अपने वंशक्रम की एक मात्र जीवित प्रजाति है, तीन आँखों वाला तुतारा

लखनऊ

 06-01-2021 01:57 AM
रेंगने वाले जीव

किसी जीव की तीसरी आंख को देखना आपके लिए आश्चर्य का कारण बन सकता है, किंतु तुतारा (Tuatara) जो कि, रिंकोसिफालिया (Rhynchocephalia) वंशक्रम से सम्बंधित है, इस आश्चर्य को उत्पन्न करने में सक्षम है। दूसरे शब्दों में यह एक ऐसा सरीसृप है, जिसमें तीसरी आंख मौजूद होती है। वंश रिंकोसिफालिया छिपकली जैसे सरीसृपों के वंशक्रम से सम्बंधित है, जिसमें केवल एक ही जीवित प्रजाति शामिल है। यह जीवित प्रजाति तुतारा है, जिसे न्यूजीलैंड (New zealand) का स्थानिक जीव माना जाता है। एक समय में रिंकोसिफालिया वंशक्रम के अंतर्गत कई परिवार शामिल थे, किंतु इनमें से अब कई विलुप्त हो चुके हैं। अधिकांश रिंकोसिफालिया, समूह स्फिनोडोंशिआ (Sphenodontia) से संबंधित हैं। वैज्ञानिक तौर पर, स्फेनोडोन पैक्टाटस (Sphenodon Punctatus) के नाम से जाना जाने वाले तुतारा का सबसे हालिया सामान्य पूर्वज स्क्वैमेट्स (Squamates - छिपकली और सांप) है। यही कारण है कि, तुतारा के अध्ययन के साथ-साथ छिपकलियों और सांपों का अध्ययन भी किया जा रहा है। हालांकि, यह दिखने में छिपकलियों के समान लगता है, किंतु वास्तव में यह एक अलग वंश का हिस्सा है। अपने वंश की यह एकल प्रजाति लगभग 25 करोड़ साल पहले उत्पन्न होकर मध्य मेसोजोइक (Mesozoic) युग में विकसित हुई। तुतारा की बाह्य संरचना की बात करें तो, सिर से लेकर पूंछ के सिरे तक इसका आकार लगभग 80 सेंटीमीटर (31 इंच) का होता है। इसके अलावा इसका शरीर हरे और भूरे रंग का है। इसका वजन लगभग 1.3 किलोग्राम आंका गया है। तुतारा के ऊपरी जबड़े में दांतों की दो पंक्तियाँ होती हैं, जो निचले जबड़े पर मौजूद पंक्ति को ओवरलैप (Overlap) करती हैं। यह विशेषता इसे जीवित प्रजातियों में अद्वितीय बनाती है। इनमें बाहरी कानों का अभाव होता है, लेकिन फिर भी वे सुनने में सक्षम होते हैं। तुतारा की मुख्य विशेषता इसके सिर के शीर्ष पर मौजूद तीसरी आंख है, जिसे पार्श्विका आंख भी कहा जाता है। पार्श्विका आंख में लेंस (Lens), कॉर्निया (Cornea) जैसे दिखने वाला पार्श्विका प्लग (Plug), रॉड (Rod) जैसी संरचनाओं के साथ रेटिना (Retina), तथा पतले तंत्रिका कनेक्शन (Nerve connection) होते हैं। यह आँख मुख्य रूप से केवल अंडों से निकले नये तुतारा में ही स्पष्ट रूप से दिखायी देती है। इसका उद्देश्य अज्ञात है, लेकिन यह विटामिन डी (Vitamin D) का उत्पादन करने के लिए पराबैंगनी किरणों को अवशोषित करने में उपयोगी हो सकती है।
इन पर पायी जाने वाली तीसरी आंख सर्कैडियन (Circadian) और मौसमी चक्र को सेट (Set) करने में भी उपयोगी होती है। पार्श्विका आंख, छवियों को केंद्रित नहीं कर सकती। प्रकाश-संवेदनशील कोशिकाओं के समूह के साथ इसमें मौजूद अल्पविकसित रेटिना और लेंस, इसे प्रकाश और अंधेरे में होने वाले बदलावों के प्रति संवेदनशील बनाता है। इसके कारण यह अपने ऊपर आये खतरों की पहचान आसानी से कर सकता है। इसके अलावा इस आंख के ज़रिए यह जीव आकाश में सूर्य की सटीक गति की भी पहचान कर सकते हैं, विशेषकर तब जब उन्हें अपने शरीर को गर्म करने के लिए सूर्य की रोशनी की आवश्यकता होती है। एक अध्ययन के अनुसार पार्श्विका आंख नेविगेशन (Navigation) में भी महत्वपूर्ण है। वयस्क तुतारा प्रायः स्थलीय और निशाचर सरीसृप होते हैं, लेकिन अपने शरीर को गर्म करने के लिए वे अक्सर धूप में तपते हैं। तुतारा को कभी-कभी "जीवित जीवाश्म" भी कहा जाता है। हालांकि, तुतारा ने अपने मेसोजोइक पूर्वजों की रूपात्मक विशेषताओं को संरक्षित किया है, लेकिन इसका समर्थन करने के लिए एक अविरल जीवाश्म रिकॉर्ड (Record) का कोई साक्ष्य नहीं है। इसके जीनोम (Genome) की मैपिंग (Mapping) करते समय, शोधकर्ताओं ने पाया कि प्रजातियों में डीएनए अनुक्रम (DNA sequence) के 500 से 600 करोड़ क्षार युग्म हैं, जो मानवों में मौजूद क्षार युग्मों से लगभग दोगुना है।
तुतारा के सम्बंध में एक अन्य मुख्य बात यह है कि, यह पृथ्वी पर सबसे तेजी से विकसित होने वाला जीव है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि, हालांकि तुतारा विकास के बहुत लंबे समय तक शारीरिक रूप से अपरिवर्तित रहे हैं, लेकिन वे डीएनए स्तर पर किसी भी अन्य जानवर की तुलना में तेजी से विकसित हो रहे हैं। किसी भी अन्य जीव की तुलना में तुतारा की आणविक विकास दर सबसे अधिक है, जो इसे जानवरों के बड़े साम्राज्य में शामिल करती है।

संदर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Tuatara
https://en.wikipedia.org/wiki/Rhynchocephalia
https://bit.ly/2L22RtK
https://bit.ly/3rVTPPz
चित्र संदर्भ:
मुख्य चित्र में तुतारा को दिखाया गया है। (विकिमीडिया)
दूसरी तस्वीर में तुतारा को दिखाया गया है। (विकिमीडिया)
तीसरी तस्वीर में तुतारा को दिखाया गया है। (विकिमीडिया)


RECENT POST

  • आखिर क्‍यों होती हैं जानवरों के शरीर में धारियां?
    निवास स्थान

     23-06-2021 08:28 PM


  • प्रवासी उद्यमियों से विभिन्न देशों को होने वाले लाभ
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-06-2021 10:16 AM


  • विश्व भर में मांस के विकल्प के तौर पर उपयोग किया जा रहा है. भारतीय कटहल
    साग-सब्जियाँ

     22-06-2021 08:17 AM


  • सदियों पुराना पारिजात वृक्ष जिसका संबंध महाभारत काल से है
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-06-2021 07:26 AM


  • कार्टूनों के साथ संगी का शास्त्रिय संगीत का अनोखा संबंध
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-06-2021 12:28 PM


  • क्या बदलाव आए हैं शहरीकरण की वजह से जानवरों के जीवन पर?
    स्तनधारी

     19-06-2021 02:08 PM


  • प्रतिकूल मौसम में आउटडोर खेलों के लिए उपयुक्त वातावरण उपलब्ध करवाते हैं. रिट्रैक्टेबल रूफ
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-06-2021 09:35 AM


  • लखनऊ की सफेद बारादरी का रोचक इतिहास जो शोक स्थल से समारोह स्थल में बदल गई
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     17-06-2021 10:45 AM


  • महामारी के कारण स्थगित क्रिकेट टूर्नामेंट का क्रिकेट अर्थव्यवस्था पर गंभीर प्रभाव
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     15-06-2021 08:49 PM


  • कोरोना के दौरान उभरे नए शब्‍दों का एतिहासिक परिदृश्‍य
    ध्वनि 2- भाषायें

     15-06-2021 12:16 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id