Post Viewership from Post Date to 31-Mar-2021 (5th day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1670 54 0 0 1724

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

चेहरे की पहचान ट्रैकिंग प्रणाली – सुरक्षा की दॄष्टि से वरदान या श्राप

लखनऊ

 26-03-2021 11:01 AM
संचार एवं संचार यन्त्र
भारतीय संविधान विश्व का सबसे बड़ा और लिखित संविधान है। इसमें भारतीय नागरिकों के मौलिक कर्तव्यों और अधिकारों को सम्मलित किया गया है। इन अधिकारों की सुरक्षा के लिए सरकार और प्रशासन सदैव तत्पर रहते हैं। अधिकारों के साथ-साथ नागरिकों की सुरक्षा हेतु विभिन्न नियम और कानून बनाए गए है जिनका पालन नागरिकों और प्रशासन द्वारा निरंतर रूप से किया जाता है। इन्हीं सुरक्षा नियमों के अंतर्गत चेहरे की पहचान ट्रैकिंग (Facial Recognition System (FRT)) प्रणाली पूरे देश में आरम्भ की गई है। यह न केवल भारत बल्कि विश्व के कई देशों में प्रचलित है। इस सिस्टम के अंतर्गत व्यक्ति की पहचान के लिए उसके चेहरे को किसी मशीन या कैमरे द्वारा स्कैन (Scan) किया जाता है। इसके लिए सार्वजनिक और अन्य स्थलों पर हाई-रेज़ोल्युशन कैमरे (High Resolution Camera) लगाए जाते हैं और उन कैमरों में कैप्चर (Capture) होने वाले व्यक्ति का चेहरा कैमरे में कैद हो जाता है। इस तकनीक से व्यक्ति की पहचान करने में त्रुटि की संभावना नहीं रहती है। फर्जी पहचान पत्र और गलत जानकारी से निजात पाने के लिए सरकार द्वारा इस प्रणाली को लागू किया गया है। वर्तमान समय में भारत के कई राज्यों में पहचान, सुरक्षा या प्रमाणीकरण की दॄष्टि से कुल 16 फेशियल रिकॉग्निशन ट्रैकिंग (FRT) सिस्टम सक्रिय रूप से कार्य कर रहे हैं। केंद्रीय सरकार का कहना है कि देश और देश के नागरिकों की सुरक्षा के लिए यह एक आवश्यक कदम है। हालाँकि कई लोग इस तकनीक की आवश्यकता पर सवाल उठा रहे हैं। एलाइड मार्केट रिसर्च ग्रुप (The Allied Market Research group) का कहना है कि चेहरे की पहचान का वैश्विक बाजार अगले दो सालों में 9.6 बिलियन डॉलर प्रतिवर्ष का व्यापार हो जाएगा।
परंतु कुछ कानूनी विशेषज्ञों का मानना है कि यह प्रणाली व्यक्तिगत निजता और संविधान में दिए गए स्वतंत्रता के अधिकार और अभिव्यक्ति के अधिकारों के विरुद्ध है। इस कारण यह भविष्य में मौलिक अधिकारों के लिए एक बड़ा खतरा बन सकता है। एक चिंता का कारण यह भी है कि यदि कोई व्यक्ति किसी सरकारी गतिविधि का विरोध गोपनीय रूप से करना चाहता है तो ऐसे में वह चेहरे की पहचान प्रणाली के माध्यम से अपनी गोपनीयता खो देगा जो भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन है। उदाहरण के लिए 26 जनवरी को भारत सरकार के एक निर्णय के विरुद्ध लाल किले में हुए हंगामे के दौरान मौजूद प्रदर्शनकारियों की पहचान करने के लिए चेहरे की पहचान तकनीक का उपयोग कर रही है। त्रिनेत्र (Trinetra) नामक एक ही सॉफ्टवेयर (Software) का उपयोग यूपी (UP) पुलिस द्वारा एंटी-सीएए (Anti-CAA) प्रदर्शनकारियों पर निगरानी रखने के लिए किया गया था जिसके बाद पुलिस ने 1,100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया। इससे यह बात सिद्ध होती है कि भारत में चेहरे की पहचान का उपयोग तेजी से बड़ रहा है। इसके आलावा, एकत्रित डेटा (Data) कहाँ और किस उद्देश्य से इस्तेमाल किया जा रहा है इसकी जानकारी आम नागरिक को नहीं होती। विशेषज्ञों का कहना है कि अन्य देशों की भाँति भारत में भी केंद्रीय सरकार ने इस प्रणाली से जुड़ी लोगों की चिंताओं को नजरअंदाज कर पूरे देश में ऑटोमेटेड फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम (Automated Facial Recognition System (AFRS)) को लागू करने की मंजूरी दी है। भारत में इस प्रणाली के ऑनलाइन (Online) हो जाने के बाद यह दुनिया की सबसे बड़ी चेहरे की पहचान प्रणाली बन जाएगी।
इंटरनेट फ्रीडम फाउंडेशन (The Internet Freedom Foundation (IFF)) के एक अनुमान के अनुसार वर्तमान में भारत में लगभग 42 चेहरे की पहचान परियोजनाएँ चल रही हैं। राष्ट्रीय स्तर पर महाराष्ट्र (Maharashtra) की स्वचालित मल्टीमॉडल बायोमेट्रिक पहचान प्रणाली (Automated Multimodal Biometric Identification System (AMBIS)) और तमिलनाडु के फेसटैगर (FaceTagr) की तुलना की जा रही है। इनमें से कम से कम 19 को सुरक्षा और निगरानी के उद्देश्य से राज्य स्तर के पुलिस विभागों द्वारा लागू किया जा रहा है। चिंता की बात यह है कि नागरिकों की व्यक्तिगत जानकारी को इस प्रकार बिना उनकी सहमति के उपयोग करने के लिए कोई भी विशिष्ट कानून अभी तक नहीं बना है फिर भी देश में इस तकनीक का इस्तेमाल तेजी से बढ़ता जा रहा है। कई समाजिक संगठनों जैसे इलेक्ट्रॉनिक फ्रंटियर फाउंडेशन (Electronic Frontier Foundation), अल्गोरिदमिक जस्टिस लीग (Algorithmic Justice League) और एमनेस्टी इंटरनेशनल (Amnesty International) ने इस तकनीक के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के लिए केंद्रीय सरकार से अनुरोध किया है। हालाँकि सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000, जो एक प्रकार के संवेदनशील व्यक्तिगत डेटा के रूप में बायोमेट्रिक डेटा (Biometric Data) को वर्गीकृत करता है, में इस तरह की जानकारी के संग्रह, प्रकटीकरण और साझा करने के नियम मौजूद हैं। परंतु अधिनियम में उल्लिखित नियम केवल कॉर्पोरेट (Corporate) क्षेत्र पर ही लागू होते हैं सरकार द्वारा बायोमेट्रिक फेशियल डेटा (Biometric Facial Data) के उपयोग पर नहीं। इस प्रकार यह प्रस्तावित निगरानी प्रणाली एक प्रतिकूल प्रतिक्रिया बन गई है क्योंकि इसमें बिना किसी सहमति के आबादी के बड़े क्षेत्रों पर चेहरे की पहचान तकनीक से कड़ी निगरानी की जा रही है। चूंकी इस प्रणाली के माध्यम से एकत्र किया गया डेटा पूरी तरह से सरकार और विभिन्न सरकारी व्यक्तियों के नियंत्रण में है और कोई सख्त कानून न होने के कारण उनकी जवाबदारी भी न के बराबर है। तो ऐसे में इस डेटा के दुरुपयोग होने की संभावना अधिक है। गूगल (Google) जैसी कई बड़ी टेक (Tech) कंपनियों ने चेहरे की पहचान के तकनीकी उपकरण बनाने से परहेज़ किया है। गूगल के चेयरमैन (Chairman) का कहना है कि बाजार में इन उपकरणों के आने से इनका उपयोग बहुत गलत तरीके से किया जा सकता है। इसके अलावा यदि यह डेटा शत्रु देश के हाथ लग जाए तो यह पूरे देश के लिए संकट का कारण भी बन सकता है। सैन फ्रांसिस्को (San Francisco) सहित कुछ बड़े शहरों में पुलिस द्वारा चेहरे की पहचान तकनीक के उपयोग पर रोक लगा दी गई है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3eZErh1
https://bit.ly/3tw1ZOO
https://bit.ly/3r3HZBA
https://bit.ly/2NzYyax
https://go.nature.com/3tBRc5E
https://nyti.ms/3lBAHE2

चित्र संदर्भ:
मुख्य चित्र चेहरे की पहचान दर्शाता है। (पिक्साबे)
दूसरी तस्वीर में महाराष्ट्र की स्वचालित मल्टीमॉडल बायोमेट्रिक पहचान प्रणाली को दिखाया गया है। (एड्रिस्टी)
तीसरी तस्वीर बायोमेट्रिक पहचान प्रणाली को दिखाती है। (पिक्साबे)


***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • अत्यधिक कठिन, महंगा और अवैध भी है कछुओं की कई प्रजातियों को घर में पालना
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत में चुनावी प्रक्रिया एवं संयुक्त राज्य अमेरिका से इसकी तुलना
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 09:10 AM


  • अंग्रेजी शब्द कोष में Pyjama आया है हिंदी-उर्दू शब्द पायजामा से
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:37 AM


  • अवध के पूर्व राज्यपाल एलामा ताफज़ुल हुसैन के पारंपरिक भारतीय विज्ञान पर लेख व् पुस्तकें
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 09:06 AM


  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id