पवित्र पैगंबर की शिक्षाओं और दयालुता को याद करने का दिन है ईद-ए-मिलाद-उन-नबी

लखनऊ

 27-10-2020 11:12 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मुस्लिम धर्म में अनेक पर्वों या त्यौहारों का अनुसरण किया जाता है तथा ईद-ए-मिलाद-उन-नबी भी इन उत्सवों में से एक है, जिसे उत्सव और शोक दोनों रूपों में ही चिन्हित किया जाता है। इस दिन पैगंबर मोहम्मद की जन्म और मृत्यु दोनों की वर्षगांठ मनाई जाती है। हालांकि, ईद-ए-मिलाद अन्य दो ईदों - ईद-उल-फितर और ईद-उल-अधा से भिन्न है। यह पवित्र पैगंबर की शिक्षाओं और दयालुता को याद करने का दिन है और उनके अनुयायी उनका जन्मदिन पैगंबर के प्रति अपना प्यार और श्रद्धा व्यक्त करने की इच्छा से मनाते हैं। इस्लाम के विभिन्न संप्रदाय महीने की विभिन्न तिथियों में पैगंबर के जन्म का अनुकरण करते हैं या जश्न मनाते हैं। मुसलमान नात-शरीफ (Naat-Shareef - उच्चारित कविता) का भी पाठ करते हैं और पैगंबर मुहम्मद की प्रशंसा में भक्ति गीत गाते हैं। ईद-ए-मिलाद को मौलिद (Maulid) या मावलिद (Mawlid) भी कहा जाता है, क्योंकि इस दिन पैगंबर की प्रशंसा में नात और गीत गाए जाते हैं। इस्लामिक कैलेंडर के तीसरे महीने रबी-अल-अव्वल में मिलाद मनाया जाता है। इस्लामी मान्यता के अनुसार, पैगंबर का जन्म रबी-अल-अव्वल के 12वें दिन 570 ईस्वी में मक्का शहर में हुआ था। जबकि कुछ इतिहासकारों के अनुसार उत्सव की शुरूआत तुर्की में हुई थी, जबकि कुछ का तर्क है कि यह मिस्र में शुरू हुआ था।
कई विद्वानों और इतिहासकारों के अनुसार, शुरुआती दिनों में, पैगंबर का जन्मदिन मनाने के लिए ऐसा कोई उत्सव नहीं था। उत्सव का अनुमोदन करने वाले अनुयायियों का दावा है कि पवित्र कुरान में मिलाद-उन-नबी के कई संदर्भ हैं। शिया समुदाय का मानना है कि इस दिन पैगंबर मोहम्मद ने हजरत अली को अपना उत्तराधिकारी चुना था। सुन्नी समुदाय पूरे महीने प्रार्थना करता है और वे इस दिन शोक का अभ्यास नहीं करते हैं। इस उत्सव को लेकर इस्लामी संप्रदायों के भीतर कुछ अंतर हैं, जैसे कि ईद-ए-मिलाद मनाया जाना चाहिए या नहीं। जहां ज्यादातर सभी संप्रदाय इस त्यौहार को मनाने का समर्थन करते हैं, वहीं वहाबी (Wahhabi) और अहमदिया (Ahmadiyya) जैसे कुछ संप्रदाय इसका विरोध करते हैं।
वहाबवाद एक इस्लामी सिद्धांत और धार्मिक आंदोलन है, जिसे मुहम्मद इब्न अब्द अल-वहाब द्वारा स्थापित किया गया। भक्तों द्वारा ‘शुद्ध एकेश्वरवादी पूजा’ (तौहीद- Tawhid) को बनाए रखने के लिए एक इस्लामी ‘सुधार आंदोलन’ के रूप में और ‘धर्मनिरपेक्ष सांप्रदायिक आंदोलन’ के रूप में इसका विभिन्न प्रकार जैसे अल्ट्राकंसर्वेटिव (Ultraconservative), ऑस्ट्रियर (Austere), प्यूरिटन (Puritan) आदि से वर्णन किया गया है। यह इब्न तयमिय्याह के धर्मशास्त्र और न्यायशास्त्र के हनबली स्कूल के सिद्धांत का अनुसरण करता है। वहाबवाद का नाम एक 18वीं शताब्दी के इस्लामी विद्वान, धर्मशास्त्री, उपदेशक और कार्यकर्ता, मोहम्मद इब्न अब्द अल-वहाब (1703-1792) के नाम पर रखा गया है। उन्होंने नजद के दूरदराज के आबादी वाले क्षेत्र में सुधार आंदोलन शुरू किया, जिसमें उन्होंने संतों की वंदना और उनके मकबरों और धर्मस्थलों की यात्रा के रूप में इस तरह के व्यापक सुन्नी प्रथाओं को पूरा करने की वकालत की, जो इस्लामी दुनिया भर में प्रचलित थे, लेकिन इसे उन्होंने इस्लाम में मूर्खतापूर्ण अशुद्धियों और नवाचारों (बिदाह) के रूप में माना। सलाफ़ी (Salafi) आंदोलन भी इसी प्रकार का एक आंदोलन है, जिसे सलाफिया और सलाफीवाद भी कहा जाता है।
यह सुन्नी इस्लाम के भीतर एक सुधार शाखा आंदोलन है, जो मिस्र के अल-अजहर विश्वविद्यालय में 19वीं शताब्दी के अंत में पश्चिमी यूरोपीय साम्राज्यवाद की प्रतिक्रिया के रूप में विकसित हुआ था। इसकी शुरूआत 18वीं शताब्दी के वहाबी आंदोलन से हुई थी, जो आधुनिक सऊदी अरब के नजद क्षेत्र में उत्पन्न हुई थीं। सलाफ़ी आंदोलन, सलाफ की परंपराओं की वापसी पर जोर देता है। सलाफी मान्यता के अनुसार सलाफ़ से तात्पर्य मुस्लिमों की पहली तीन पीढ़ियों से है, जो इस्लाम के अपरिवर्तित, शुद्ध रूप का पालन किया करते थे। उन पीढ़ियों में इस्लामी पैगंबर मुहम्मद और उनके साथी (साहबाह), उनके उत्तराधिकारी (तबिउन), और उत्तराधिकारीयों के उत्तराधिकारी (तबा तबीउन) शामिल हैं। सलाफी सिद्धांत धर्म के शुरुआती वर्षों को देखने या समझने पर आधारित है, यह समझने के लिए कि समकालीन मुसलमानों को अपने धर्म का पालन कैसे करना चाहिए। वे धार्मिक नवाचार या बिदाह को अस्वीकार करते हैं, और शरिया (इस्लामी कानून) के कार्यान्वयन का समर्थन करते हैं। इस आंदोलन को अक्सर तीन श्रेणियों में विभाजित किया जाता है: सबसे बड़ा समूह शुद्धतावादी हैं, जो राजनीति से बचते हैं। दूसरा सबसे बड़ा समूह कार्यकर्ताओं का है, जो राजनीति में शामिल होते हैं। तीसरा समूह जिहादीयों का है, जो काफी कम संख्या में हैं और शुरुआती इस्लामी तरीके को बहाल करने के लिए सशस्त्र संघर्ष का समर्थन करते हैं। कानूनी मामलों में, सलाफी दो गुटों में विभाजित हैं, पहले वो जो स्वतंत्र कानूनी निर्णय (इज्तिहाद) के नाम पर, कानून के चार सुन्नी शालाओं (मज़ाहिब) के सख्त पालन (तक्लिद) को अस्वीकार करते हैं, और अन्य वो लोग जो इनके प्रति वफादार रहते हैं। ये दोनों आंदोलन मौलिद या मालविद प्रथा का विरोध करते हैं। मालविद पर इब्न तयमिय्या की स्थिति को कुछ शिक्षाविदों द्वारा ‘विरोधाभासी’ और ‘जटिल’ के रूप में वर्णित किया गया है। उन्होंने फैसला सुनाया कि यह एक निंदनीय (मखरूह) भक्तिपूर्ण नवाचार था। उन्होंने उन लोगों की आलोचना की, जिन्होंने यीशु के जन्मदिन के ईसाई उत्सव की नकल करने की इच्छा से मावलिद मनाया किंतु साथ ही उन्होंने यह भी माना कि कुछ लोग मोहम्मद के जन्मदिन को उनके प्यार और उनके प्रति श्रद्धा दिखाने की इच्छा से देखते हैं और इस तरह वे उनके अच्छे इरादों के लिए एक बड़ा इनाम पाने के लायक हैं। किंतु इस तरह का दृष्टिकोण रखने के लिए इब्न तयमिय्या की सलाफी लेखकों द्वारा आलोचना भी की जाती है क्योंकि उनका मानना हैं कि इस प्रथा के लिए कोई कैसे इनाम प्राप्त कर सकता है, जब वे परमेश्वर के दूत के मार्गदर्शन का विरोध कर रहे हैं। वहाबी और सलाफी द्वारा मावलिद को स्वीकार नहीं किया गया था। मावलिद को एक दोषपूर्ण नवाचार माना था, जो या तो मकरुह या हराम था।
कुछ देशों में, जैसे कि मिस्र और सूडान, मावलिद का उपयोग स्थानीय सूफी संतों के जन्मदिन के जश्न के लिए एक सामान्य शब्द के रूप में किया जाता है, और यह केवल मोहम्मद के जन्म के पालन तक ही सीमित नहीं है। प्रत्येक वर्ष लगभग 3,000 मावलिद समारोह आयोजित किए जाते हैं। यह त्यौहार अंतर्राष्ट्रीय दर्शकों को आकर्षित करता है, जिसमें से मिस्र का स्थान सबसे बड़ा है, जो 13वीं शताब्दी के सूफी संत अहमद अल-बदावी को सम्मानित करते हुए तीस लाख लोगों को आकर्षित करता है।

संदर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Wahhabism
https://en.wikipedia.org/wiki/Salafi_movement
https://bit.ly/2oNbFc1
https://en.wikipedia.org/wiki/Mawlid#Opposition
https://en.wikipedia.org/wiki/Mawlid#Other_uses
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि में दिखाया गया है कि अल-बाकी के मकबरे में कथित तौर पर हसन इब्न अली (मुहम्मद का एक पोता) और फातिमा (मुहम्मद की बेटी) की लाशें थीं।(wikipedia)
दूसरी छवि लखनऊ का ईद-ए-मिलाद-उन-नबी जुलूस दिखाता है।(youtube)
तीसरी छवि में अहल अस-सुन्नह वा ल-जामनाह वाक्यांश का टाइपोग्राफी दिखाया गया है।(persee)


RECENT POST

  • समस्त पक्षियों में सबसे विवेकी पक्षी होता है हम्सा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     05-12-2020 07:24 AM


  • उपयोगी होने के साथ-साथ हानिकारक भी हैं, शैवाल
    शारीरिक

     04-12-2020 11:46 AM


  • कुपोषण एवं विकलांगता के मध्‍य संबंध
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     03-12-2020 01:59 PM


  • क्या भूकंप का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है?
    पर्वत, चोटी व पठार

     02-12-2020 10:18 AM


  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.