विश्वसनीय टेलीविज़न दर्शक माप प्रणाली वाटरमार्क (Watermark) तकनीक

लखनऊ

 28-08-2020 10:28 AM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

जब आप कोई विशेष पत्रिका या टेलीविज़न प्रसारण (Television Broadcast) देख रहे होते हैं, तो कई बार आपने देखा होगा कि उनके साथ कोई विशेष चिह्न भी प्रसारित हो रहा होता है। ये चिह्न बहुत हल्के होते हैं तथा जब आप ध्यान से देखते हैं तब यह आपको दिखायी देते हैं। इन चिन्हों को वाटरमार्क (Watermark) कहा जाता है तथा जिस तकनीक से उन्हें किसी प्रसारण या प्रकरण में मुद्रित किया जाता है, वह वाटरमार्क तकनीक कहलाती है। इस तकनीक का इस्तेमाल किसी भी कार्यक्रम के वीडियो (Video) प्रसारण में भी किया जाता है, जिससे टीवी चैनल (TV Channels) यह आसानी से ज्ञात कर सकते हैं कि उनके प्रकरण या शो (Show) को कितने लोग देख रहे हैं। इसी प्रकार से किसी भी ऑडियो (Audio) के लिए ऑडियो वॉटरमार्किंग का उपयोग किया जाता है, जिसमें किसी वीडियो के अपलोड (Upload) और प्रसारण से पहले प्रसारित हो रहे प्रकरण या सामग्री में ऑडियो वॉटरमार्क को डाला जाता है। वैसे तो ये वॉटरमार्क सुनाई नहीं देते किंतु किसी हार्डवेयर (Hardware) या सॉफ़्टवेयर (Software) का उपयोग करके इन्हें आसानी से पता लगाया और डिकोड (Decode) किया जा सकता है।

प्रसारित की जाने वाली सूचना या प्रकरण पहले साफ-सुथरा होता है, जिसे फिर चैनल, कार्यक्रम, भाषा और प्रसारण अनुसूची के विवरण के साथ मिला दिया जाता है। दर्शकों के आंकडे प्राप्त करने के लिए यूनिवर्स ((Universe)) अनुमान लगाए जाते हैं। इससे प्रकरण के मालिकों को अभूतपूर्व दृश्यता मिलती है कि उनके प्रकरण कब और कहाँ प्रसारित हुए तथा इन्हें किसने देखा? जैसा कि वॉटरमार्क, सामग्री या प्रकरण का हिस्सा है, इसे नष्ट करने या हटाने का कोई भी प्रयास उस सामग्री की गुणवत्ता को बर्बाद कर देता है, जिसमंे यह उपस्थित है। वॉटरमार्क प्रौद्योगिकी तथा इससे सम्बंधित तकनीकी कार्यशालाओं को बार्क (Broadcast Audience Research Council -BARC) द्वारा संचालित किया जाता है। यह भारत के लिए एक विश्वसनीय टेलीविज़न दर्शक माप प्रणाली विकसित करने के लिए, तीन उद्योग संघों द्वारा प्रोत्साहित की जा रही है। इसकी स्थापना हितधारक निकायों द्वारा की गई है, जो ब्रॉडकास्टर्स (Broadcasters), विज्ञापनदाताओं और विज्ञापन और मीडिया एजेंसियों (Media Agencies) का प्रतिनिधित्व करते हैं। यह एक पारदर्शी, सटीक और समावेशी टीवी दर्शक माप प्रणाली का प्रबंधन करता है। 1,80,000 व्यक्तियों के पैनल (Panel) आकार के साथ, बार्क इंडिया दुनिया में अपने प्रकार की सबसे बड़ी मापक कंपनी है।

ऐसे कई कारक हैं जो बार्क इंडिया रेटिंग (Rating) प्रणाली को अलग बनाते हैं। जैसे यह पारदर्शी है तथा उन्नत वॉटरमार्किंग तकनीक का उपयोग करता है। इसकी रिपोर्टिंग (Reporting) व्यापक होती है। इसके पास अपनी आंतरिक प्रक्रियाओं को सुनिश्चित करने के लिए एक ऑडिट (Audit) तंत्र है तथा यह सरकार के दिशानिर्देशों का पालन करता है आदि। इसे 2012 में भारत के टेलीविज़न दर्शकों की माप प्रणाली के डिजाइनिंग (Designing), कमीशनिंग (Commissioning), पर्यवेक्षण और परिकल्पना के विशिष्ट उद्देश्य के साथ स्थापित किया गया था। वर्तमान में बार्क सेट-टॉप बॉक्स रीडिंग (Set-top Box Reading) के माध्यम से टीवी व्यूअरशिप (TV Viewership) माप की प्रक्रिया में सुधार कर रहा है। वर्तमान समय में कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी ने पूरे विश्व को विविध प्रकार से प्रभावित किया है तथा इसका असर टीवी व्यूअरशिप (Viewership) पर भी देखने को मिला है। कोविड-19 (Covid-19) से पूर्व की अवधि की तुलना में भारत में टेलीविजन दर्शकों की संख्या में 40% की वृद्धि देखी गयी क्योंकि लॉकडाउन (Lockdown) के कारण अधिकतर लोग घर पर थे। एक रिपोर्ट (Report) के अनुसार अप्रैल के दौरान सप्ताह में सभी सात दिनों के लिए टीवी देखने वाले व्यक्तियों की संख्या 48% तक बढ़ गयी थी। रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली और मुंबई जैसे कुछ सबसे बड़े महानगरों में टीवी दर्शकों की संख्या में सबसे अधिक वृद्धि दर्ज की गई। इस समय भारत में कुल टीवी दर्शकों की संख्या में सबसे अधिक योगदान (16%) 15-21 आयु वर्ग के लोगों का था। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में फिल्म दर्शकों की संख्या में क्रमशः 82% और 69% वृद्धि देखी गयी। हालांकि लॉकडाउन के समय में टेलीविजन दर्शकों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि देखी गयी किंतु नीलसन ट्रैकर (Nielsen Tracker) की एक रिपोर्ट के अनुसार यह वृद्धि अब धीरे-धीरे (अभूतपूर्व स्थिति से तुलना करने पर) कम होने लगी है, क्योंकि भारत में लॉकडाउन के समय के बढ़ने के परिणामस्वरूप लोगों द्वारा अपनी इन आदतों में लगाम लगाया जाने लगा।

संदर्भ :
https://brandequity.economictimes.indiatimes.com/news/media/after-peak-drop-in-tv-viewership-smartphone-usage/76196031
https://www.news18.com/news/movies/tv-viewership-up-40-in-india-in-covid-19-era-report-2590547.html
https://www.barcindia.co.in/collect-data.aspx
https://bit.ly/311QUGB
https://bit.ly/33nb7s3

चित्र सन्दर्भ :
मुख्य चित्र में टेलीविजन पर धारावाहिक देखती हुई एक महिला को दिखाया है। (Prarang)
दूसरे चित्र में एक साथ टेलीविजन देखते हुए परिवार को दिखाया गया है। (Flickr)
तीसरे चित्र में टेलीविजन रेटिंग का सांकेतिक चित्र है। (Publicdomainpictures)



RECENT POST

  • अवधी बंदूकें और ब्रिटिश साम्राज्य
    हथियार व खिलौने

     18-09-2020 11:28 AM


  • मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप में ऊर्जा भंडारण के उपकरण: लिथियम आयन बैटरी का इतिहास
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 02:49 AM


  • अवधी बंदूकें और ब्रिटिश साम्राज्य
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:15 AM


  • ध्रुपद गायन: प्राचीन परंपरा
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:14 AM


  • ब्लैक होल- अंतरिक्ष की एक रहस्यमय दुनिया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:07 AM


  • अदम्य साहस, वीरता, भक्ति के लिए जाने जाते हैं भगवान हनुमान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-09-2020 04:28 AM


  • पक्षियों को देखने के लिए भारत के सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है, पेरियार वन्यजीव अभयारण्य
    पंछीयाँ

     13-09-2020 04:18 AM


  • स्वस्थ समाज बनाम एक सहगमन
    व्यवहारिक

     12-09-2020 10:19 AM


  • औपनिवेशिक काल की छवि को प्रस्‍तुत करती दिलकुशा कोठी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-09-2020 02:41 AM


  • विलुप्ति के कगार पर खड़े पर्यावरण संरक्षक मिस्र के गिद्ध
    पंछीयाँ

     10-09-2020 08:48 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.