दादूपुर और लाहुरादेवा स्थलों के उत्खनन हैं तीन काल खंडों में विभाजित

लखनऊ

 29-10-2020 05:55 PM
मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

उत्तर प्रदेश में हाल ही में उत्खनन से 1800 और 1000 ईसा पूर्व के बीच की परतों वाले रेडियोकार्बन (Radiocarbon) में लोहे की कलाकृतियाँ, भट्टियाँ, ट्युरेस (Tuyeres) और धातुमल प्राप्त हुए हैं। इससे यह सवाल फिर से उठता है कि क्या दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के आप्रवासियों के दौरान भारत में लौह-कार्य को लाया गया था या स्वतंत्र रूप से विकसित किया गया था। ऐसा माना जाता है कि भारत प्रारम्भिक लोहे का निर्माण करने वाला एक स्वतंत्र केंद्र था। ताम्रपाषाण काल से सम्बंधित पुरास्थल अहाड़ से उस काल की जमाव में लोहे की उपस्थिति ने एक अलग ही तथ्य प्रस्तुत कर दिया और यह सुझाव प्रस्तुत कर दिया की हो ना हो भारत में सोलहवीं शताब्दी ईसा पूर्व में लोहे के गलाने का कार्य शुरू हो चुका था। इसके बाद चित्रित धूसर मृदभांड और रेडिओ कार्बन (Radiocarbon) दिनांकन के आगमन ने इस तिथि को दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व की ओर धकेलना शुरू कर दिया, एक ऐसी अवधि जो वास्तव में बीसवीं शताब्दी ईसा पूर्व की शुरुआत में कुछ विद्वानों द्वारा पसंद की गई थी।
हाल ही में लखनऊ में हुए सरयू नदी और सई नदी के मैदानी इलाकों से अन्वेषण में कई ऐसे अवशेष प्राप्त हुए, जिन्होंने पुरातत्वविदों को यहाँ पर उत्खनन करने के लिए प्रोत्साहित किया। दादुपुर और लहुरदेवा का अन्वेषण और उत्खनन डॉ राकेश तिवारी द्वारा कराया गया था जो कि उत्तर प्रदेश पुरातत्त्व विभाग के निदेशक थें। इस उत्खनन के बाद खोजे गए अवशेष ने लखनऊ के इतिहास को कुल करीब 1500 ईसा पूर्व तक धकेल दिया। दादुपुर पर हुई खुदाई से तीन काल खंडों में विभाजित एक क्रम का पता चला है। पहली अवधि की सांस्कृतिक सामग्री में लोहे की कलाकृतियाँ हैं जैसे कि तीर-कमान। इस स्थल से लाल मृद्भांड, चिकने लाल मृद्भांड, चमकीले काले मृद्भांड, लाल और काले मिश्रित मृद्भांड आदि की प्राप्ति हुयी। इसी के भंडार में लौह के अवशेष भी प्राप्त हुए हैं। यहाँ से जले हुए मिट्टी के अवशेष प्राप्त होते हैं और झोपड़ियों के अवशेष प्राप्त हुए हैं जो कि यहाँ के गृह निर्माण कला के उपर भी प्रकाश डालते हैं। यहाँ से अनेकों की संख्या में मिले हिरन के सींगों के औजार और हड्डियों के औजार यह साबित करते हैं की यहाँ पर अस्थियों से बने औजारों का उद्योग हुआ करता होगा। उत्तर प्रदेश में सोनभद्र और चंदौली में हुए उत्खनन में जहाँ से लोहे के अवशेष प्राप्त हुए उनकी तिथि 1600 ईसा पूर्व तक की है। लेकिन अब जब हम एक बिंदु पर चर्चा करते हैं कि चंदौली और सोनभद्र के क्षेत्र में लोहे की खदाने उपलब्ध हैं लेकिन लखनऊ में लोहे के कार्य का मिलना एक बड़ी बात है जोकि दोमट मिटटी के क्षेत्र में बसा है।
यहाँ से प्राप्त लोहे के अवशेष करीब 1500 ईसा पूर्व के हैं। अब यह इस बात पर भी जोर देता है कि हो ना हो यहाँ पर कच्चा लोहा कहीं और से मंगाया जाता रहा होगा। यह कथन प्राचीन व्यापार को भी सिद्ध करता है, दादुपुर से करीब 25 किलोमीटर दूर एक अन्य पुरास्थल से 1500 ईसा पूर्व से पहले के भी मानव के बसने के अवशेष प्राप्त हुए हैं। दादुपुर का पुरास्थल सई नदी के किनारे पर बसा हुआ है। ऋग्वेद में सई नदी को संडिका नदी के नाम से पुकारा गया है, अब जैसा कि यह सत्य है कि ऋग्वेद की रचना 1500 ईसा पूर्व के करीब हुयी थी तो यह सिद्ध होता है कि इस स्थान पर उस समय मनुष्य निवास करते रहे थे। इन सभी तथ्यों से यह भी बात निकल कर आई कि यह मात्र एक कैंप (Camp) की तरह का बसाव या फिर सामयिक बसाव ना होकर एक स्थाई बसाव था। लाहुरदेवा से जो अवशेष प्राप्त हुए हैं उनसे सरयू नदी के पार पहली बार खेती या कृषि की बात स्वीकारी जाती है। यहीं से इंसानों द्वारा चावल की खेती किये जाने के अवशेष प्राप्त हुए हैं। इन सभी अवशेषों की प्राप्ति से यह तो सिद्ध हो गया कि लखनऊ के आस पास का क्षेत्र लौह युग में सुचारू रूप से प्रचलित था।

संदर्भ :-
https://www.archaeologyonline.net/artifacts/iron-ore
http://www.orientalthane.com/archaeology/news_7_30.htm
https://timesofindia.indiatimes.com/india/New-excavations-show-an-older-Lucknow/articleshow/759465350.cms
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि से पता चलता है कि लोहे के तीर के आकार का अत्यधिक अंकुरण, अवधि I, दादूपुर, लखनऊ जिला। ।(archaeologyonline)
दूसरी छवि में अग्रभूमि में लाहुरदेवा टीले का सामान्य दृश्य दिखाया गया है और पृष्ठभूमि में झील है।(current science)
तीसरी छवि लखनऊ और लाहुरादेवा के पास दादूपुर में हुई खुदाई में निष्कर्षों को दिखाती है।(current science)


RECENT POST

  • समस्त पक्षियों में सबसे विवेकी पक्षी होता है हम्सा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     05-12-2020 07:24 AM


  • उपयोगी होने के साथ-साथ हानिकारक भी हैं, शैवाल
    शारीरिक

     04-12-2020 11:46 AM


  • कुपोषण एवं विकलांगता के मध्‍य संबंध
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     03-12-2020 01:59 PM


  • क्या भूकंप का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है?
    पर्वत, चोटी व पठार

     02-12-2020 10:18 AM


  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.