प्रकृति संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ द्वारा संकटग्रस्त जीव के रूप में वर्गीकृत है, ब्लैक बैलिड टर्न

लखनऊ

 03-11-2020 03:47 PM
पंछीयाँ

लखनऊ में पक्षियों की एक अच्छी विविधता देखने को मिल सकती है, जिनमें ब्लैक-बेलीड टर्न (Black bellied tern) भी एक है। वैज्ञानिक रूप से स्टर्ना एक्यूटिकौडा (Sterna acuticauda) के नाम से प्रसिद्ध ब्लैक-बेलीड टर्न भारतीय उपमहाद्वीप की बड़ी नदियों के पास पाया जाता है, जिसकी सीमा पाकिस्तान, नेपाल और भारत से म्यांमार तक फैली हुई है। यह अपनी सीमा के पूर्वी हिस्से में बहुत दुर्लभ हो गया है। गर्मियों के मौसम में पक्षी का पेट प्रायः काले रंग का तथा पूंछ गहरी कांटे जैसी होती है। वे कभी-कभी विस्कर्ड टर्न (Whiskered terns) से मिलते-जुलते प्रतीत होते हैं किंतु उनकी गहरी कांटे जैसी पूंछ और निचले पेट का काला हिस्सा उन्हें विस्कर्ड टर्न से अलग बनाता है। ब्लैक-बेलीड टर्न 32 से 35 सेंटीमीटर की लंबाई तक बढ़ सकता है। प्रजनन प्लूमेज (Plumage) में, शीर्ष या मुकुट का हिस्सा और गले का पिछला भाग काले रंग का होता है, जबकि ऊपरी भाग हल्के ग्रे (Gray) रंग का होता है। गला सफेद और स्तन हल्के ग्रे रंग के होते हैं, जो धीरे-धीरे पेट की ओर काले रंग के होते जाते हैं। टर्न के पंख लंबे, पतले और नुकीले होते हैं, और पूंछ तीक्ष्ण नुकीले शीर्ष के साथ कांटेदार होती है। पक्षी की चोंच और पैर पीले या नारंगी रंग के होते हैं ,और परितारिका प्रायः लाल भूरे रंग की होती है। प्रजनन के मौसम के अलावा, पेट का रंग सफेद होता है, पूंछ की लंबाई कम हो जाती है और चोंच का शीर्ष काले रंग का हो जाता है। म्यांमार में एक अलग श्रेणी के साथ यह प्रजाति ज्यादातर पाकिस्तान, नेपाल, भारत और बांग्लादेश में होती है।
इस पक्षी का विशिष्ट निवास स्थान लगभग 730 मीटर (2,400 फीट) की ऊंचाई पर तराई की नदियाँ और दलदली भूमि है। यह पूरी तरह से अंतर्देशीय प्रजाति है और तट पर नहीं पाया जाता है। पक्षी के पंख भले ही लंबे होते हैं, लेकिन इसकी उड़ान बहुत धीमी होती है। यह अपने भोजन के लिए मुख्य रूप से कीड़े और छोटी मछलियों पर निर्भर हैं, जिन्हें यह पानी और जमीन की सतह से प्राप्त करते है। ब्लैक-बेलीड टर्न में प्रजनन प्रायः फरवरी से अप्रैल तक होता है, तथा इसके घोंसला बनाने के क्षेत्र नदी या झील के पास, रेतीले द्वीप में समतल रेतीले स्थान होते हैं। ब्लैक-बेलीड टर्न को प्रकृति के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ द्वारा संकटग्रस्त (Endangered) जीव के रूप में वर्गीकृत किया है। इसके पीछे तर्क यह है कि दक्षिणपूर्वी एशिया में तटवर्तीय आवास जहां यह प्रजनन करते हैं, बहुत खतरे में हैं। और, हालांकि इसकी एक विस्तृत श्रृंखला है, यह दक्षिणी चीन, नेपाल, थाईलैंड, लाओस, कंबोडिया और वियतनाम में विलुप्त माना जाता है। केवल पाकिस्तान, भारत और बांग्लादेश में ही इनकी बड़ी आबादी है, और यहां तक कि इन देशों में भी यह पक्षी गंभीर रूप से गिरावट की ओर है और एक हजार से भी कम परिपक्व पक्षी अस्तित्व में मौजूद हैं। इनके समक्ष प्रमुख खतरों में द्वीप और सैंड्स्पिट (Sandspit) का क्षरण हैजि नमें कि यह प्रजनन करता है। भोजन के लिए अंडे का संग्रह, कुत्तों, बिल्लियों और कौवों का अंडों और चूजों पर हमला, नदी बांधों के निर्माण से घोंसले के स्थानों का बह जाना, स्थानीय मछुआरों द्वारा मछली के लिए प्रतियोगिता, जाल में उलझना, अशांति, पानी की निकासी, रेत और बजरी का निकर्षण और प्रदूषण आदि इस पक्षी के लिए अन्य खतरे हैं।
यदि मानव गतिविधियों के द्वारा उत्पन्न समस्याओं और प्रदूषण को कम किया जाता है, तथा पक्षियों के अस्तित्व के लिए उचित परिस्थितियां उपलब्ध करवायी जाती हैं, तो ब्लैक-बेलीड टर्न को ‘संकटग्रस्त’ पक्षी की सूची से बाहर निकाला जा सकता है।

संदर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Black-bellied_tern
https://avibase.bsc-eoc.org/species.jsp?avibaseid=807E1277B4640875
https://nmcg.nic.in/birds.aspx
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि में लखनऊ शहर में ब्लैक-बेलीड टर्न को दिखाया गया है।(prarang)
दूसरी छवि में उड़ते हुए ब्लैक-बेलीड टर्न को दिखाया गया है।(prarang)
तीसरी छवि ब्लैक-बेलीड टर्न और उसके प्रमुख निवास स्थान को दिखाती है।(nmcg.nic)


RECENT POST

  • समस्त पक्षियों में सबसे विवेकी पक्षी होता है हम्सा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     05-12-2020 07:24 AM


  • उपयोगी होने के साथ-साथ हानिकारक भी हैं, शैवाल
    शारीरिक

     04-12-2020 11:46 AM


  • कुपोषण एवं विकलांगता के मध्‍य संबंध
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     03-12-2020 01:59 PM


  • क्या भूकंप का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है?
    पर्वत, चोटी व पठार

     02-12-2020 10:18 AM


  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.