स्वस्थ समाज बनाम एक सहगमन

लखनऊ

 12-09-2020 10:19 AM
व्यवहारिक

भारतीय समाज में एकपत्नीत्व और एकपतित्व की प्रथा सामाजिक और कानूनी तौर पर पुराने समय से चलती चली आ रही है। पशु समाज में भी इस प्रकार के उदाहरण देखने को मिलते हैं। अपनी पसंद के जोड़े अपने लिए जगह बना ही लेते हैं। भारतीय समाज में महाभारत काल में बहुपतित्व का उदाहरण पांचाली का पांच पांडवों को पति के रूप में स्वीकारना मिलता है। भगवान कृष्ण की भी 16000 पत्नियां बताई जाती हैं। मुस्लिम समाज में भी बहुपत्नी प्रथा पुराने समय से चली आ रही है। राज परिवारों में भी राजा की कई रानियों का उल्लेख मिलता है। इसी प्रसंग में एक तथ्य यह भी है कि 2020 की कोरोना महामारी के दौरान इंटरनेट पर डेटिंग एप्स (Dating Apps) का जबरदस्त प्रयोग लोगों ने किया।

इतिहास
भारत ने विवाहेतर संबंध प्रतिबंधित हैं। प्राचीन भारत में बहुविवाह का प्रचलन अभिजात्य और राज परिवारों में था, लेकिन आम जीवन में एक पति/एक पत्नी का ही चलन था। ब्रिटिश उपनिवेश में मुस्लिम राज्यों में पतियों को कई पत्नियां रखने की अनुमति थी। लाहौर में जब महाराजा रणजीत सिंह का अंतिम संस्कार हुआ, तो उनके साथ उनकी चार रानियां और सात उप-स्त्रियां सती हुई थी, जिनका उल्लेख महाराजा की समाधि पर लिखा हुआ है। 1956 में बहु पति/ पत्नी असंवैधानिक घोषित हुआ।

इस प्रकार भारतीय समाज में एक पत्नी/ पति प्रथा हमेशा से सर्व स्वीकृत रही है। समाज सुधारकों में राजा राम मोहन रॉय, ईश्वर चंद्र विद्यासागर, दयानंद सरस्वती ने प्रमुख रूप से बहुपत्नी प्रथा का विरोध किया। स्तनधारी पशुओं में भी एक जोड़े की प्रथा देखने में आती है। अपने बच्चों की देखभाल, खानपान, सुरक्षा और अच्छी परवरिश के लिए यह मिलकर परिवार पालते हैं।

कोरोना महामारी और बढ़ता डेटिंग एप का प्रयोग
कोरोना महामारी के दौरान घरों के एकांत से बहुत से लोग इंटरनेट के तमाम ऐप पर नए साथी ढूंढते पाए गए हैं। अलग-अलग ऐप्स ने अपने आंकड़े देकर यह बताया कि लॉकडाउन से पहले और बाद में इन एप्स के प्रयोग की दर में जबरदस्त फर्क दिख रहा है। लॉकडाउन के दौरान अचानक इन एप्स के प्रयोग की बाढ़ सी आ गई है।

सन्दर्भ :
https://www.huffingtonpost.in/entry/indians-dating-app-lockdown_in_5ec9796dc5b607a94dedb946
https://en.wikipedia.org/wiki/Monogamy_in_animals
https://www.nytimes.com/2013/08/02/science/monogamys-boost-to-human-evolution.html(pros and cons)
http://www.yourarticlelibrary.com/marriage/hindu-marriages-monogamy-polyandry-and-polygamy/47456(India)
https://en.wikipedia.org/wiki/Polygamy_in_India

चित्र सन्दर्भ :
मुख्य चित्र में एक एकल सहगामी जोड़े को दिखाया गया है। (unsplash)
दूसरे चित्र में एकल सहगामी पक्षी (हंस का जोड़ा) दिखाया गया है। (pexels)
तीसरे चित्र में विभिन्न एकल सहगामी जीव-जंतु दिखाई दे रहे हैं। (Prarang)
चौथे चित्र में सती प्रथा का चित्रण है। (Wikimedia)
अंतिम चित्र ऑनलाइन डेटिंग एप्प्स को सदर्भित कर रहा है। (Prarang)



RECENT POST

  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id