औपनिवेशिक काल की छवि को प्रस्‍तुत करती दिलकुशा कोठी

लखनऊ

 11-09-2020 02:41 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

ऐतिहासिक इमारतें वे अमुक इतिहासकार हैं, जो बिना कहे अपना सारा इतिहास बयां कर देती हैं। ऐतिहासिक इमारतों की दृष्टि से अपना लखनऊ शहर भी काफी समृद्ध है। यहां की इमारतें मुख्‍यत: औपनिवेशिक भारत की छवि प्रस्‍तुत करती हैं। इन इमारतों में से एक है दिलकुशा कोठी। गोमती के तट पर स्थित इस कोठी का निर्माण 18वीं सदी में ब्रिटिश मेजर गोर ओसेले (British Major Gore Ouseley) द्वारा करवाया गया था, जो कि अवध के नवाब सआदत अली खान के मित्र थे। बाद में अवध के नवाब नासिर-उद-दीन हैदर द्वारा इसके डिज़ाइन में कुछ परिवर्तन किए गए थे।
तीन मंजिला इस इमारत में छोटे-छोटे तहखाने बनाए गए थे। इसके अष्‍टकोणीय स्‍तंभ इसे एक अद्भुत सौंदर्य देते हैं। इसका मुख्‍य द्वार दो स्‍तभों से सटा हुआ है, जिसकी ऊंचाई दूसरी मंजिल की इमारत की छत तक है। इसके कटघरे पर दो महिलाओं की मूर्तियों का निर्माण किया गया था। दीवारों पर विभिन्‍न सजावट की गयी थी, पारंपरिक भारतीय वास्‍तुकला के समान इस कोठी के अंदर भी आंगन नहीं था। इसके बाहर बना सुव्‍यवस्थित बगीचा इसकी खूबसूरती पर चार चांद लगा देता है। इस इमारत का विस्‍तार अन्‍य पारंपरिक इमारतों के समान विशाल क्षेत्र तक नहीं था, किंतु यह उनकी तुलना में ज्‍यादा लंबी थी। ब्रिटिश वास्‍तुकला शैली बारोक (Baroque) से निर्मित इस इमारत के आज अवशेष ही शेष रह गए हैं। जिनमें कुछ स्‍तंभ और बाहृय दीवारें शामिल हैं किंतु इसके व्‍यापक उद्यान आज भी सुरक्षित हैं। अपनी खूबसूरती के कारण आज भी यह पर्यटकों का आकर्षण का केन्‍द्र बनी हुयी है।
प्रारंभ में अवध के नवाब शिकार के दौरान इस इमारत पर विश्राम करते थे, जिसे बाद में ग्रीष्म सेहतगाह या समर रिसॉर्ट (Summer Resort) के रूप में उपयोग किया जाने लगा। यहां बेगमें (नवाबों की पत्नियां) आराम करने और पिकनिक के लिए आया करती थीं। इस कोठी में अन्‍य नवाबी भवनों की भांति महिलाओं के लिए अलग से विशेष कमरे नहीं बनाए गए थे। यहां आने वाले ब्रिटिश आगंतुकों ने इसके अतुल्‍य सौंदर्य को देखते हुए इसकी तुलना ऐथेंस (Athens) और रोम (Rome) से की थी। कहा जाता है कि 1830 में यह स्‍थान एक अंग्रेज द्वारा गुब्‍बरा चढ़ाई या बलून एसेन्‍ट (Balloon Ascent) के लिए चुना गया था। कोठी के निकट स्थित कॉन्सटैंशिया (Constantia) महल जो बाद में ला मार्टिनियर बॉयज कॉलेज (La Martinière Boys' College) बना, में फ्रेंचमैन क्लाउड मार्टिन (Frenchman Claude Martin) ने बलून एसेन्‍ट की व्‍यवस्‍था करवायी किंतु इसकी चढ़ाई से पूर्व उनकी मृत्यु हो गई। 1830 में नवाब नासिर-उद-दीन हैदर और उनके दरबारियों ने इस चढ़ाई का आनंद लिया।
अवध के अंतिम नवाब वाजिद अली शाह ने इस कोठी के निकट सैन्‍य अभ्‍यास के लिए एक और कोठी का निर्माण करवाया। जिस पर आगे चलकर अंग्रेजों ने प्रतिबंध लगवा दिया, जिससे अंग्रेज और नवाब के मध्‍य मनमुटाव बढ़ गया। यह कोठी लखनऊ रेजिडेंसी और ला मार्टिनियर स्‍कूल के निकट स्थित थी, जो मुख्‍यत: अंग्रेजों का निवास स्‍थान था। 1857 के लखनऊ घेराबंदी के दौरान इन दोनों इमारतों के साथ-साथ इस कोठी को भी गोला बाररूद से ध्‍वस्‍त कर दिया गया था। यह खण्डित इमारत आज भी उस घटना को बयां करती है।

संदर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Dilkusha_Kothi
https://www.tourmyindia.com/states/uttarpradesh/dilkusha-lucknow.html
http://lucknow.me/Dilkusha-Palace.html
चित्र सन्दर्भ:
दिलकुशा कोठी इन 1858 चित्र बी फ्रांसिस बातो(wikimedia)
सीटोन डेलवाल हॉल के लिए डिजाइन(wikimedia)
एक अज्ञात फोटोग्राफर द्वारा 1880 के दशक में खींची गई तस्वीर महल को खंडहर में दिखाती है(wikimedia)


RECENT POST

  • अवधी बंदूकें और ब्रिटिश साम्राज्य
    हथियार व खिलौने

     18-09-2020 11:28 AM


  • मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप में ऊर्जा भंडारण के उपकरण: लिथियम आयन बैटरी का इतिहास
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 02:49 AM


  • अवधी बंदूकें और ब्रिटिश साम्राज्य
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:15 AM


  • ध्रुपद गायन: प्राचीन परंपरा
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:14 AM


  • ब्लैक होल- अंतरिक्ष की एक रहस्यमय दुनिया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:07 AM


  • अदम्य साहस, वीरता, भक्ति के लिए जाने जाते हैं भगवान हनुमान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-09-2020 04:28 AM


  • पक्षियों को देखने के लिए भारत के सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है, पेरियार वन्यजीव अभयारण्य
    पंछीयाँ

     13-09-2020 04:18 AM


  • स्वस्थ समाज बनाम एक सहगमन
    व्यवहारिक

     12-09-2020 10:19 AM


  • औपनिवेशिक काल की छवि को प्रस्‍तुत करती दिलकुशा कोठी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-09-2020 02:41 AM


  • विलुप्ति के कगार पर खड़े पर्यावरण संरक्षक मिस्र के गिद्ध
    पंछीयाँ

     10-09-2020 08:48 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.