समय के साथ आए हैं, वन डे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कई बदलाव

लखनऊ

 29-09-2020 03:28 AM
हथियार व खिलौने

क्रिकेट एक ऐसा खेल है, जिसे पूरे विश्व में अत्यधिक पसंद किया जाता है। युवाओं के साथ बच्चे हों या बूढे सब इस खेल का आनंद लेते हैं। किंतु जैसा हर खेल में होता है वैसे ही क्रिकेट के कुछ नियम भी हैं। क्रिकेट के नियम एक कोड (Code) के रूप में जाने जाते हैं, जो दुनिया भर में क्रिकेट के खेल के नियमों को निर्दिष्ट करता है। सबसे पहला ज्ञात कोड 1744 में तैयार किया गया था और 1788 के बाद से यह लंदन में मैरीलेबोन क्रिकेट क्लब (Marylebone Cricket Club - MCC) के स्वामित्व और संरक्षण में है।
वर्तमान में 42 कानून हैं, जो खेल को कैसे खेला जाना है, के सभी पहलुओं को रेखांकित करते हैं। MCC ने कानूनों को छह बार फिर से कोडित किया है, सातवां और नवीनतम कोड अक्टूबर 2017 में जारी किया गया। 2017 कोड का दूसरा संस्करण 1 अप्रैल 2019 को लागू हुआ। 2017 से पहले के पहले छह कोड सभी अंतरिम संशोधनों के अधीन थे और इसलिए एक से अधिक संस्करणों में मौजूद थे। MCC एक निजी क्लब है जो पहले क्रिकेट की आधिकारिक शासी निकाय थी, अब यह भूमिका अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद द्वारा निभायी जाती है। क्रिकेट उन कुछ खेलों में से एक है जिसमें सिद्धांतों को ‘नियम’ नहीं बल्कि ‘कानून’ कहा जाता है।
समय के साथ-साथ क्रिकेट के विभिन्न रूप जैसे वन डे (One Day), टेस्ट मैच (Test Match), टी ट्वैंटी (T-Twenty) विकसित हुए। कानून का सबसे पहला ज्ञात कोड 1744 में अधिनियमित किया गया था, लेकिन वास्तव में 1755 तक मुद्रित नहीं किया गया था। कानून ‘लंदन क्रिकेट क्लब के महानुभावों और सज्जन सदस्यों’ द्वारा तैयार किए गए थे, जो आर्टिलरी ग्राउंड (Artillery Ground) पर आधारित थे, हालांकि 1755 में मुद्रित संस्करण में कहा गया था कि इसमें कई क्रिकेट क्लब शामिल थे। 1755 तक यह देश में व्यापक रूप से ज्ञात नहीं था, क्योंकि नियमों को तब तक छापा नहीं गया था और न ही सभी नियम बताए गये जिन्हें तैयार किया गया था. नियमों के पहले मसौदे में सिक्के के द्वारा टॉस (Toss) और 22-यार्ड पिच (Yard pitch) का संदर्भ था। इसमें यह भी तय किया गया कि छह इंच की बेल (Bail) के साथ, स्टंप (Stump) 22 इंच का होना चाहिए, जिसका अब भी पालन किया जा रहा है।
हैरानी की बात है कि पहले लिखित नियमों में केवल चार गेंदों के साथ एक ओवर (Over) का सुझाव दिया गया था। खैर, अब एक ओवर छह गेंदों का है, जिसका मतलब है कि हम नियमों का मसौदा तैयार करने के बाद लंबा सफर तय कर चुके हैं। इसमें बर्खास्तगी या आउट (Out) होने के विभिन्न नियम भी शामिल थे, जिसके द्वारा बल्लेबाज बाहर हो सकते हैं। पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अक्सर मैच जीतने के लिए 230 का स्कोर बहुत अधिक होता था किंतु बदलते नियमों ने इस खेल को काफी हद तक बदल दिया है। नियमों के पहले मसौदे में यह उल्लेखित किया गया था कि गेंद को पाँच और छह औंस के बीच होना चाहिए। इसके अलावा ओवरस्टेपिंग (Overstepping) के लिए दंड नो बॉल (No ball) है। विकेट कीपर को तब तक और शांत रहने की आवश्यकता होती है जब तक कि गेंद न फेंकी जाए। अंपायरों को नए बल्लेबाज के लिए दो मिनट और पारी के बीच दस मिनट का समय देना होगा। अगर फील्डर्स (Fielders) अपील नहीं करते हैं तो अंपायर बल्लेबाज को आउट नहीं दे सकता है।
1774 में, कानूनों को एक समिति की बैठक द्वारा संशोधित किया गया जिसके अनुसार बल्ला चार इंच से अधिक नहीं होना चाहिए। गेंदबाज को गेंद बॉलिंग-क्रीज (Bowling-crease) के पीछे एक पैर के साथ और रिटर्न-क्रीज (Return-crease) के भीतर डालनी होगी और विकेट बदलने से पहले चार गेंदे डालनी होंगी जिसे वह एक पारी में एक बार ही करेगा। बर्खास्तगी के साधन के रूप में मुख्य नवाचार विकेट से पहले पैर का उपक्रम (Leg before wicket - LBW) था। गेंद को पैर से रोकने का अभ्यास, पिच डिलीवरी (Delivery) के लिए एक नकारात्मक प्रतिक्रिया के रूप में उत्पन्न हुई थी। MCC ने 1788 को एक नया संस्करण जारी किया। तीसरे कानून में कहा गया: ‘स्टंप जमीन से बाईस इंच बाहर, और बेल की लंबाई छह इंच होनी चाहिए। ये समग्र आयाम थे और तीसरे स्टंप की आवश्यकता अनिर्दिष्ट थी, जो दर्शाता है कि इसका उपयोग अभी भी सार्वभौमिक नहीं था। 1788 कोड 1774 कोड की तुलना में बहुत अधिक विस्तृत और वर्णनात्मक है लेकिन, मौलिक रूप से, वे काफी हद तक समान हैं। कानूनों का वर्तमान संस्करण 1 अक्टूबर 2017 से शुरू हुआ, जिसने ‘2000 के कोड ऑफ़ लॉ (2000 Code of Laws)’ के 6 वें संस्करण को प्रतिस्थापित किया। एक समय में 230 रन को एक विजित स्कोर (Winning Score) माना जाता था किंतु आज के नियमों के अनुसार यह स्कोर बहुत ज्यादा नहीं है। नए नियमों और आधुनिक तकनीकी के सहारे आज बल्लेबाज़ 200 रन अकेले ही बना लेते हैं। इसके अलावा बल्लेबाज़ों को 50 ओवरों के बीच एक पॉवरप्ले (Powerplay) भी मिलता है। अक्टूबर 2007 के बाद प्रत्येक नो-बॉल के लिए, गेंदबाजों को एक अतिरिक्त डिलीवरी, एक मुफ्त हिट और एक रन के साथ दंडित किया जाता है। हालांकि, अगर वही बल्लेबाज क्रीज पर है, तो मैदान को बदला नहीं जा सकता। अगर बल्लेबाज बदलाव करते हैं, तो डिलीवरी का सामना अन्य बल्लेबाजों द्वारा किया जाएगा, जिसमें कप्तान को मैदान बदलने की शक्तियां होंगी। अक्टूबर 2010 से पहले, 50 ओवरों की संपूर्णता के लिए सिर्फ एक गेंद का उपयोग किया जाता था। हालांकि, नियम बदलने के बाद से, वनडे में दो गेंदों का उपयोग किया गया था। एक का उपयोग दोनों छोर से किया जाता था, प्रत्येक गेंद का अधिकतम उपयोग केवल 25 ओवर के लिए किया जाता था। 18 वीं शताब्दी से विकल्प का उपयोग एक ज्ञात चीज रही है, शुरुआत से जिसे सीकर आउट (Seeker-out) कहा जाता है। एक विकल्प मुख्य रूप से एक क्षेत्ररक्षक या फिल्डर होता है, जिसकी गेंदबाजी या बल्लेबाजी में कोई भागीदारी नहीं होती। हालाँकि, 2005 में, इंडियन क्रिकेट काउंसिल (Indian Cricket Council-ICC) द्वारा 'सुपर-सब' (Super-sub) के रूप में एक अवधारणा शुरू की गई जिसमें वे खेल में शामिल हो सकते थे। एक साल बाद इसे हटा दिया गया, जब सभी टीमों ने नियम का विरोध किया। और तब से, आईसीसी एक संकेंद्रण विकल्प के साथ आया जो एक खिलाड़ी के चोटिल होने के मामले में एक तरह से बदलने की अनुमति देता है। इसके साथ ही सुपर ओवर (Super Over) का नियम भी सामने आया। खेल के रूप में क्रिकेट के विकास के कालक्रम को हम निम्न प्रकार समझ सकते हैं: 1744: केंट ने आर्टिलरी ग्राउंड में ऑल इंग्लैंड को एक विकेट से हराया। लंदन क्लब द्वारा जारी किए गए क्रिकेट के नियम का पहला ज्ञात संस्करण, पिच को 22 यार्ड लंबा बताता है। 1771: बल्ले की चौड़ाई 41/4 इंच तक सीमित किया गया, जो कि तब से बना हुआ है। 1774: LBW कानून बना। 1807: केंट के जॉन विलिस द्वारा राउंड-आर्म गेंदबाजी का पहला उल्लेख किया गया। 1836: बल्लेबाजी पैड का आविष्कार हुआ। 1850: पहली बार विकेट कीपिंग ग्लव्स (Wicket-keeping gloves) का इस्तेमाल किया गया। 1864: एमसीसी द्वारा ओवरहैंड (Overhand) गेंदबाजी अधिकृत की गयी। 1900: पांच के बजाय 6-बॉल ओवर आदर्श बन गया। 1971: पहला एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड हुआ। 2005: ICC ने एकदिवसीय मैचों में पावर-प्ले और सुपर-सब का परिचय दिया। 2008-09: अंपायर डिसीजन रिव्यू सिस्टम (Umpire Decision Review System) एक प्रौद्योगिकी-आधारित प्रणाली बना। 2011: अंपायर डिसीजन रिव्यू सिस्टम पहली बार जनवरी 2011 में वन डे इंटरनेशनल में इस्तेमाल किया गया।

संदर्भ:
https://sportscafe.in/cricket/articles/2020/apr/19/evolution-of-rule-changes-in-odi-cricket
https://www.jagranjosh.com/general-knowledge/do-you-know-how-law-of-cricket-and-formats-evolved-from-18th-century-to-20th-century-1460033296-1
https://en.wikipedia.org/wiki/Laws_of_Cricket
https://www.telegraph.co.uk/cricket/2019/05/29/evolution-odi-cricket-constant-rule-changes-power-hitting-demise/
चित्र सन्दर्भ :
मुख्य चित्र में क्रिकेट मैच के दौरान दो बालकों को खेलते हुए चित्रित किया गया है। (Freepik)
दूसरे चित्र में एक बल्लेबाज़ को बोल्ड आउट होते हुए दिखाया गया है। (Needpix)
तीसरे चित्र में एक बल्लेबाज का एल.बी.डब्ल्यू. आउट का चित्रण है। (Wikimedia)
चौथे चित्र में रन आउट नियम का चित्रण है। (Youtube)
अंतिम चित्र में नो बॉल नियम को दर्शाया गया है। (Freepik)


RECENT POST

  • पवित्र कुरान के स्वर्ग के नमूने को पेश करता है केसरबाग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:35 AM


  • भारतीय व्यंजन तथा मसाले - स्वाद और सेहत का अनूठा मिश्रण
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 09:14 AM


  • 9 दिन के नौ रूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 07:43 AM


  • सबसे अधिक बिकने वाले एकल गीतों में से एक ‘द केचप सॉन्ग-एसेरीज’
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     18-10-2020 10:06 AM


  • स्वस्थ मिट्टी पर निर्भर है पौष्टिक भोजन की उपलब्धता
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-10-2020 10:47 PM


  • मधुमक्खी पालन: बढ़ती मांग
    तितलियाँ व कीड़े

     16-10-2020 05:57 AM


  • पारिस्थितिकी और राजनीतिक दोनों रूपों से महत्वपूर्ण है पांडा
    स्तनधारी

     14-10-2020 10:54 PM


  • वाल्मीकि रामायण और कम्बा रामायणम् के मध्य अंतर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-10-2020 03:03 PM


  • सड़कों पर भरे पानी की समस्या से निजात दिलायेगा स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     12-10-2020 03:19 PM


  • एर्गोनॉमिक्स के हैं अनेकों फायदे
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     12-10-2020 02:01 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.