भारतीय संस्कृति और भाई दूज

लखनऊ

 16-11-2020 04:11 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

भारतीय संस्कृति पूरे विश्व में लोकप्रिय है। जैसे कि भारत के कोने-कोने की अपनी कहानी, अपना इतिहास है और यहां की संस्कृति बहुत ही बहुरंगी है। जब लोग भारतीय संस्कृति के बारे में जानना चाहते हैं तो उन्हें हिदायत दी जाती है कि त्योहारों के मौसम में भारत आकर होली, दिवाली, ओणम, नवरात्रि, रक्षाबंधन, भाई दूज के बहाने विभिन्न रीति-रिवाजों और आयोजनों का आनंद लें, साथ ही इनके आयोजन से जुड़े पौराणिक और प्राचीन कथा प्रसंगों का भी ज्ञान लाभ लें। भारत की आत्मा त्योहारों में ही बसती है।


क्यों मनाते हैं भाई दूज: भाई दूज हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है। इस दिन बहनें अपने भाइयों की लंबी उम्र के लिए ईश्वर की प्रार्थना करती हैं। साथ ही भाई की समृद्धि की भी कामना करती हैं। बहने भाई के माथे पर पवित्र तिलक लगाती हैं, भाई उन्हें उपहार देते हैं। इस संबंध में कई पौराणिक कथाएं हैं। मृत्यु के देवता यमराज अपनी बहन यमुना से मिलने गए, तो बहन ने भाई के माथे पर तिलक किया और उनकी आरती उतारी। मिठाई खिलाई। इससे प्रभावित होकर यम ने वचन दिया कि जो भाई आज के दिन अपनी बहन से टीका और आरती करवाएगा, उसे कभी मृत्यु का भय नहीं होगा। इसीलिए इस दिन को यम द्वितीया भी कहा जाता है। दूसरी कथा में भगवान कृष्ण राक्षस राजा नरकासुर का वध करने के बाद अपनी बहन सुभद्रा के पास जाते हैं, तो वह पवित्र दिए, फूल और मिठाइयों से उनका स्वागत करती हैं और कृष्ण के माथे पर रक्षात्मक तिलक करती हैं। इसी तरह की कई और कथाएं हैं, जो भारत भर में प्रचलित हैं।
बंधन भाई बहन का

वास्तव में भाई बहन में बहुत ही खास तरह का लगाव होता है। एक दूसरे के खास दोस्त होते हैं। एक दूसरे की रक्षा करते हैं। आपस में सम्मान करते हैं। एक दूसरे की खास बातें बांटते हैं। आपस में बिना शर्त का स्नेह संबंध रखते हैं। बहुत मुश्किल होता है भाई बहन के बीच की भावनाओं, प्यार और एहसास को बयान करना।

भाई दूज की दुर्लभ कथाएं
भाई दूज की कथा जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर से भी जुड़ी है। जब भगवान महावीर का निर्वाण हुआ, तो उनके भाई राजा नंदी वर्धन उनकी याद में बहुत दुखी हुए। उस समय उनकी बहन सुदर्शना ने धीरज बंधाया। इस प्रसंग से भाई बहन के त्यौहार भाई दूज का जन्म हुआ, जिसमें भाई अपनी बहनों पर श्रद्धा रखते हैं और उन पर प्रेम और उपहार बरसाते हैं। दूसरी कथा भगवान विष्णु से जुड़ी है। महाबली ने भगवान विष्णु से एक वरदान मांगा जिसमें भगवान विष्णु को पाताल लोक के सभी दरवाजों पर मौजूद होना था। भगवान विष्णु राजी हो गए और द्वार पालक बन गए। जब देवी लक्ष्मी ने यह बात नारद मुनि से जानी तो वह बहुत परेशान हो गई। उन्होंने तय किया कि वह भगवान विष्णु को उनके सही स्थान पर वापस लेकर आएंगी। इसके लिए उन्होंने एक चाल चली। एक गरीब औरत के भेष में बाली के पास जाकर उन्होंने सहायता मांगी कि उनके कोई भाई नहीं है। बाली ने उन्हें बहन के रूप में मान लिया और कहा कि कोई अपनी इच्छा बताओ। देवी लक्ष्मी ने कहा कि वह उनके पति भगवान विष्णु को अपनी सेवा से हटा दें। बाली ने अपना वादा निभाया और भगवान विष्णु को छोड़ दिया। इस तरह भाई-बहन के मजबूत रिश्ते की याद में त्यौहार की शुरुआत हुई ।

सन्दर्भ:
https://www.ndtv.com/india-news/bhai-dooj-2017-history-and-significance-1764166
https://www.fnp.com/article/bhai-dooj
https://www.quora.com/What-is-the-significance-of-Bhai-Dooj-in-Indian-culture
https://bit.ly/33XTzTF
http://www.bhaidooj.org/bhai-teeka-on-bhai-dooj.html
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि भाई दूज के इतिहास को दर्शाती है।(new woman)
दूसरी छवि भाई दूज त्यौहार का कारण, यमराज और यमी की छवि को दर्शाती है।(istock)
तीसरी छवि में भाई दूज का उत्सव दिखाया गया है।(canva)


RECENT POST

  • बैसाखी के महत्व को समझें और जानें कि सिख समुदाय में बैसाखी का त्योहार कितना खास है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2021 01:08 PM


  • दुनिया के सबसे लंबे सांप के रूप में प्रसिद्ध है,जालीदार अजगर
    रेंगने वाले जीव

     13-04-2021 01:00 PM


  • क्यों लैलत-अल-क़द्र वर्ष की सबसे महत्वपूर्ण रात मानी जाती है?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     12-04-2021 10:10 AM


  • भिन्‍नता में एकता का प्रतीक कच्‍छ का रण
    मरुस्थल

     11-04-2021 10:00 AM


  • लबोर एट कॉन्स्टेंटिया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     10-04-2021 10:28 AM


  • कैसे रोका जा सकता है वृद्धावस्‍था को?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-04-2021 10:13 AM


  • उत्तर प्रदेश के किसानों के बीच अत्यधिक लोकप्रिय है, मेंथॉल मिंट की खेती
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     08-04-2021 09:57 AM


  • पठानों द्वारा विकसित किये गये थे, मलिहाबाद के आम बागान
    साग-सब्जियाँ

     07-04-2021 10:10 AM


  • असली क्रिसमस के पेड़ों की मांग में देखी जा रही है बढ़ोतरी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     06-04-2021 10:07 AM


  • अवैध शिकार के कारण विलुप्त होने की कगार पर प्रवासी पक्षी प्रजातियां
    पंछीयाँ

     05-04-2021 09:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id