क्या पहले भी जश्न मनाने के लिए उपयोग किया जाता था सफेद बारादरी का

लखनऊ

 22-09-2020 11:06 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

यदि कोई लखनऊवासी से यह पूछता है कि कैसरबाग के किसी स्थान पर एक शादी हो रही है, तो उनका सबसे पहला सवाल होता है कि "क्या यह सफ़ेद बारादरी में है?" शानदार सफेद संरचना के लिए प्रसिद्ध सफ़ेद बारादरी (यह इमारत सफेद रंग की है जिस कारण इसे सफेद या सफदर बारादरी कहा जाता है। बारादरी दो शब्दों से मिलकर बना है, बारह और द्वार, इस प्रकार बारादरी का अर्थ हुआ बारह द्वारों वाली इमारत।) एक ऐसा आकर्षण है, जो लखनऊ शहर के कैसरबाग क्षेत्र में अन्य ऐतिहासिक स्मारकों के बीच स्थित है। कम ही लोग जानते हैं कि इन दिनों शादियों, त्योहारों और स्वागतों की मेजबानी करने वाला स्मारक वास्तव में नवाबों के समय में "शोक के महल" के रूप में बनाया गया था।

यह अवध के अंतिम नवाब, वाजिद अली शाह द्वारा कर्बला में इमाम हुसैन और उनके अनुयायियों की शहादत के लिए अजादारी (शोक) मनाने के लिए एक इमामबाड़ा के रूप में बनाया गया था। बारादरी के निर्माण की प्रक्रिया 1848 में शुरू हुई थी और 1850 तक चली थी। 1856 में अवध के विनाश के बाद, बारादरी का उपयोग अंग्रेजों द्वारा किया जाने लगा। 1923 के आसपास, सफ़ेद बारादरी को अवध के तालुकदारों के एक संघ को सौंप दिया गया, जिसे 'अंजुमन-ए-हिंद अवध' के नाम से जाना जाता है। अंततः इसे द ब्रिटिश इंडिया एसोसिएशन ऑफ अवध (The British India Association of Awadh) का नाम दिया गया और यह बारादरी आज भी उनके कब्जे और नियंत्रण में है। बारादरी के मुख्य कक्ष में संघ के संस्थापकों में बलरामपुर के महाराज, मान सिंह और दिग्विजय सिंह की दो संगमरमर की मूर्तियाँ हैं।
बारादरी नवाबी काल से लखनऊ की वास्तुकला का एक उल्लेखनीय हिस्सा है, ऐसी ही और अन्य बारादरी शहर में विभिन्न स्थानों पर उपस्थित हैं। बारादरी धनुषाकार उद्घाटन के साथ मंडप का रूप लेती है, भवन के चार किनारों में से प्रत्येक पर तीन उद्घाटन होते हैं। लखनऊ के कई बारादरी अच्छे आकार में हैं और आज भी उपयोग में बने हुए हैं, हालांकि उनका उपयोग उस मूल उद्देश्य के लिए नहीं किया जाता, जिसके लिए उन्हें बनाया था। सफ़ेद बारादरी पर वर्गाकार मण्डप है, जो महल परिसर के मध्य में बना है और इसमें विभिन्न आकारों के कई स्तम्भावली युक्त मंडप शामिल हैं। जिसके केंद्र में सफ़ेद बारादरी स्थित है, यह एक भव्य सफ़ेद पत्थर की इमारत है, जिसे पहले चांदी के साथ प्रशस्त किया गया था। इस संरचना में दो लक्खी द्वार और पूर्व शाही निवास भी बने हुए हैं।
साथ ही यह एक उभरे हुए मंच या चबूतरे पर मौजूद है। हालांकि इसमें सभी जगह से प्रवेश किया जा सकता है, लेकिन पूर्वी पक्ष मुख्य प्रवेश द्वार है और इसके सामने एक बड़ी छत है जिसमें बाड़ा के रूप में नक्काशीदार संगमरमर की पटल है। संरचना के शीर्ष पर कोनों में अष्टकोणीय मीनार हैं। सफ़ेद बारादरी का अंदरूनी हिस्सा महीन चूने, सुंदर धनुषाकार द्वार और जुड़वां स्तंभों वाली खिड़कियों से निर्मित किया गया है। छत से लटका हुआ झूमर अंदरूनी हिस्से को और भी अधिक आकर्षक बनाता है। सफ़ेद बारादरी के पूर्व में लक्खी दरवाजा या क़ैसरबाग़ गेट अवध में विकसित इंडो-यूरोपीय स्थापत्य शैली के सर्वश्रेष्ठ उदाहरणों में से एक है।

इसके निकट ही कई अन्य दर्शनीय इमारतें जैसे नवाब सआदत अली खां का मकबरा, बेगम हजरत महल पार्क एवं मकबरा, शाह नजफ़ इमामबाड़ा आदि भी हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के लखनऊ में कैसरबाग बारादरी की तस्वीर, 1880 के दशक में एक अज्ञात फोटोग्राफर द्वारा ली गई थी, जो कि आज आर्किटेक्चरल व्यू (Architectural Views) के बेलेव कलेक्शन (Bellew Collection) का हिस्सा है। यदि आपको सफ़ेद बारादरी की सैर करनी है तो इसके लिए आपको किसी भी प्रकार के प्रवेश शुल्क की आवश्यकता नहीं है। आप यहां आसानी से घूम सकते हैं तथा इसकी सुंदरता को अपने कैमरे में भी कैद कर सकते हैं।

संदर्भ :-
http://lucknow.me/Safed-Baradari.html
http://uttarpradesh.gov.in/en/details/baradari-qaiserbagh/37003600
https://en.wikipedia.org/wiki/Safed_Baradari
http://www.bl.uk/onlinegallery/onlineex/apac/photocoll/k/019pho0000050s2u00120000.html
http://double-dolphin.blogspot.com/2015/10/safed-baradari-lucknow.html

चित्र सन्दर्भ:

विलाप का महल 'और इसका नाम क़सर-उल-अज़ा रखा गया (wikimedia)
सफेद बारादरी (wikimedia)


RECENT POST

  • कैसे मनाया जाता है मेष संक्रांति का त्यौहार
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     15-04-2021 01:57 PM


  • बैसाखी के महत्व को समझें और जानें कि सिख समुदाय में बैसाखी का त्योहार कितना खास है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2021 01:08 PM


  • दुनिया के सबसे लंबे सांप के रूप में प्रसिद्ध है,जालीदार अजगर
    रेंगने वाले जीव

     13-04-2021 01:00 PM


  • क्यों लैलत-अल-क़द्र वर्ष की सबसे महत्वपूर्ण रात मानी जाती है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-04-2021 10:10 AM


  • भिन्‍नता में एकता का प्रतीक कच्‍छ का रण
    मरुस्थल

     11-04-2021 10:00 AM


  • लबोर एट कॉन्स्टेंटिया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     10-04-2021 10:28 AM


  • कैसे रोका जा सकता है वृद्धावस्‍था को?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-04-2021 10:13 AM


  • उत्तर प्रदेश के किसानों के बीच अत्यधिक लोकप्रिय है, मेंथॉल मिंट की खेती
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     08-04-2021 09:57 AM


  • पठानों द्वारा विकसित किये गये थे, मलिहाबाद के आम बागान
    साग-सब्जियाँ

     07-04-2021 10:10 AM


  • असली क्रिसमस के पेड़ों की मांग में देखी जा रही है बढ़ोतरी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     06-04-2021 10:07 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id