Post Viewership from Post Date to 28-Jan-2021 (5th day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1793 56 0 0 1849

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

लखनऊ विश्‍वविद्यालय का संक्षिप्‍त इतिहास

लखनऊ

 23-01-2021 12:18 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

लखनऊ अपनी संस्कृति, समृद्ध इतिहास, स्मारकों, अद्भूत ऐतिहासिक आकर्षण आदि के लिए जाना जाता है। यदि शहर में मौजूद अद्भुत चीजों को सूचीबद्ध किया जाए तो लखनऊ विश्वविद्यालय शीर्ष पर आएगा। 1919 में स्थापित हुए लखनऊ विश्वविद्यालय को आज 100 वर्ष से भी ऊपर हो गए हैं. लगभग 225 एकड़ की भूमि में फैले इस विश्‍व विद्यालय की शुरूआत मात्र दो कमरों से हुयी थी जो आज भारत के सबसे पुराने आवासीय विश्‍वविद्यालयों में से एक है. हुसैनाबाद कोठी में अस्थायी स्कूल के रूप में शुरू होकर यह अमीनाबाद के अमीनुद्दौला पार्क, कैसरबाग में परीखाना (वर्तमान भातखंडे संगीत सम संस्थान), लाल बारादरी होते हुए आखिर में बादशाहबाग स्थित वर्तमान परिसर तक पहुंचा। खान बहादुर शेख सिद्दीकी अहमद साहब द्वारा उर्दू में लिखी गई मशहूर पुस्‍तक अंजुमन-ए-हिंद (Anjuman-e-Hind) में कैनिंग कॉलेज (Canning College) की स्थापना का विस्तृत विवरण दिया गया है। ब्रिटिश भारत (British India) के पहले वायसराय चार्ल्स जॉन कैनिंग (Charles John Canning ) ने 1862 में लंदन (London) में अंतिम सांस ली। इन्‍हें 1857 के भारतीय विद्रोह के दौरान अपनी वफादारी के लिए एक तालुक (एक जिले के उपखंड) से पुरस्कृत किया गया था। लंदन से लगभग 4,500 मील दूरी पर अवध में इनके वफादार तालुकेदारों के एक समूह ने इनकी स्मृति में एक शैक्षणिक संस्थान शुरू करने का निर्णय लिया.
तालुकेदारों द्वारा 18 अगस्त 1862 में अवध में इससे संबंधित पहली बैठक की गयी। 22 नवंबर को ताल्लुकेदारों की दूसरी बैठक हुयी जिसमें इन्‍होंने अपनी योजना की सूचना सरकार को देने का निर्णय लिया। तीसरी बैठक 7 दिसंबर 1862 को हुई, जिसमें निर्णय लिया गया कि हर ताल्लुकेदार अपने यहां की मालगुजारी (कर के रूप में प्राप्त रकम) का आधा फीसदी इस शैक्षणिक संस्था के लिए देगा। बैठक में यह भी तय हुआ कि इसी रकम के बराबर की राशि सरकार से देने का अनुरोध किया जाएगा। सरकार ने ताल्लुकेदारों के इस प्रस्ताव को मान लिया तथा एक मई 1864 में हुसैनाबाद में कैनिंग कॉलेज की शुरुआत हुयी। ख्यालीगंज, अमीनाबाद की तंग गलियों में स्थित एक हवेली के दो कमरों में 200 छात्रों के साथ इस विद्यालय की शुरूआत की गयी. मालगुजारी से दिए गए पैसों का आधा हिस्‍सा कैनिंग कॉलेज और आधा हिस्‍सा उस संस्थान जिसमें सिर्फ ताल्लुकेदारों के बच्चे पढ़ाई करेंगे, के लिए गया। ताल्लुकेदारों के बच्चों के लिए यह विशिष्ट संस्थान 1889 में कॉल्विन ताल्लुकेदार्स (Colvin Talukedars) के रूप में सामने आयी। उससे पहले आम और खास सभी के बच्चे कैनिंग कॉलेज में ही पढ़ते थे। वर्ष 1864 में अपनी स्थापना के बाद अगले दो साल तक यहां पर सिर्फ हाईस्कूल (high school) तक की पढ़ाई हुआ करती थी। आगरा कॉलेज के प्रिंसिपल टॉमस साहब (Principal Tomas Saheb) की निगरानी में यह विद्यालय कलकत्ता विश्‍व विद्यालय से संबद्ध था। वर्ष 1887 में इलाहाबाद विवि बनने के बाद यह कलकत्ता की बजाय इलाहाबाद विश्‍व विद्यालय से संबद्ध हो गया। कैनिंग कॉलेज में वर्ष 1864 से डिग्री कक्षाओं (Degree classes) की शुरुआत की गई। शुरुआत में डिग्री स्तर पर सिर्फ आठ विद्यार्थी ही थे। हालांकि कुल विद्यार्थियों की बात करें तो 1865 में 377 थी जो 1869 तक 666 हो गयी। अवध के कमिश्नर को इस विद्यालय समिति का अध्यक्ष तथा अंजुमन-ए-हिंद के सचिव को इसका सचिव बनाया गया। इन्हीं की निगरानी में यह विद्यालय संचालित होता रहा। कैनिंग कॉलेज में वर्ष 1884 तक सभी कक्षाएं एक साथ चलती रहीं। इसके बाद प्राइमरी कक्षाओं (Primary classes) को अलग कर दिया गया। 1887 में मिडिल की कक्षाएं (Middle classes) भी अलग कर दी गईं। 1919 के एक विधेयक के माध्‍यम से इस कॉलेज को एक विश्वविद्यालय में बदलने का प्रस्ताव रखा गया जो एक शताब्दी बाद आज लखनऊ के गौरव के रूप में खड़ा है। लखनऊ में एक विश्वविद्यालय की स्थापना का विचार राजा सर मोहम्मद अली मोहम्मद खान, खान बहादुर, के.सी.आई.ई. महमूदाबाद द्वारा दिया गया था। उन्होंने तत्कालीन लोकप्रिय अखबार द पायनियर (The Pioneer) में लखनऊ में एक विश्वविद्यालय की नींव रखने का आग्रह करते हुए एक लेख में योगदान दिया था। सर हरकोर्ट बटलर (Sir harcourt butler), संयुक्त प्रांत के लेफ्टिनेंट-गवर्नर, को विशेष रूप से सभी मामलों में मोहम्मद खान का निजी सलाहकार नियुक्त किया गया। विश्वविद्यालय को अस्तित्व में लाने के लिए पहला कदम तब उठाया गया, जब शिक्षाविदों की एक सामान्य समिति ने 10 नवंबर 1919 को गवर्नमेंट हाउस (Government House), लखनऊ में एक सम्मेलन में मुलाकात की और जो व्यक्ति रूचि रखते थे उनकी नियुक्ति की गयी। इस बैठक में सर हरकोर्ट बटलर (Harcourt Butler), समिति के अध्यक्ष, ने नए विश्वविद्यालय के लिए प्रस्तावित योजना की रूपरेखा तैयार की। 13 अगस्त 1920 को इलाहाबाद विवि में ले. गवर्नर सर हरकोर्ट बटलर (L. Governor Sir Harcourt Butler) की अध्यक्षता में विशेष बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय स्थापित करने की जानकारी दी। इसके साथ ही यूनिवर्सिटी (University) और स्कूल टीचिंग (School teaching) के बीच की लाइन इंटरमीडिएट (Line intermediate) करने की बात भी तय हुई। इसी कैनिंग कॉलेज को 25 नवंबर 1920 को विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया और 1921 में यहां पढ़ाई की शुरुआत हो गई। लखनऊ विश्वविद्यालय में 1921 में शुरू हुए पहले शैक्षिक सत्र में डिग्री के साथ ही 12वीं के विद्यार्थी भी शामिल थे। इंटरमीडिएट का बैच पास होने के बाद अगले साल यानी 1922 में यहां इंटर (Inter) की पढ़ाई बंद हो गई। सर स्विंटन जैकब (Sir Swinton Jacob,) द्वारा इस विश्वविद्यालय को इंडो सारसैनिक (Indo-Saracenic) शैली में तैयार करवाया गया, यह जयपुर शहर के डिजाइन (Design) के मुख्य अभियंता भी थे। इस विश्वविद्यालय के केन्द्रीय पुस्तकालय (जो कि टैगोर पुस्तकालय के रूप मे जाना जाता है) की रूप रेखा सर वाल्टर ग्रिफ़िन (Sir Walter Griffin) ने तैयार की थी. ग्रिफ़िन ने औस्ट्रेलिया (Australia) के कैनबरा (Canberra) शहर का डिजाइन भी तैयार किया था। इस विश्वविद्यालय के निर्माण मे दिल्ली के निर्माणकर्ता लुटियन्स (Edwin Lutyens) और हरबर्ट बेकर (Herbert Baker) ने भी सहायता की थी।
पाठ्यक्रमों की भिन्‍नता के साथ इस छात्रावास में पुस्‍तकालय और अन्‍य कई सुविधाएं मौजूद हैं, यह विश्वविद्यालय किसी अमूल्‍य ऐतिहासिक अवशेषों से कम नहीं है. लखनऊ को लंबे समय से ललित कला, संस्कृति और उच्च शिक्षा के अधिवक्ता के रूप में जाना जाता है और जिसे इस विश्वविद्यालय जीवित रखा गया है। यह विश्वविद्यालय अपनी आश्चर्यजनक वास्तुकला, विशाल मैदान और प्रतिष्ठित प्राचीन इमारत के लिए भी प्रसिद्ध है।

संदर्भ:
https://bit.ly/2Y7odJ6
https://bit.ly/2Y4JzXH
https://en.wikipedia.org/wiki/University_of_Lucknow
https://bit.ly/398MBRa
https://bit.ly/398CP1h
चित्र संदर्भ:
मुख्य चित्र लखनऊ विश्वविद्यालय को दर्शाता है। (YouTube)
दूसरी तस्वीर लखनऊ विश्वविद्यालय की पुरानी और नई तस्वीरों को दिखाती है। (प्ररंग)
तीसरी तस्वीर में लखनऊ विश्वविद्यालय को दिखाया गया है। (YouTube)
आखिरी तस्वीर में लखनऊ विश्वविद्यालय को दिखाया गया है। (YouTube)


***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • लखनऊ में ईद का जश्न कोरोना महामारी के कारण काफी प्रभावित हुआ है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-05-2021 07:41 AM


  • मधुमक्खी पालने वाले कैसे अमीर हो रहे हैं और हमारी नन्ही दोस्त मधुमक्खी किस संकट में हैं?
    पंछीयाँतितलियाँ व कीड़े

     13-05-2021 05:24 PM


  • अपनी नैसर्गिक खूबसूरती के साथ भयावह नरसंहार का साक्ष्य सिकंदर बाग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     12-05-2021 09:29 AM


  • ग्रॉसरी उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री में सहायक हुई हैं,ई-कॉमर्स कंपनियां और कोरोना महामारी
    संचार एवं संचार यन्त्र

     10-05-2021 09:45 PM


  • शहतूत- साधारण किंतु अत्यंत लाभकारी फल
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें बागवानी के पौधे (बागान)साग-सब्जियाँ

     10-05-2021 08:55 AM


  • आनंद, प्रेम और सफलता का खजाना है, माँ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-05-2021 12:23 PM


  • मानव सहायता श्रमिक (Humanitarian Aid Workers)कोरोना काल के देवदूत हैं।
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     08-05-2021 09:05 AM


  • नोबल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ टैगोर का संगीत प्रेम तथा लखनऊ शहर से विशेष लगाव।
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिध्वनि 2- भाषायें विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     07-05-2021 10:00 AM


  • नृत्य- एक पारंपरिक और धार्मिक अभ्यास
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिद्रिश्य 2- अभिनय कला द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-05-2021 09:25 AM


  • मछलीपालन का इतिहास: क्या मछलीघर में उपयोग होने वाली दवा कोविड-19 से संक्रमित लोगों के उपचार
    पर्वत, चोटी व पठारनदियाँसमुद्र

     05-05-2021 09:18 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id