विश्व के विभिन्न हिस्सों में कैसे मनाई जाती है दिवाली

लखनऊ

 14-11-2020 03:33 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

दिवाली का उत्सव अंधेरे पर प्रकाश की प्रतीकात्मक जीत, अज्ञानता पर ज्ञान और बुराई पर अच्छाई का प्रतिनिधित्व करता है। वहीं दिवाली हमें सरल जीवन, उच्च स्तर की विश्लेषणात्मक सोच और ब्रह्मांड के साथ एकता के लिए प्रयास करना सिखाती है। विश्व भर के हिंदुओं, सिखों और जैनियों द्वारा दीपावली मनाई जाती है, हालांकि प्रत्येक घरों में इस दिन को मनाने के प्रति अलग-अलग ऐतिहासिक घटनाओं और कहानियों को दर्शाया गया है। इस दिन भगवान राम 14 वर्ष के वनवास और रावण का वध करके अयोध्या लौटे थे, इसी खुशी को मनाने के लिए दीपावली को अक्सर जश्न, आतिशबाजी, नए कपड़े और निश्चित रूप से स्वादिष्ट भोजन द्वारा मनाया जाता है और साथ ही घरों और आँगनों में पारंपरिक मिट्टी के दीये या मोमबत्तियाँ जलाई जाती हैं और घरों को रंगीन रंगोली की कलाकृतियों से सजाया जाता है। कृतज्ञता और उल्लास के इस दिन को देश भर में विभिन्न प्रकार से मनाया जाता है:
सिंगापुर (Singapore) :- सिंगापुर में दीपावली के दिन सार्वजनिक अवकाश होता है। सड़कों और घरों में लगी जगमग लाइटें (Light) शहर की रौनक और बढ़ा देती है। लोग पांरपरिक परिधानों में हिंदू भगवानों की पूजा करते हैं।
मॉरीशस (Mauritius) :- मॉरीशस में हिंदुओं की एक बड़ी संख्या है, जो गैर-हिंदुओं के साथ दिवाली के त्यौहार को मनाते हैं। यह उत्सव यहां लगभग एक सप्ताह तक मनाया जाता है और दिवाली के दिन इस बहु-सांस्कृतिक द्वीप पर सार्वजनिक अवकाश होता है। मलेशिया (Malaysia) :- मलेशिया एक इस्लामिक देश है, लेकिन यहाँ के हिन्दू समुदाय द्वारा दिवाली मनाई जाती है। दिवाली के दिन मलेशिया में भी अवकाश रहता है। सिंगापुर की तरह मलेशिया की राजधानी कुआलालम्पुर में भी रहने वाला भारतीय समुदाय दिवाली मनाता है। देश में बने भारतीय रेस्तरां (Restaurant) इस मौके पर विशेष मेन्यू (Menu) भी पेश करते हैं। अमेरीका (America) :- एशिया से बड़ी संख्या में आप्रवासी अमेरिका जाते हैं, जिसमें भारतीयों का भी अच्छा खासा हिस्सा है। अमेरिका जाकर बसे भारतीयों ने दिवाली को यहां मशहूर कर दिया है और यहां के कुछ बड़े शहरों में दिवाली के मौके पर जलूस भी निकाला जाता है।
ऑस्ट्रेलिया (Australia) :- ऑस्ट्रेलिया में एक बड़ी भारतीय आबादी के साथ, सिडनी और मेलबर्न जैसे शहरों में समुदाय के कई हिस्सों में दिवाली मनाई जाती है। सबसे विशेष रूप से, ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में फेडरेशन स्क्वायर (Federation Square) में दिवाली ऑस्ट्रेलिया में सबसे बड़ा उत्सव बन गया है।
नेपाल (Nepal) :- भारत का पड़ोसी देश नेपाल बहुत धूमधाम से दिवाली मनाता है, हिंदू बहुल नेपाल में दिवाली को तिहार कहते हैं और यहां ये पर्व पांच दिन तक मनाया जाता है। स्थानीय लोग लक्ष्मी के साथ-साथ गाय और कुत्ते जैसे कुछ जानवरों की पूजा भी करते हैं और लोग घर-घर जाकर मिठाई बांटते हैं।
ऐतिहासिक रूप से, दिवाली का पर्व प्राचीन भारत से ही मनाया जा रहा है, यह संभवतः सबसे महत्वपूर्ण फसल उत्सव के रूप में शुरू हुआ था। हालाँकि, दिवाली की उत्पत्ति की ओर इशारा करने वाले विभिन्न किंवदंतियाँ हैं:
कुछ लोग दिवाली को भगवान विष्णु के साथ धन की देवी लक्ष्मी के विवाह के उत्सव के रूप में मनाते हैं। अन्य लोग इसे उनके जन्मदिन के उत्सव के रूप में उपयोग करते हैं, जैसा कि कहा जाता है कि लक्ष्मी का जन्म कार्तिक के अमावस्या के दिन हुआ था। जबकि सबसे आम मान्यता यह है कि त्रेता युग में इस दिन भगवान राम 14 वर्ष के वनवास और रावण का वध करके अयोध्या लौटे थे। इसी खुशी में अयोध्यावासियों ने समूची नगरी को दीपों के प्रकाश से जगमग कर जश्न मनाया था और इस तरह तभी से दीपावली का पर्व मनाया जाने लगा। एक अन्य लोकप्रिय कथा के अनुसार, द्वापर युग काल में, भगवान विष्णु ने कृष्ण के अवतार में दानव नरकासुर (जो वर्तमान असम के निकट प्रागज्योतिषपुरा का दुष्ट राजा था) का वध किया था और नरकासुर से 16,000 लड़कियों को मुक्त कराया था। दिवाली से एक दिन पहले को नरक चतुर्दशी के रूप में याद किया जाता है, जिस दिन भगवान कृष्ण द्वारा नरकासुर का वध किया गया था।

पाँच दिन के इस त्यौहार के प्रत्येक दिन की अपनी कहानी है। त्यौहार के पहले दिन, नरक चतुर्दशी भगवान कृष्ण और उनकी पत्नी सत्यभामा द्वारा राक्षस नरका के वध का प्रतीक है। दीपावली के दूसरे दिन अमावस्या को देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है और ऐसा माना जाता है कि इस दिन देवी लक्ष्मी काफी कृपालु भाव में होती है और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाओं को पूरा करती है। वहीं दिवाली के इस दिन घरों को रोशनी से रोशन किया जाता है, और आसमान में पटाखे स्वास्थ्य, धन, ज्ञान, शांति, और समृद्धि की प्राप्ति के लिए आकाश की अभिव्यक्ति करता है। एक मान्यता के अनुसार, पटाखों की ध्वनि पृथ्वी पर रहने वाले लोगों की खुशी को इंगित करती है, जिससे देवताओं को उनके प्रचुर स्थिति के बारे में पता चलता है। एक और संभावित कारण का एक अधिक वैज्ञानिक आधार यह है: पटाखों द्वारा उत्पादित धुएं बारिश के बाद भरपूर मात्रा में उत्पादित मच्छरों सहित कई कीड़ों को मारते हैं।
रोशनी, जुआ और मस्ती से परे, दिवाली जीवन को प्रतिबिंबित करने और आगामी वर्ष के लिए बदलाव लाने का समय है। दिवाली के दौरान दूसरों के द्वारा किए गए गलतियों को भुला देना चाहिए और उन्हें माफ कर देना चाहिए। ब्रह्ममुहूर्त (सुबह 4 बजे, या सूर्योदय से 1 1/2 घंटे पहले) के दौरान जागना स्वास्थ्य, नैतिक अनुशासन, कार्य में दक्षता और आध्यात्मिक उन्नति के दृष्टिकोण से काफी अच्छा माना जाता है। जिन ऋषियों ने इस दीपावली प्रथा को स्थापित किया है, वे उम्मीद कर सकते हैं कि उनके वंशज इसके लाभों को महसूस करेंगे और इसे अपने जीवन में एक नियमित आदत बना लेंगे। साथ ही दिवाली की रोशनी मनुष्य को अपने अंदर की रोशनी को जगाने के लिए प्रेरित करती है। हिंदुओं का मानना है कि रोशनी का प्रकाश वह है जो हृदय के कक्ष में लगातार चमकता है। शांत बैठना और इस परम ज्योति पर मन को स्थिर करना आत्मा को रोशन करता है। यह अनन्त आनंद की खेती और आनंद लेने का अवसर है।

संदर्भ :-
https://www.thesun.co.uk/news/4221379/diwali-hindu-festival-lights-india-origins/
https://en.wikipedia.org/wiki/Diwali
https://www.makemytrip.com/blog/diwali-around-the-world
https://www.shethepeople.tv/top-stories/diwali-celebrated-around-world/
https://bit.ly/2W3IrSf
https://www.keranews.org/post/diwali-celebrating-awareness-inner-light
https://www.learnreligions.com/diwali-festival-of-lights-1770151
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि दीया जलाकर दिवाली का उत्सव दिखाती है।(india)
दूसरी छवि दिखाती है कि दिवाली हिंदू मान्यता का जश्न मनाती है कि अच्छाई हमेशा बुराई पर विजय प्राप्त करेगी।(getimages)
तीसरी छवि रोशनी और आतिशबाजी के साथ स्थानों को सजाकर दीपावली मनाने का है।(winni)


RECENT POST

  • विशिष्ट व्यवहार प्रदर्शित करते हैं, मांसाहारी पौधे
    व्यवहारिक

     26-02-2021 10:09 AM


  • जितना लाभकारी उतना ही घातक सीसा
    खनिज

     25-02-2021 10:23 AM


  • इलेक्ट्रिक परिवहन को बढ़ावा देने हेतु किये जा रहे हैं, अनेकों प्रयास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     24-02-2021 10:08 AM


  • लखनऊ में भी दी जाती है शिकस्त लिपि की शिक्षा
    ध्वनि 2- भाषायें

     23-02-2021 11:21 AM


  • शिक्षा प्रणाली में बहुभाषाओं को अपनाने का उद्देश्‍य
    ध्वनि 2- भाषायें

     22-02-2021 10:06 AM


  • एक घायल शिकारी शिकरा बाज का बचाव
    पंछीयाँ

     21-02-2021 03:11 AM


  • घोड़े की सुंदर और मजबूत नस्लें हैं, नेबस्ट्रुपर और मारवाड़ी घोड़ा
    स्तनधारी

     20-02-2021 10:20 AM


  • कोविड-19 (COVID-19) के सुरक्षात्‍मक उपायों का अन्‍य संक्रामक बिमारियों पर प्रभाव
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-02-2021 10:26 AM


  • राजगीर पहाड़ियां
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-02-2021 09:45 AM


  • शहरीकरण की चुनौतियां और साझा सफलता को बढ़ावा देने का महत्व
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     17-02-2021 09:02 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id