर से निकलने वाली गोमती नदी की जलधारा चंद्रिका देवी धाम की तीन दिशाओं उत्तर, पश्चिम और दक्षिण में प्रवाहित होती है तथा पूर्व दिशा में महिसागर संगम तीर्थ स्थित है, जिसमें शिव जी की विशाल मूर्ति स्थापित है। देवी दुर्गा का रूप चंद्रिका देवी का मंदिर 300 वर्ष पुराना है और लखनऊ शहर के पास काठवारा गाँव में गोमती नदी के तट पर स्थित है। यह लखनऊ के मुख्य शहर से लगभग 28 किमी दूर है और एयरपोर्ट से लगभग 45 किमी दूर है। इस स्थान और आस-पास के क्षेत्रों का रामायण काल से प्रासंगिकता और धार्मिक महत्व है। इसे माही सागर तीर्थ भी कहा जाता है। स्कंद और कर्म पुराण की पवित्र पुस्तकों में इस मंदिर का उल्लेख है। ऐसा कहा जाता है कि श्री लक्ष्मण (लखनऊ के संस्थापक) के बड़े पुत्र राजकुमार चंद्रकेतु एक बार गोमती के रास्ते अश्वमेघ अश्व लेकर जा रहे थे। तभी रास्ते में अंधेरा हो जाता है और उन्हें तत्कालीन घने जंगल में आराम करना पड़ा, जिसके लिए उन्होंने देवी से सुरक्षा की प्रार्थना करी। उसी समय चंद्रमा का प्रकाश काफी शीतल हो गया और देवी उनके सामने प्रकट हुई और उन्हें आश्वासन दिया।
ऐसा कहा जाता है कि उस काल में यहां स्थापित एक भव्य मंदिर 12वीं शताब्दी में विदेशी आक्रमणकारियों द्वारा नष्ट कर दिया गया था। यह भी कहा जाता है कि लगभग 250 साल पहले कुछ आसपास के ग्रामीणों ने जंगलों में घूमते हुए इस खूबसूरत जगह को खोजा और उसके अगले दिन ही ग्रामीणों को देवी की प्रतिमा मिली और उसे वर्तमान स्थान पर रखा गया। बाद में, एक मंदिर का निर्माण किया गया था और तब से लोग इस मंदिर में माँ चंद्रिका देवी की पूजा करते हैं। साथ ही यह भी कहा जाता है कि द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण ने घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक को शक्ति प्राप्त करने के लिए इसी तीर्थ के बारे में सलाह दी थी। भगवान श्री कृष्ण की सलह से बर्बरीक ने इस स्थान पर लगातार 3 वर्षों तक माँ चंद्रिका देवी की पूजा की थी।
अमावस्या और नवरात्रों की पूर्व संध्या पर, मंदिर और मंदिर परिसर के आसपास बहुत सारी धार्मिक गतिविधियाँ आयोजित की जाती हैं। राज्य के विभिन्न हिस्सों से लोग हवन, मुंडन के लिए यहां आते हैं। इसके अलावा, इन दिनों के दौरान, कीर्तन, सत्संग भी आयोजित की जाती हैं। यहां प्रत्येक दिन सैंकड़ों की संख्या में आने वाले भक्त अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए माँ के दरबार में आकर मन्नत मांगते हैं और चुनरी की गांठ बांधते हैं तथा मनोकामना पूर्ण होने पर माँ को चुनरी, प्रसाद चढ़ाकर मंदिर परिसर में घंटा बांधते हैं।

संदर्भ :-
https://www.patrika.com/dharma-karma/chandrika-devi-temple-lucknow-1241/
https://en.wikipedia.org/wiki/Chandrika_Devi_Temple,_Lucknow

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में चन्द्रिका देवी का मंदिर दिखाया गया है। (Youtube)
दूसरे चित्र में मंदिर में विराजमान देवी की प्रतिमाओं को दिखाया गया है। (Publicdomainpictures)
अंतिम चित्र में मंदिर परिसर में विराजमान भोलेनाथ की छवि दिखाई दे रही है। (Publicdomainpictures)


RECENT POST

  • अवधी बंदूकें और ब्रिटिश साम्राज्य
    हथियार व खिलौने

     18-09-2020 11:28 AM


  • मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप में ऊर्जा भंडारण के उपकरण: लिथियम आयन बैटरी का इतिहास
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 02:49 AM


  • अवधी बंदूकें और ब्रिटिश साम्राज्य
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:15 AM


  • ध्रुपद गायन: प्राचीन परंपरा
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:14 AM


  • ब्लैक होल- अंतरिक्ष की एक रहस्यमय दुनिया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:07 AM


  • अदम्य साहस, वीरता, भक्ति के लिए जाने जाते हैं भगवान हनुमान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-09-2020 04:28 AM


  • पक्षियों को देखने के लिए भारत के सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है, पेरियार वन्यजीव अभयारण्य
    पंछीयाँ

     13-09-2020 04:18 AM


  • स्वस्थ समाज बनाम एक सहगमन
    व्यवहारिक

     12-09-2020 10:19 AM


  • औपनिवेशिक काल की छवि को प्रस्‍तुत करती दिलकुशा कोठी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-09-2020 02:41 AM


  • विलुप्ति के कगार पर खड़े पर्यावरण संरक्षक मिस्र के गिद्ध
    पंछीयाँ

     10-09-2020 08:48 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.